“पद्मावती” से “पद्मावत” बनने के बावजूद है जारी है महा संग्राम

नई दिल्ली। पद्मावती’ से ‘पद्मावत’ हो चुकी फिल्म को लेकर अभी भी महासंग्रास जारी है। फिल्म की रिलीजिंग को लेकर हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ कर दिया था कि फिल्म 25 जनवरी को देशभर में एक साथ रिलीज कराई जाए, लेकिन राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकारें अभी भी फिल्म के खिलाफ हैं। दरअसल, राजस्थान और मध्यप्रेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की है, जिस पर मंगलवार को सुनवाई की जाएगी। राजस्थान और मध्यप्रदेश की सरकारों ने सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के खिलाफ याचिका दाखिल की है, जिसमें कोर्ट ने चार राज्यों में फिल्म पर लगी रोक को हटाने का आदेश दिया था। इनमें राजस्थान, एमपी के अलावा हरियाणा और गुजरात का नाम शामिल था।

राजस्थान और मध्यप्रदेश सरकार की संशोधन याचिका पर सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनवाई करेगा। इस मामले में हरिष साल्वे वायाकॉम की सुनवाई के लिए मौजूद थे। आपको बता दें कि देशभर में ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को रिलीज होनी है। इससे पहले करणी सेना ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर नाराजगी जाहिर की है। करणी सेना का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी थियेटर मालिक हमसे पूछकर ही फिल्म को रिलीज करें। वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी देशभर में ‘पद्मावत’ का विरोध किया जा रहा है।

उत्तर भारत से लेकर दक्षिण तक फिल्म का विरोध किया जा रहा है। रविवार को तो हरियाणा के कुरुक्षेत्र में केसर मॉल में अज्ञात लोगों ने फायरिंग और तोड़ोफोड़ कर दी। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, ये लोग बाइक पर सवार होकर आए थे। हमलावर सीसीटीवी में कैद हुए हैं। इस घटना को लेकर सरकार की तरफ से कोई टिप्पणी नहीं आई है। हालांकि हरियाणा सरकार में मंत्री अनिल विज का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सरकार सभी थियेटर मालिकों को सुरक्षा देने के लिए तैयार है।

उधर राजस्थान में राजपूत समाज की महिलाओं ने भी फिल्म के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। राजपूत महिलाओं ने यहां फिल्म रिलीज होने पर सामूहिक जौहर की धमकी दी है। हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्टस में कहा जा रहा है कि अब महिलाओं ने ये सामूहिक जौहर स्थगित कर दिया है और अब उन्होंने राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की मांग की है। आपको बता दें कि राजपूत महिलाओं ने चित्तौड़गढ़ के किले में 24 जनवरी को सामूहिक जौहर की धमकी दी थी। श्रीराजपूत करणी सेना के प्रमुख महिपाल मकराना ने कहा था कि 24 जनवरी को राजपूत महिलाएं चित्तौड़गढ़ में जौहर करेंगी।

यह भी देखे:-

पाकिस्तान की हिरासत में है वायुसेना का पायलट, भारत ने सुरक्षित लौटाने को कहा
निर्भया के दोषियों को जल्द फांसी देने की अपील
COVID-19:देशव्यापी लॉकडाउन के बीच बुलंदशहर से साम्प्रदायिक सौहार्द मिसाल कायम करने वाली खबर
बजट 2018 : WIFI के लिए सरकार ने की घोषणा
अब सवर्णों को भी मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण, मोदी सरकार का बड़ा फैसला
वर्ष 2019 में आयोजित होने वाले “PRINTPACK INDIA” के 14वें संस्करण का उद्घाटन
आजादी से अब तक के कांग्रेस अध्यक्षों का सफर और अब नई सियासत की संभावना
COVID-19:सदमे में जर्मनी के मंत्री ने की खुदकुशी
आर्थिक आधार पर सवर्ण आरक्षण बिल लोकसभा में पारित
आदर्श आचार सहिंता लागू होते ही हटने लगे राजनीतिक होर्डिंग्स व पोस्टर
पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड कामरान और गाजी ढेर
देश में मोदी-शाह की जोड़ी के मैजिक के बाद भी राज्यों में सिकुड़ते साम्राज्य को बचाना भाजपा के सामने बड़...
AAP ने दिल्ली के छह सीटों पर उम्मीदवारों का किया ऐलान
भारतीय सेना ने राष्‍ट्र कवि दिनकर की कविता की पंक्तियों के माध्‍यम से संदेश व्यक्त किया
Auto Expo 2020: Batrixx ई-बाइक सिंगल चार्ज पर चलती है 300 km
स्कूल ऑफ बुद्धिस्ट स्टडीज एंड सिविलाइजेशन के संकाय सदस्यों का वियतनाम दौरा