चारा घोटाले में मिली लालू को सजा, 2400 पेज की फाइल में दस्तखत करने में जज ने खत्म कर दिए 4 पेन

रांची : बहुचर्चित चारा घोटाला मामले में आज आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादवको सीबीआई कोर्ट ने 3.5 साल की सजा और पांच लाख का जुर्माना लगाया है . इससे पहले सीबीआई जज शिवपाल सिंह मामले की 2400 पेज की फाइल में दस्तखत करते हुए चार पेन की स्याही खत्म कर दिया.

लालू के अलावा 15 दोषियों के खिलाफ सजा का ऐलान हो चुका है। सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू यादव अलावा राजेंद्र प्रसाद, सुनील सिन्हा, सुशील कुमार समेत 6 दोषियों को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है। इसके अलावा कोर्ट ने लालू पर 5 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है जिसे ना भरने पर सजा 6 महीने के लिए बढ़ा दी जाएगी।

कोर्ट ने लालू को यह सजा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनाई। खबरों के अनुसार कोर्ट ने घोटाले में सप्लायर्स को सात साल की सजा सुनाई है वहीं आईएएस और ट्रेजरी अधिकारियों को भी साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख का जुर्माना लगया गया है।

इसके पहले शुक्रवार को अदालत ने लालू यादव और पूर्व सांसद डॉ.आरके राणा सहित पांच दोषियों के खिलाफ सजा के बिंदु पर सुनवाई शुक्रवार को पूरी हो गई। इसके पहले दोषी करार पांच अन्य की सुनवाई गुरुवार को पूरी हो चुकी है। अब बचे छह दोषियों की सजा के बिंदु पर सुनवाई शनिवार को होगी। इसके बाद अदालत इन्हें सजा सुनाएगी। सभी अभियुक्त बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल में बंद हैं।

दोषी करार जिन अभियुक्तों की ओर से शुक्रवार को सीबीआइ के विशेष न्यायाधीश शिवपाल सिंह की अदालत में सुनवाई हुई, उनमें लालू प्रसाद और राणा के अलावा फूलचंद सिंह, राजा राम जोशी व महेश प्रसाद शामिल हैं। कार्यवाही वीडियो कांफ्रेंसिंग ई-कोर्ट रूम से संचालित हुई। सुनवाई के दौरान महेश प्रसाद को छोड़ अन्य अभियुक्तों को बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया गया।

पेशी के दौरान लालू खामोश थे। कार्यवाही को गंभीरता से सुनने की कोशिश कर रहे थे। चेहरे का भाव सामान्य था। अभियुक्तों की ओर से उनके अधिवक्ता ने बहस की। स्वास्थ्य सहित अन्य व्यक्तिगत समस्या, ज्यादा उम्र, करीब 20 वर्षों से मुकदमा लड़ने को लेकर कम से कम सजा की अपील न्यायालय से की। वहीं सीबीआइ की ओर से वरीय विशेष लोक अभियोजक राकेश प्रसाद ने अधिक सजा की दलील दी।

उन्होंने अपराध की प्रवृत्ति को देखते हुए कानून के प्रावधान के आधार पर अधिक से अधिक सजा देने की अपील न्यायालय से की। उल्लेखनीय है कि चारा घोटाले में 16 अभियुक्तों को अदालत ने 23 दिसंबर, 2016 को दोषी करार दिया था। इसके बाद सभी को न्यायिक हिरासत में बिरसा मुंडा केंद्रीय जेल भेजा गया था। अदालत तीन जनवरी से सजा के बिंदु पर सुनवाई कर रही है। अभियुक्तों के नाम को अल्फाबेटिकल बांटकर सुनवाई हो रही है। यह मामला देवघर कोषागार से 89.04 लाख रुपये अवैध निकासी से संबंधित है।

यह भी देखे:-

NEWS FLASH : 20 साल जेल की सजा काटेगा डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम सिंह, कोर्ट ने लगाया भारी रकम...
धारा 370 हटाने के बाद उम्मीद की किरण बने अमित शाह
Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल से जुड़ी 10 बातें
ग्रेटर नोएडा : नाइजीरियंस पर हुए हमले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का ट्वीट : प्रदेश सरकार से मांग...
लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं शिवराज व रमन सिंह, इन सीटों से मिलेगा टिकट
फरार हुआ सपा-बसपा उम्मीदवार, रेप का है आरोप
सबसे बड़ा हमला, देश मांगे बदला - चन्द्रपाल प्रजापति
जर्मन एजेंसियों के रडार पर था बर्लिन का हमलावर
सांसद महेश शर्मा के वायरल वीडियो को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता ने साधा निशाना
मुर्तजा अली ने शहीदों के परिवार वालों को 110 करोड़ देने का एलान किया
"अभिनंदन को रिसीव करने जाना मेरे लिए सम्मान की बात" - कैप्टन अमरिंदर
पाकिस्तान की धरती पर सक्रिय नहीं हो सकेगा कोई आतंकी संगठन: प्रधानमंत्री इमरान खान
1 परमाणु बम गिराया तो भारत 20 बम गिराकर हमें खत्म कर सकता है -परवेज मुशर्रफ
विंग कमांडर की वापसी: "अनर्गल प्रलाप बंद करें,हमारा हीरो वापस आने दो" - कुमार विश्वास
बजट 2018 Live Update - जानिए बैंकिंग और फाइनेंस में क्या हुआ
नियमों का हवाला देकर मैच में जो हुआ उसपर हंसा जाए या नाराज़ हुआ जाए