पार्किंसंस को न होने दें खुद पर हावी, सक्रिय रहें व्यस्त रहें, चुनौतियों के साथ भी जिएं एक स्वस्थ जीवन : डॉ. आतमप्रीत सिंह

ग्रेटर नोएडा: वर्ष 1817 में न्यूरोडीजेनेरेटिव डिसऑर्डर की खोज करने वाले डॉ. जेम्स पार्किंसन के सम्मान में और पार्किंसंस रोग के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रत्येक वर्ष 11 अप्रैल को विश्व पार्किंसंस दिवस मनाया जाता है। यह दिन न केवल पार्किंसन बीमारी के बारे में लोगों को जागरूक करता है, बल्कि इसके इलाज के लिए नए-नए तरीकों पर रिसर्च की अहमियत को भी दर्शाता है।

फोर्टिस अस्पताल ग्रेटर नोएडा में न्यूरोलॉजी विभाग के निदेशक डॉ. आतमप्रीत सिंह ने पार्किंसंस रोग के बारे में बहुमूल्य और उपयोगी जानकारी साझा करते हुए बताया, “यह एक प्रचलित न्यूरोडीजेनेरेटिव विकार है, जो मुख्य रूप से 50 वर्ष और उससे अधिक आयु के व्यक्तियों को प्रभावित करता है। पार्किंसंस रोग मस्तिष्क में डोपामाइन के उत्पादन में गिरावट या स्वास्थ्य समस्याओं या चोटों के कारण मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने के कारण हो सकता है।

पार्किंसंस के साथ आमतौर पर जुड़े लक्षणों में कंपकंपी, मांसपेशियों में अकड़न, धीमी गति, संतुलन और समन्वय में कठिनाई शामिल हैं, जिससे मरीज के लड़खड़ा के गिरने का खतरा बढ़ सकता है। हालांकि पार्किंसंस का कोई स्थाई इलाज नहीं है, डॉ. सिंह दवाओं और दिनचर्या में बदलाव से लक्षणों को कम किया जा सकता है। उपचार के तौर-तरीकों में डोपामाइन के स्तर को नियंत्रित करने के लिए दवाएं, गतिशीलता में सुधार के लिए फिजियोथेरेपी और चुनिंदा केसेज में, डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (डीबीएस) जैसे सर्जिकल हस्तक्षेप शामिल हैं।

डॉ. प्रवीण कुमार, फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा के सीईओ कहते हैं, “पार्किंसंस बीमारी को सही तरीके से मैनेज करने के लिए, इसका जल्दी पता लगाना और इलाज की सही प्लानिंग करना बहुत ज़रूरी है। दवाइयों के साथ-साथ अगर जीवनशैली में कुछ बदलाव लाएं, तो पार्किंसंस के मरीज़ एक अच्छी और गुणवत्तापूर्ण ज़िंदगी जी सकते हैं।”

पार्किंसंस के लिए व्यावहारिक तरीकों में लगातार शारीरिक गतिविधि, एक संतुलित आहार, पर्याप्त आराम, तनाव प्रबंधन और सामाजिक संबंधों को बढ़ावा देना शामिल है। स्थिति की गंभीरता के बावजूद, पार्किंसंस के कारण जीवन की गुणवत्ता कम नहीं होनी चाहिए। समर्पित देखभाल और सहायता से लोग पूर्ण जीवन का आनंद ले सकते हैं।

चिकित्सा हस्तक्षेप के अलावा, जीवनशैली में बदलाव जैसे उचित मात्रा कैफीन का सेवन, आहार संबंधी विचार, नियमित व्यायाम, तनाव प्रबंधन और सामाजिक जुड़ाव पार्किंसंस के लक्षणों को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि, पार्किंसंस के लक्षणों का सामना कर रहे व्यक्तियों के लिए स्वास्थ्य पेशेवरों से व्यक्तिगत चिकित्सा सलाह लेना जरूरी हो जाता है।

यह भी देखे:-

मिशन रक्तदान 2021: ग्रेटर नोएडा के यथार्थ अस्पताल में महिला उन्नति संस्था और SAFE संस्था के संयुक्त ...
CORONA UPDATE : जानिए आज क्या है गौतमबुद्ध नगर का हाल
कोरोना में गौतमबुद्ध नगर प्रदेश में पहले स्थान पर पहुंचा
CORONA UPDATE : गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल, जानिए 
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
जिम्स (GIMS) में नर्सिंग पाठ्यक्रम की कक्षा का शुभारंभ हुआ
दनकौर के बाबा सुखामल अस्पताल में मिलेगी नि:शुल्क कोरोना किट और दवाइयां
जेपी इंटरनेशनल स्कूल में कैंसर की जागरुकता के लिए चिकित्सा शिविर का आयोजन
उत्तर प्रदेश में कोरोना का महाविस्फोट, गौतमबुद्ध नगर में आंकड़ा हज़ार के पार
सेक्टर डेल्टा टू  में मुफ्त चिकित्सा शिविर का आयोजन
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल
उत्तर प्रदेश  में शादी समारोह और अन्य आयोजनों के लिए जारी किया गया सख्त निर्देश  
शारदा विश्वविधालय के चांसलर पी. के. गुप्ता को चिकित्सा तथा शिक्षा में विशेष योगदान के लिए विशिष्ट सम...
अंतराष्ट्रीय योग दिवस पर ब्रह्मा कुमारी संस्था ने 'पूरे मानवता के लिऐ योग' कार्यक्रम का भव्य आयोजन क...
डॉक्टर्स डे पर शारदा अस्पताल में होंगे कई कार्यक्रम, मरीजों को मिलेगा नि:शुल्क परामर्श  - डॉ. अनूप र...
GIMS ग्रेटर नोएडा में COVID 19 जांच की प्रयोगशाला स्थापित