भारत में बढ़ रहा है फैटी लिवर का खतरा, इसकी रोकथाम के जागरूकता बेहद ज़रूरी

ग्रेटर नोएडा, 19 अप्रैल – प्रत्येक वर्ष 19 अप्रैल को वर्ल्ड लिवर डे मनाया जाता है ताकि लोग अपने लिवर की सेहत पर ध्यान दें और इसके रोगों के बारे में जानें। ये ऐसी बीमारी है जिसमें लिवर की कोशिकाओं में चर्बी जमा होने लगती है। भारत में फैटी लिवर की बीमारी बहुत तेज़ी से बढ़ रही है और देश की एक बड़ी आबादी इससे पीड़ित है। हाल के अध्ययनों से ये पता चला है कि भारत में 10% से 56% लोग फैटी लिवर से जूझ रहे हैं। यह बीमारी अक्सर उन लोगों में ज़्यादा पाई जाती है, जो मोटे हैं, जिन्हें डायबिटीज़ है, जो लोग ज़्यादा एक्सरसाइज़ नहीं करते या जिनका कोलेस्ट्रॉल लेवल सही नहीं है।

फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा के गैस्ट्रोएंटरोलॉजी एंड हेपेटोलॉजी डिपार्टमेंट के कंसल्टेंट, डॉक्टर अपूर्व पांडे ने बताया, “भारत में पुरुषों में इस बीमारी का खतरा ज़्यादा है। अक्सर फैटी लिवर किसी और वजह से कराए गए अल्ट्रासाउंड में ही पता चलता है। अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट में इसे तीन ग्रेड्स में बांटा जाता है। ध्यान देने वाली बात यह हैं कि अगर इसे नज़रअंदाज़ किया जाए, तो ये लीवर फाइब्रोसिस और फिर सिरोसिस जैसी गंभीर बीमारी में भी बदल सकती है। इसलिए ज़रूरी है इसका जल्दी पता लगना और इलाज करवाना।“

फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा के सीईओ डॉक्टर प्रवीण कुमार बताते हैं, “भले ही फैटी लिवर के लक्षण ज़ाहिर तौर पर न दिखें, फिर भी कुछ ऐसे लक्षण हैं जिन्हें हर किसी को ध्यान से देखना चाहिए। “

ये लक्षण हैं:

1. थकान: अगर भरपूर आराम के बाद भी थकान लगे, तो ये फैटी लिवर का इशारा हो सकता है। इससे रोज़मर्रा के काम पर असर पड़ता है।

2. वजन घटना: अगर आपका वज़न अचानक से घटने लगे, वो भी तब जब थकान या पेट में तकलीफ़ भी हो रही हो, तो लिवर की जांच करवाना ज़रूरी है।

3. पेट में तकलीफ़: पेट के ऊपरी हिस्से में दाईं तरफ हल्का-हल्का दर्द या तकलीफ़, फैटी लिवर के कारण सूजन या लिवर के आकार में बढ़ोतरी का संकेत हो सकता है।

4. कमज़ोरी: अगर किसी और वजह से कमज़ोरी महसूस हो रही हो, तो ये लिवर से जुड़ी समस्याओं की वजह से हो सकता है, जिनमें फैटी लिवर भी शामिल है।

5. लिवर एंजाइम्स बढ़ना: खून की रिपोर्ट में अगर लिवर एंजाइम्स का स्तर बढ़ा हुआ दिखे तो ये लिवर में सूजन या खराबी का संकेत है।

6. लिवर का आकार बढ़ना: डॉक्टर जांच के दौरान अगर लिवर का आकार बढ़ा हुआ महसूस करें, तो ये फैटी लिवर का लक्षण हो सकता है।

फ़ैटी लिवर का अगर समय पर इलाज नहीं किया गया तो आगे चलकर बड़ी बीमारी हो सकती है। इसलिए बहुत ज़रूरी है कि इस बीमारी के लक्षणों को समझा जाए और अगर ये लक्षण दिखें तो फौरन डॉक्टर से सलाह लें। जल्दी इलाज शुरू होने और जीवनशैली में कुछ बदलाव करके फ़ैटी लिवर से बचा जा सकता है और लिवर को हमेशा स्वस्थ रखा जा सकता है।

यह भी देखे:-

कोरोना अपडेट : जानिये आज क्या का क्या है रिपोर्ट, प्रदेश में गौतमबुद्ध नगर दूसरे स्थान पर 
दादरी विधायक हुए कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी, संपर्क में आए लोगों से जांच की अपील 
जाने–माने फीजिशियन डा़. जी. सी वैष्णव यथार्थ ग्रुप आफ हॉस्पीट्ल्स के साथ जुडे
नोएडा प्राधिकरण द्वारा कोविड  हेल्पडेस्क व आइसोलेशन सेंटर की स्थापना 
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में तंत्रिका विज्ञान पर संगोष्ठी का आयोजन
डीएम  सुहास एल वाई ने जनपद वासियों से कियाआह्वान, कल दिनांक 21 जून को अष्टम अंतरराष्ट्रीय योग दिवस क...
कोरोना टीकाकरण में पिछड़े जिलों की समीक्षा करेंगे पीएम मोदी
जिम्स अस्पताल मेडिकल कॉलेज, में दो दिवसीय "रिसर्च ग्रांट राइटिंग" कार्यशाला हुई संपन्न
यथार्थ सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल द्वारा ग्रेटर नोएडा में वाकाथॉन का हुआ आयोजन
डायबिटीज और मोटापा संबंधी मल्टी स्पेशलिटी क्लिनिक का उद्घाटन किया गया
डॉ. अमित गुप्ता बने आरएसएसडीआई राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य
कल बुधवार को ग्रेटर नोएडा आएंगे सीएम योगी, जिम्स अस्पताल का करेंगे निरीक्षण
गवर्नमेंट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस GIMS की प्रेस कांफ्रेंस, कोविड की तैयारियों के लिए पूरी तरह ...
GIMS में "नशीले पदार्थों के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय दिवस का आयोजन
देखें आज का कोरोना अपडेट गौतमबुद्धनगर
ग्रेटर नोएडा : जिम्स अस्पताल  (GIMS) में 100 बेड बढ़ाये गए, 250 बेड की संख्या को बढ़ाकर किया 350