इन शहरों में  कर सकते हैं PAYTM के जरिये चालान का भुगतान

नोटबंदी होने के उपरान्त डिजिटल ट्रांजैक्शन के प्रचलन में  तेजी से इजाफा हुआ  है।  इसके चलते Paytm और तमाम उसके जैसी कंपनियों को बड़ा फायदा हुआ था. इस ई-वॉलेट के जरिये आज के  समय में लगभग हर तरह के आवश्यक भुगतान  ऑनलाइन किए जा सकते हैं. अब कंपनी ने एक नई सर्विस की  शुरुआत की है। जिससे अब ट्रैफिक चालान का भुगतान भी Paytm के जरिए संभव हो सकेगा .  फिलहाल यह  सेवा मुंबई, पुणे और विजयवाड़ा में शुरू किया गया है और धीरे-धीरे इसका विस्तार अन्य शहरों में भी किया जाएगा. हालाँकि  ये फीचर बही  ऐप पर लाइव नहीं है, लेकिन वेबसाइट के जरिये  ये सुविधा  ली जा सकती  है. ग्राहक ट्रैफिक नियम तोड़ने पर चालान का भुगतान ‘Traffic Challan’ के ऑप्शन के जरिए कर सकते हैं. Paytm से हर तरह के ट्रैफिक चालान के भुगतान संभव हैं, जिसमें- रेड लाइट जंप करना, तय सीमा से ज्यादा तेज गाड़ी चलाना, बिना हेलमेट सवारी करना, बिना जरुरी दस्तावेज के गाड़ी चलाना, बाइक में तीन लोगों द्वारा सवारी किया जाना या और भी सारे ट्रैफिक संबंधी नियमों को तोड़ना शामिल है.

यह भी देखे:-

साइबर सेल ने पकड़े महाठग , किया बड़ा भंडाफोड़, पढ़ें पूरी खबर
डॉक्टरों के लिए मानव सेवा ही सबसे बड़ा धर्म - धीरेन्द्र सिंह जेवर विधायक
जिला आबकारी विभाग ने पकड़ी अवैध शराब, एक गिरफ्तार
जल संरक्षण के लिए दिया ज्ञापन , तालाबों की सफाई की मांग
यमुना प्राधिकरण के पूर्व सीईओ पीसी गुप्ता पर सीबीआई का शिकंजा
गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने जारी किया 988 हिस्ट्रीशीटर की सूची
रक्तदान से जरूरतमंद लोगों को मिलता है जीवनदान: के के शर्मा
नुक्कड़ नाटक कर दिए यातायात के नियमों के पालन करने का संदेश
श्री रामलीला कमेटी साईट 4 रामलीला मंचन : श्री राम ने 55 फिट का शिव धनुष 50 फिट की ऊँचाई पर खण्डित क...
प्लानिंग एंड डिजाईन ऑफ़ हाई राइज भवन बनाने का गुर सीख रहे GNIOT के शिक्षक
हनुमंत कथा के अंतिम दिन उमड़ी श्रद्धालुओ की भीड़
ग्रेटर नोएडा सेक्टर- 36 आरडब्लूए ने सराहनीय कार्य करने पर कासना कोतवाली प्रभारी जितेंद्र कुमार को सम...
बगैर किसी भेदभाव के विकास कराना पहली प्राथमिकता: धर्मवीर प्रजापति
ग्रेटर नोएडा में 15 सितम्बर को दंगल में दमखम दिखाने पहुंचेंगे दो सौ पहलवान
गर्मजोशी के साथ हुआ 22वें राष्ट्रीय युवा उत्सव 2018 का समापन
श्री रामलीला साईट - 4 रामलीला मंचन : प्रभु राम ने खाए शबरी के जूठे बेर