राजपत्रित अधिकारियों ने उठाई समायोजन की मांग

ग्रेटर नोएडा। एक तरफ सरकार विभिन्न विभागों में रिक्त पड़े प्रशासनिक पदों की रिक्तियों पर योग्य अधिकारियों का चयन नहीं कर पा रही है वहीं कुछ विभागों में तमाम ऐसे अधिकारी भरे पड़े है जिनके पास विभिन्न कार्यक्रमों योजनाओं के आने के बाद अब कोई कार्य ही नहीं बचा है सरकार द्वारा इस संदर्भ में विभिन्न विभागों में निष्क्रिय पड़े पदों का व्यौरा मांग रही है ताकि इंहे अन्य विभागों में समायोजित करके उनकी समताओं का सदुपयोग कर सकें ।

कुछ ऐसी ही स्थिति है परिवार कल्याण विभाग में ब्लॉक स्तर पर तैनात स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारियों की यह अधिकारी लोक सेवा आयोग उत्तर प्रदेश द्वारा चयनित समूह ख के राजपत्रित अधिकारी हैं । राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की शुरुआत के बाद तमाम संविदा ठेके पदों पर भर्ती की गई है और अब स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी के पास कोई कार्य ही नहीं बचा है । राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से ही कमोवेश स्वास्थ्य विभाग की सारी योजनाएं संबंधित हो रही है और वहां के अधिकारी स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारियों को अपना कार्मिक स्वीकार करने को तैयार नहीं है प्रमुख प्रमुख सचिव ( स्वास्थ्य ) एवं महानिदेशक ( परिवार कल्याण ) के स्तर से जो आदेश अनेक संदर्भ में आते हैं वह भी निष्प्रभावी रहते हैं ।

इस समय प्रदेश में करीब 600 स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी कार्य कर रहे हैं जिनका चयन भी 10 वर्ष पूर्व हुआ है ऐसे में यदि इस युवा अधिकारी का अन्य विभागों के समान वेतनमान वाले प्रशासनिक पदों पर कर दिया जाए तो निश्चय ही कुछ सकारात्मक परिणाम मिल सकते हैं और उनके समायोजन से सरकार पर वेतन भत्ते के एवज में कोई अतिरिक्त बोझ भी नहीं पड़ेगा ।
दर असल स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी लंबे समय से अपनी विभिन्न मांगों को अस्वीकार किए जाने से अब विभागों के पुनर्गठन एवं अनुपयोगी पदों को अन्य विभागों से समायोजित करने की नवीन मंसा से अन्य विभागों में समायोजन की मांग कर रहे हैं इसके लिए वे मुख्यमंत्री व मुख्य सचिव लिखित रुप से अपनी गुहार लगा चुके हैं स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी का कहना है कि जब परिवार कल्याण विभाग में हमारा पद अनुपयोग हो गया है तथा तमाम अन्य विभागों में समान वेतनमान के विभिन्न पद लंबे समय से रिक्त हैं तो इनके सापेक्ष हम लोगों का समायोजन करने में दिक्कत ही क्या है ।

“परिवार कल्याण विभाग द्वारा स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी के अधिकारों का हनन किया जा रहा हैं हमारी ऊर्जा का सदुपयोग नहीं हो पा रहा है ऐसा प्रतीत होता है कि विभाग को हमारी आवश्यकता नही है इस लिये सभी स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी समायोजन चाहते है ।

सुनिता यादव, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी पीएचसी बिसरख व महासचिव, स्वास्थ्य शिक्षाधिकारी संघ गौतम बुद्ध नगर
“राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के केंद्रीय गाइड लाइन में स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी के कार्य एवं दायित्व न होने की स्थिति में अन्य विभाग में समायोजन चाहते है । —साभार: खालिद सैफी

यह भी देखे:-

गौतमबुद्ध नगर लोकसभा चुनाव : जानिए किन प्रत्याशियों के नामांकन हुए रद्द
COVID 19 : सांसद डॉ. महेश शर्मा ने कैलाश अस्पताल ग्रेनो का 100 बेड कोरोना महामारी के लिए समर्पित कि...
कोनरवा ने गौतमबुद्ध नगर चैप्टर का किया शुभारम्भ , पवन अम्बावता बने संयोजक
सुनील नागर बने भाकीयू के जिला मीडिया प्रभारी
इंडिया चेरिटेबल ट्रस्ट ने 350 जरूरतमंद बच्चों में किया गर्म कपड़ों का वितरण
रोटरी क्लब ग्रेनो ने किया जागरूक व दिया नारा "कोरोना को हराना है, भारत से भगाना है"
ईंट से भरा ट्रैक्टर ट्रॉली पलटा, दो की मौत, चार घायल
10 मई को भाकियू लोक शक्ति के कार्यकर्ता करेंगे अर्धनग्न प्रदर्शन
आवारा पशुओं की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो प्रधानमंत्री के सामने आवारा पशुओं के साथ करेंगे प्रदर्...
गौतमबुद्ध नगर जिले के इन 7 गुंडों पर लगा गैंगस्टर, दो जिला बदर
रोडवेज बस दुर्घटनाग्रस्त, दर्जन भर घायल
थानों में हुआ समाधान दिवस का आयोजन
जानिए क्यों, ग्रेनो प्राधिकरण अधिकारीयों का आरडब्लूए बीटा - 1 ने किया विरोध
बिना पंजीकरण कराए पीजी, गेस्ट हॉउस व होटल संचालन करने पर होगी कार्यवाही
एटीएम से निकला दो हजार का नकली नोट
ग्रेटर नोएडा : साईं बाबा की आज निकलेगी पालकी यात्रा