चारा घोटाले में मिली लालू को सजा, 2400 पेज की फाइल में दस्तखत करने में जज ने खत्म कर दिए 4 पेन

रांची : बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में आज आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादवको सीबीआई कोर्ट ने 3.5 साल की सजा और पांच लाख का जुर्माना लगाया है . इससे पहले सीबीआई जज शिवपाल सिंह मामले की 2400 पेज की फाइल में दस्तखत करते हुए चार पेन की स्याही खत्म कर दिया.

लालू के अलावा 15 दोषियों के खिलाफ सजा का ऐलान हो चुका है। सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू यादव अलावा राजेंद्र प्रसाद, सुनील सिन्हा, सुशील कुमार समेत 6 दोषियों को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है। इसके अलावा कोर्ट ने लालू पर 5 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है जिसे ना भरने पर सजा 6 महीने के लिए बढ़ा दी जाएगी।

कोर्ट ने लालू को यह सजा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनाई। खबरों के अनुसार कोर्ट ने घोटाले में सप्लायर्स को सात साल की सजा सुनाई है वहीं आईएएस और ट्रेजरी अधिकारियों को भी साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख का जुर्माना लगया गया है।

इसके पहले शुक्रवार को अदालत ने लालू यादव और पूर्व सांसद डॉ.आरके राणा सहित पांच दोषियों के खिलाफ सजा के बिंदु पर सुनवाई शुक्रवार को पूरी हो गई। इसके पहले दोषी करार पांच अन्य की सुनवाई गुरुवार को पूरी हो चुकी है। अब बचे छह दोषियों की सजा के बिंदु पर सुनवाई शनिवार को होगी। इसके बाद अदालत इन्हें सजा सुनाएगी। सभी अभियुक्त बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल में बंद हैं।

दोषी करार जिन अभियुक्तों की ओर से शुक्रवार को सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत में सुनवाई हुई, उनमें लालू प्रसाद और राणा के अलावा फूलचंद सिंह, राजा राम जोशी व महेश प्रसाद शामिल हैं। कार्यवाही वीडियो कांफ्रेंसिंग ई-कोर्ट रूम से संचालित हुई। सुनवाई के दौरान महेश प्रसाद को छोड़ अन्य अभियुक्तों को बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया गया।

पेशी के दौरान लालू खामोश थे। कार्यवाही को गंभीरता से सुनने की कोशिश कर रहे थे। चेहरे का भाव सामान्य था। अभियुक्तों की ओर से उनके अधिवक्ता ने बहस की। स्वास्थ्य सहित अन्य व्यक्तिगत समस्या, ज्यादा उम्र, करीब 20 वर्षों से मुकदमा लड़ने को लेकर कम से कम सजा की अपील न्यायालय से की। वहीं सीबीआइ की ओर से वरीय विशेष लोक अभियोजक राकेश प्रसाद ने अधिक सजा की दलील दी।

उन्होंने अपराध की प्रवृत्ति को देखते हुए कानून के प्रावधान के आधार पर अधिक से अधिक सजा देने की अपील न्यायालय से की। उल्लेखनीय है कि चारा घोटाले में 16 अभियुक्तों को अदालत ने 23 दिसंबर, 2016 को दोषी करार दिया था। इसके बाद सभी को न्यायिक हिरासत में बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल भेजा गया था। अदालत तीन जनवरी से सजा के बिंदु पर सुनवाई कर रही है। अभियुक्तों के नाम को अल्फाबेटिकल बांटकर सुनवाई हो रही है। यह मामला देवघर कोषागार से 89.04 लाख रुपये अवैध निकासी से संबंधित है।

यह भी देखे:-

नवजोत सिंह सिद्धू के समर्थन में उतरे कपिल शर्मा
2 जनवरी को आयोजित होने वाले युवा सम्मेलन को लेकर हाथरस में तैयारियां जोरों पर
ग्रेटर नोएडा : नाइजीरियंस पर हुए हमले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ट्वीट : प्रदेश सरकार से मांग...
YES BANK के ग्राहकों के लिए वित्त मंत्री का एलान , मिलेगी ये बड़ी राहत, पढ़ें पूरी खबर
नॉन रेजीडेंसियल आवंटी जीएसटी में करा लें अपना पंजीकरण, पंजीकृत आवंटियों को खुद से ही आरसीएम के तहत ज...
खूनी संघर्ष में इजराइल-फिलिस्तीन आमने-सामने, क्या है विवाद की वजह?
रयान प्रदुम्न मर्डर केस में ट्विस्ट , तो क्या इसलिए की गयी थी प्रद्युम्न की हत्या !
सुशांत सिंह सुसाइड केस में नया मोड़ ,  पिता केके सिंह ने पटना में दर्ज कराई एफआईआर, बिहार पुलिस मुंबई...
जापान में वेस्ट इन टोक्यो में यमुना प्राधिकरण का रोड शो, निवेशकों को आकर्षित किया
विशेष मामलों के लिए ITR फाइल करने की तारीख बढ़ी
PM मोदी को मिला सियोल शांति पुरस्‍कार, आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान
HANDICRAFT के 18 उत्पादों पर जीएसटी की दरों में कमी
भारतीय रेलवे ने इन मीडिया रिपोर्ट का किया खंडन, ट्रेन संचालन पर कहा .... पढ़ें पूरी खबर
सुषमा स्वराज ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
क्या चिदम्बरम की गिरफ्तारी से कांग्रेस के पापों का घड़ा फूटेगा?
यूपी चुनाव 2022: सपा के वरिष्ठ नेता गांवों को लेंगे गोद, मोहल्ले में जाकर करेंगे विकास योजनाओं का प्...