शारदा विश्वविद्यालय में भारतीय संस्कृति वैश्विक केंद्र का हुआ शुभारंभ

भारतीय संस्कृति की धरोहर को संरक्षित करना जरूरीः पद्म भूषण प्रो. कपिल कपूर

शारदा विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएडा में आज भारतीय संस्कृति वैश्विक केंद्र का शुभारंभ किया गया। इस केंद्र को स्थापित करने का उद्देश्य भारतीय संबंिघत ज्ञान को एकत्रित करने के लिए वैश्विक मंच बनाना है। इसके अलावा भारत के सामने आने वाले तात्कालिक और मूलभूत मुद्दों का समाधान करना है जिससे इस केंद्र कि स्थापना से भारतीय संस्कृति को बढ़ावा मिलेगा और सुरक्षित किया जा सकेगा। इस समारोह का शुभारंभ में उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मुख्य सचिव सेवानिवृत्त आईएएस दीपक सिंघल, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांसड स्टडीस के पूर्व चेयरमेन पद्म भूषण प्रो कपिल कपूर, सेंटरल यूनिवर्सिटी ऑफ पंजाब, बठिंडा के चांसलर प्रो जगबीर सिंह,नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के सेटर फॉर हिस्टोरिकल स्टडीस, स्कूल ऑफ सोशल साइंसेस की चेयरपरसन प्रो हीरामन तिवारी, शारदा विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर वाई के गुप्ता, शारदा विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डॉ सिबाराम खारा द्वारा किया गया।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांसड स्टडीस के पूर्व चेयरमेन पद्म भूषण प्रो कपिल कपूर ने कहा कि विरासत पर गर्व करना जरूरी है। नई शिक्षा नीति के अनुसार भी यहीं है की अपनी भाषाओं में पढ़ाना है। लेकिन समयस्या यह है कि हम देश विदेश का पढ़ाते है लकिन अपने बारे में अपनी संस्कृति के बारे में नहीं पढ़ाते है। हमे अपना ज्ञान हमारे बच्चों तक पहुचाना है। केवल नीति बनाकर भूल जाते है और यही होता आ रहा है लेकिन अब इस पर कार्य करने का समय आ गया है। ज्ञान वापस आता है लेकिन कभी नहीं मिटता है। अपनी मानसिकता को बदलने के लिए हमें अपनी धरोहर को संरक्षित करना चाहिए।

शारदा विश्वविद्यालय के प्रो चांसलर वाई के गुप्ता ने संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन समस्त शारदा ग्रुप के लिए बेहद गर्व की बात है, कि हम इस अहम कार्य के शुरूवात शारदा से की जा रही है। यह केंद्र सबसे पहले शारदा विश्वविद्यालय में शुरू किया गया। समाज के हर स्कूल एंव विश्वविद्यालय की यह जिम्मेदारी बनती है कि भारतीय संस्कृति पर खास ध्यान दिया जाऐ और अच्छे छात्रों को इसके प्रति जागरूक किया जाए। आने वाले समय में युवा छात्र देश के लीडर है और उनमें देश के प्रति कुछ करने का भाव भारतीय संस्कृति वैश्विक केंद्र के माध्यम से मिलेगा। शारदा विश्वविद्यालय अपने सभी कोर्स के साथ भारतीय संस्कृति पर भी छात्रों को अनावरण प्रदान करेगा।

उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मुख्य सचिव सेवानिवृत्त आईएएस दीपक सिंघल ने कहा कि भारतीय संस्कृति वैश्विक केंद्र तभी सफल होगा जब केवल भाषण नहीं दिए जाऐगा बल्कि इस पर असल में परिणाम हेतु कार्य किया जाएगा। इस को दुनिया के सबसे अच्छे र्स्टाटअप के रूप में लिया जा सकता है। शारदा विश्वविद्यालय ने इस क्षेत्र में योगदान देकर बहुत बड़ा कार्य किया है।

इस कार्यक्रम में शारदा विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डॉ सिबाराम खारा ने संबोधित किया। कार्यक्रम के दौरान विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार विवेक गुप्ता, निदेशक पीआर डॉ अजीत कुमार, डीन डॉ अन्वीति गुप्ता सहित सभी स्कूलों के डीन एंव शिक्षक भी मौजूदा रहे।

यह भी देखे:-

शारदा यूनिवर्सिटी में "टेक्नोलॉजी विजन 2035" पर हुई चर्चा
पर्यावरण की शुद्धि एवं विश्वशांति के लिए ईशान इंस्टीट्यूट, ग्रेटर नोएडा में महायज्ञ का आयोजन
सिटी हार्ट अकादमी स्कूल में मनाया गया तीज मोहत्सव
जी डी गोयनका स्कूल में ईद असेंबली का आयोजन
सावित्री बाई फुले बालिका इंटर कॉलेज में ईद उल अजहा
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा ब्लीड फ्री स्लम अभियान
पॉलिटेक्निक स्कूल के द्वारा दो दिवसीय "टेक्नो फेस्ट" का आयोजन
गलगोटिया विश्वविद्यालय में दो दिवसीय यूनिफेस्ट 2022 का भव्य आयोजन  
बच्चों ने पेंटिंग प्रतियोगिता में उकेरी पर्यावरण संरक्षण सम्बंधित कलाकृतियां
GALGOTIA UNIVERSITY: नैतिकता हर सुख-दुख में आपकी मदद करेगी। इसलिए नैतिकता की अनदेखी नहीं करेंः जी....
बिज़नेस में सफल होने के लिए आवश्यक है इच्छाशक्ति और संघर्ष
एनआईयू का दूसरा दीक्षांत समारोह सम्पन्न, शहीद जवानों के बच्चों को उच्च शिक्षा प्रदान करेगा विवि : ड...
बोधि तरु स्कूल ने माताओं के सम्मान में मनाया गया मातृ दिवस
समसारा विद्यालय के दसवीं के विद्यार्थियों ने टर्म वन की बोर्ड परीक्षा में किया उत्कृष्ट प्रदर्शन
सिटी हार्ट अकादमी स्कूल में मनाया गया बसंत पंचमी पर्व
विश्वेश्वरैया इंस्टीटूशन्स में बृहत् रोजगार मेला का आयोजन