समलैंगिकता और निजता का अधिकार , क्या कहता है कानून

निजता के अधिकार पर सुप्रीम कोर्ट के आर्डर का हवाला देते हुए अरविन्द दातर, सीनियर अधिवक्ता सुप्रीम कोर्ट ने नाज संस्था के लिए जैसे खुशियों का अम्बार ला दिया हो| चीफ जस्टिस ने यह कह कर ‘कि कोई व्यक्ति अपनी निजी पसंद व चयन के लिए डर के साये में नहीं जीना चाहिए’, नाज संस्था से जुड़े एक खास श्रेणी(LGBT) के लोगो के लिए कानून सम्मत नई पहचान बनाने के दरवाजे खोले है| सुप्रीम कोर्ट ने 11 दिसंबर 2013 को होमो सेक्सुअल्टी के मामले में दिए गए अपने ऐतिहासिक जजमेंट में समलैंगिगता मामले में उम्रकैद की सजा के प्रावधान के कानून को बहाल रखने का फैसला किया था। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के उस फैसले को खारिज कर दिया था जिसमें दो बालिगो के आपसी सहमति से समलैंगिक संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर माना गया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा जब तक धारा 377 रहेगी तब तक समलैंगिक संबंध को वैध नहीं ठहराया जा सकता।

चार साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को पलट दिया, और समलैंगिगता को अपराध माना

सुप्रीम कोर्ट ने 11 दिसंबर 2013 को होमो सेक्सुअल्टी के मामले में दिए गए अपने ऐतिहासिक जजमेंट में समलैंगिगता मामले में उम्रकैद की सजा के प्रावधान के कानून को बहाल रखने का फैसला किया था। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के उस फैसले को खारिज कर दिया था जिसमें दो बालिगो के आपसी सहमति से समलैंगिक संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर माना गया था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा जबतक धारा 377 रहेगी तब तक समलैंगिक संबंध को वैध नहीं ठहराया जा सकता।

आई पी सी की धारा 377

आईपीसी की धारा 377 के तहत 2 लोग आपसी सहमति या असहमति से से अननैचुरल संबंध बनाते है, और दोषी करार दिए जाते हैं तो उनको 10 साल की सजा से लेकर उम्रकैद की सजा हो सकती है। यह अपराध संजेय अपराध की श्रेणी में आता है और गैरजमानती है।
किसने दी थी धारा 377 को चुनौती
सेक्स वर्करों के लिए काम करने वाली संस्था नाज फाउंडेशन ने हाईकोर्ट में यह कहते हुए इसकी संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाया था कि अगर दो एडल्ट आपसी सहमति से एकांत में सेक्सुअल संबंध बनाते है तो उसे धारा 377 के प्रावधान से बाहर किया जाना चाहिए। 2 जुलाई 2009 को दिल्ली हाईकोर्ट का बड़ा फैसला आया था|2 जुलाई 2009 को नाज फाउंडेशन की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि दो व्यस्क आपसी सहमति से एकातं में समलैंगिक संबंध बनाते है तो वह आईपीसी की धारा 377 के तहत अपराध नहीं माना जाएगा| कोर्ट ने सभी नागरिकों के समानता के अधिकारों की बात की थी। अब इस मामले कि सुनवाई एक बड़ी सवैधानिक बेंच करेगी|

चार साल बाद सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को पलट दिया, और समलैंगिगता को अपराध माना|

आईपीसी की धारा 377 के तहत 2 लोग आपसी सहमति या असहमति से से अननैचुरल संबंध बनाते है और दोषी करार दिए जाते हैं तो उनको 10 साल की सजा से लेकर उम्रकैद की सजा हो सकती है। यह अपराध संजेय अपराध की श्रेणी में आता है और गैरजमानती है।

यह देखना बाकी है कि आखिरी फैसला किस प्रकार से आता है| चीफ जस्टिस का अवलोकन ही काफी वजन दार होता है और उच्तम न्यायालय के सच विचार का पता तो चलता ही है|


लेखक परिचय :

Lt.  Col. Atul Tyagiलेफ्टिनेंट कर्नल अतुल त्यागी दिल्ली हाई कोर्ट के अधिवक्ता है। श्री त्यागी ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी, यमुना अथॉरिटी, रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन, एजुकेशन इंस्टिट्यूशंस और कहिए जैसे संस्थानों से जुड़े हुए हैं। लेफ्टिनेंट कर्नल अतुल त्यागी सामाजिक व समसायिक विषयों पर अपने लेख के जरिये विचार व्यक्त करते रहते हैं। फिलहाल वो एक लॉ फर्म FAIR LAW PRACTITIONERS का संचालन ग्रेटर नोएडा में कर रहे हैं .


यह भी देखे:-

पूर्णिया के जिहादियों पर कठोर कार्यवाही कर पीड़ित महा-दलितों को मिले न्याय: विहिप
POK में घुसकर जैश के कई ठिकानों को तबाह किया
JNU Incident: वामपंथ के नकारात्मक विचारधारा का परिणाम :अनुराग त्यागी
जल्द तलाशना होगा आर्थिक मोर्चे पर सफलता पाने का मंत्र
मां और बड़े भाई का आशीर्वाद लेकर तेजस्वी ने राघोपुर से किया नामांकन
लॉयड लॉ कॉलेज के छात्रों के द्वारा दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट की सहमति , राष्ट्रीय महत्व के मुद्दे...
महंगाई बढ़ने की आशंका
मिथिलांचल को अलग राज्य का दर्जा दिलाना पहली प्राथमिकता: कृष्ण चंद्र झा
Happy New Year 2019 ने दी New ZeaLand's AUCKLAND में दस्तक, आतिशबाजी के साथ हुआ जोरदार स्वागत
विराट- अनुष्का का स्टायलिश रिसेप्शन आमंत्रण कार्ड सोशल मीडिया पर हुआ वायरल
कैराना लोकसभा सीट:प्रदीप चौधरी और तबस्सुम हसन में होगी कांटे की टक्कर
महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने दुनिया को कहा अलविदा
राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड और ईपीसीएच के बीच MOU पर हस्ताक्षर
नवजोत सिंह सिद्धू के समर्थन में उतरे कपिल शर्मा
चन्द्रयान2: चांद पर लैंडिंग से पहले विक्रम ने सिग्नल देना बन्द किया और फिर...
बिहार चुनाव: महागठबंधन के प्रेस कॉन्फ्रेंस में हुआ बवाल ,मुकेश सहनी ने कहा पीठ में घोंपा खंजर