होम बायर्स और बिल्डर्स से मिले सीएम योगी

नोएडा : एमिटी यूनिवर्सिटी स्थित सभागार में वायर्स एवं बिल्डर्स के बीच में समन्वय स्थापित करने के लिए आज सीएम योगी ने प्राधिकरण के अधिकारियों तथा संबंधित पक्षों को शीघ्रता शीघ्र फ्लैट आवंटन के लिए भी निर्देश दिए । उन्होंने कहा कि 40,000 फ्लैट दिसंबर माह के अंत तक वायर्स को उपलब्ध करा दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण बिल्डर्स मिलकर एक नई नीति तैयार करेंगे, जिससे कि शीघ्र अति शीघ्र सभी वायर्स को समयबद्धता के साथ मकान उपलब्ध हो सके. इस समस्या को दृष्टिगत रखते हुए सरकार गठन के उपरांत एक मंत्री समूह का गठन पूर्व में ही किया जा चुका है, जो समय समय पर वायर्स एवं बिल्डर्स की समस्याओं का निराकरण कर रहा है । योगी आदित्यनाथ ने यह भी कहा कि जो अवशेष फ्लैट हैं उसके लिए एक निर्धारित प्रक्रिया का निर्धारण किया गया है जिसमें बिल्डर्स को किसी सहायता की आवश्यकता हो अथवा को बिल्डर का चयन करना हो वह सुविधानुसार अपनी प्रक्रिया अपनाकर मकानों का कब्जा वायर्स को दें । दूसरी श्रेणी में ऐसे बिल्डर जो अर्धनिर्मित स्थिति में है वह अपना कार्य योजना तैयार करते हुए शीघ्र कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे । तृतीय श्रेणी में ऐसे बिल्डर जिनकी स्थिति अच्छी नहीं है उनका ऑडिट करा करके प्राधिकरण कड़ी कार्रवाई करने के लिए बाध्य होगा। इस प्रकार मुख्यमंत्री श्री योगी ने बिल्डर्स एवं बायर्स के बीच संबंध मधुर एवं भवन शीघ्र आवंटन कराने के कड़े निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री कार्यक्रम के दौरान भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री डा. महेश शर्मा , उत्तर प्रदेश सरकार के माननीय मंत्री सतीश महाना, उत्तर प्रदेश सरकार के माननीय मंत्री राणा , विधायक में विधायक पंकज सिंह , विधायक धीरेंद्र प्रताप सिंह, विधायक तेजपाल नागर, मंडलायुक्त मेरठ मंडल डॉ प्रभात कुमार, नोएडा प्राधिकरण के चेयरमैन आलोक टंडन, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के चेयरमैन देवाशीष पांडा, जिलाधिकारी गौतम बुद्ध नगर ब्रजेश नारायण सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लव कुमार तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी एवं पार्टी कार्यकर्ता तथा गणमान्य व्यक्तियों के द्वारा भाग लिया गया ।

नेफोमा टीम ने मुख्यमंत्री के सामने रखी लाखों फ्लेट बॉयर्स की फरियाद

आज फ्लेट बॉयर्स की समस्याओं को लेकर नेफोमा सदस्यों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ से अमेटी यूनिवर्सिटी में मीटिंग की जिसमे नेफोमा ने जिक्र किया कुछ महीने पहले प्राधिकरण और बॉयर्स ग्रुप एवं विधायक पंकज सिंह, उद्योग मंत्री सतीश महाना के साथ मीटिंग हुयी थी उसके बाद नोएडा, ग्रेटर नोएडा वेस्ट, ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे के लाखों फ्लेट ख़रीदारों ने अपनी खुशी की थी बॉयर्स को एक उम्मीद जगी थी कि जो फ्लेट बॉयर्स 7 साल से बिल्डर और प्राधिकरण के चक्कर लगा रहे थे उनको घर नहीं मिल रहा था अगर घर मिल रहा था तो बिल्डर अपनी अनुचित एक्स्ट्रा डिमांड फ्लेट बॉयर्स से बसूल रहा था, उन सबसे बॉयर्स को छुटकारा मिल जाएगा, लेकिन बार बार आपके कहने के बाबजूद भी बिल्डरों और प्राधिकरण पर कोई असर नही हुआ, मंत्री समिति आती है बार बार अधिकारियों और बिल्डरो से मीटिंग करती है कभी फ्लेट बॉयर्स से नही पूछती की कितनी समस्या का समाधान निकाला,आपको कड़े कदम उठाने की जरूरत है, नेफोमा अध्यक्ष अन्नू खान ने पाँच सूत्रीय ज्ञापन दिया जिसमें प्रमुख मांगे रखी

1. फ्लेट बॉयर्स की स्थिति को देखते हुए सरकार से आग्रह है कि फ्लेट बॉयर्स की प्राधिकरण में रजिस्ट्री के समय लगने वाली फीस को माफ़ किया जाए जिससे लंबे समय से इंतजार कर रहे फ्लेट बॉयर्स को कुछ तो राहत मिले ।

2. पुराने फ़्लैट आँनर्स से अतिरिक्त रुपयो / किसी भी तरह के ब्याज की मांग ना की जाये जैसे कि फ़ार्मेर कम्पन्सेसन, एस्क्लेशन चार्जेस, लेट पेमेन्ट चार्जेस, सीवर, मीटर, वाटर कनेक्शन चार्जेस आदि ।

3. प्राधिकरण अवैध रूप से अनुमति देकर बिल्डरों के द्वारा अवैध निर्माण करा रहा है। जिसको वर्तमान सरकार के द्वारा नियमित करने की कोशिश प्राधिकरण के अधिकारी कर रहे हैं। सरकार को गुमराह किया जा रहा है । नोएडा के 2008 सितंबर के बाद अलॉट हुए ग्रुप हाउसिंग सोसायटी के भूखंड की जनसंख्या घनत्व की जांच की जाए । जनसंख्या घनत्व पर आवासीय यूनिट की संख्या की जांच की जाए । इस जांच में जो लोग जनसंख्या घनत्व पर लड़ रहे हैं उन को शामिल किया जाए नोएडा की प्रदूषण ट्रैफिक जाम एवं अन्य समस्याओं के लिए मास्टर प्लान 2031 में संशोधन करें ।

4. रेरा बिल सरकार ने लागू तो कर दिया लेकिन फ्लेट बॉयर्स को बार बार तारीख पर लखनऊ जाना पड़ता है जिससे बॉयर्स को मानसिक और पैसे का सामना करना पड़ता है, क्योंकि ज्यादातर फ्लेट बॉयर्स छोटी मोटी नोकरी करने वाले है आपसे विनम्र निवेदन है कि एक कमेटी नोएड़ा में बनाकर प्राधिकरण मे पूरी तरह रेरा कानून को लागू कराया जाए तथा सभी को पालन करने के निर्देश दिए जाए और अगर कोई बिल्डर इसका पालन नही करता है तो प्राधिकरण उस बिल्डर पर सख्त कार्यवाही करे, पिछली सरकार द्वारा अक्टूबर 2016 में रेरा को बिल्डर के समर्थन में नोटिफाई किया था, लेकिन अभी तक सरकार ने उसको डिनोटिफाइड नही किया है सरकार से अनुरोध है कि रेरा को डिनोटिफाइड करके जो सेन्ट्रल सरकार ने रेरा बिल बनाया था वही लागू किया जाए जिससे पुराने खरीददारों को फायदा मिल सके ।

5. सात साल से फ्लेट का इंतजार कर रहे फ्लेट बॉयर्स को बिल्डरों द्वारा कोई सुविधा नही दी गई बल्कि बॉयर्स से लेट किश्त होने पर 24% ब्याज तक बसूल किया गया, आज जब बिल्डर सात साल फ्लेट लेट कर रहे है तो बॉयर्स को न ही अपने अग्रीमेंट के हिसाब से न ही रेरा के हिसाब से लेट पेनाल्टी नही देना चाहते है, बल्कि दो लाख से लेकर चार लाख तक अवैध रूप से बॉयर्स से पैसे की डिमांड कर रहे है ।

मुख्यमंत्री योगी ने बॉयर्स की समस्याओं को सुनते हुए नोएड़ा प्राधिकरण और ग्रेटर नोएडा सीईओ को आदेश दिया कि नेफोमा की शिकायत पर जल्द कार्यवाही करें, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि 50 हजार फ्लेट का जो वादा किया था उसको निभाओ किसी भी तरह दिसंबर तक बॉयर्स को फ्लेट दिलवाओ ।

मीटिंग में नेफोमा टीम से संजय नैलवाल, आसिम खान, शेलेन्द्र वर्णवाल, विकास सिंह, कर्नल आर०पी० खन्ना, उपकार सिंह, सत्या मित्रा, सूरज वालिया आदि फ्लेट बॉयर्स ने भाग लिया.

इधर नेफोवा के पदाधिकारियों तथा आम्रपाली फ्लैट खरीदारों के प्रतिनिधियों ने घर खरीदारों की समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के साथ एमिटी यूनिवर्सिटी में मीटिंग में हिस्सा लिया जिसमे नेफोवा ने एक बार फिर से नोएडा, ग्रेटर नोएडा वेस्ट, ग्रेटर नोएडा के घर खरीदारों की समस्याओं के शीघ्र समाधान की मांग करते हुए कहा कि तमाम मीटिंग और आश्वासनों के बावजूद अभी तक जमीन पर कोई कार्रवाई शुरू नहीं होने से फ्लैट खरीदारों में घोर निराशा है। आम्रपाली, जेपी, यूनिटेक, अर्थ ऐसे तमाम बिल्डर हैं जिनपर उत्तर प्रदेश सरकार अभी तक कोई निर्णय नहीं ले पायी है। नेफोवा पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से बताया कि आम्रपाली, जेपी और यूनिटेक के घर खरीदारों की समस्या का एकमात्र समाधान प्रोजेक्ट सेटलमेंट पालिसी को लागू किया जाना है। आज हुई मीटिंग के दौरान होम बायर्स के मुद्दे पर सिर्फ लीपापोती करने की कोशिश की गयी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास मीटिंग में उपस्थित नेफोवा के पदाधिकारियों तथा फ्लैट खरीदारों के सवालों का कोई जवाब नहीं था। ये साफ़ जाहिर था कि मुख्यमंत्री द्वारा प्रधानमंत्री मोदी जी के मेट्रो उद्घाटन हेतु नोएडा आगमन के तुरंत पहले आनन् फानन में मीटिंग बुला लिया गया था। सालों से घर का इंतज़ार कर रहे घर खरीदारों को ऐसी मीटिंग बुलाकर झूठे आश्वासनों का सिर्फ झांसा दिया जा रहा है। हकीकत ये है कि सरकार के पास अबतक कोई ठोस प्लान नहीं है । एक बार फिर से निराश होकर अब घर खरीदार शांति पूर्ण तथा संवैधानिक तरीके से आगामी 25 दिसम्बर को प्रधानमंत्री मोदी के नोएडा आने पर उनके सामने अपनी बात पहुँचाने की कोशिश करेंगे।

आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ संपन्न हुई मीटिंग में नेफोवा की तरफ से अध्यक्ष अभिषेक कुमार, को फाउंडर इंद्रिश गुप्ता, तपेंद्र कुमार पाठक तथा आम्रपाली बायर की तरफ से केके कौशल उपस्थित रहे।

यह भी देखे:-

नोएडा प्राधिकरण ने 50 फीसदी गार्डों को हटाया, लाखों की हो रही थी फिजूल खर्ची 
प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन कर रही है, जनता की मांगों की अनदेखी: आशा यादव
धू -धू कर जली चलती हुई हौंडा सिटी कार और चालक की ...
बाइक बोट के मुख्यारोपी की जमानत खारिज
नोएडा सेक्टर - 62 में होगा श्री रामलीला महोत्सव का भव्य आयोजन
हरियाली तीज पर महिलाओं ने किया रंगा-रंग कार्यक्रम
नोएडा मेट्रो हॉस्पिटल में लगी भीषण आग, मजिस्ट्रेट जांच के आदेश
कुलपति बनने पर प्रो. अनिल राय सम्मानित, कहा कुलपति के दायित्वा को सार्थकता से निभाउंगा
गौतमबुद्ध नगर पुलिस चौकी प्रभारियों के तबादले
जिम ट्रेनर साजन के परिजनों ने फिर रोका ट्रैफिक, मंगलवार को हुई थी साजन की हत्या
मजदूरों की देशव्यापी हड़ताल : सीटू ने नोएडा व ग्रेटर नोएडा में निकाला जुलूस
चुनाव घोषणा के बाद शहर में लगी धारा 144
नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ 81 गाँवों के किसानों ने की महापंचायत
Covid 19: गौतमबुद्ध नगर के हॉटस्पॉट लिस्ट से एक सेक्टर हटा, 2 बढ़ाए गए, अब कुल संख्या 28
जानिए कौन हैं नोएडा के पहले पुलिस कमिश्नर
बजट 2019 से होम बायर्स क्यों हैं निराश? , पढ़ें पूरी खबर