‘फटकन’ और ‘विद्याश्री साहित्य सान्निध्य’ के बैनरतले ग्रेटर नोएडा में एक कवि गोष्ठी का आयोजन

ग्रेटर नोएडा, 25-11-2023: ‘फटकन’ और ‘विद्याश्री साहित्य सान्निध्य’ के संयुक्त तत्वावधान में दिनांक 25 नवंबर, 2023 को ग्रेटर नोएडा में एक कवि गोष्ठी का भव्य आयोजन किया गया, जिसमें ग़ाज़ियाबाद, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के चुनिंदा कवियों ने सक्रिय प्रतिभागिता की। यह आयोजन ग्रेटर नोएडा (ओमीक्रॉन-1ए) स्थित साहित्यकार डॉ. मनोज मोक्षेन्द्र के आवास पर संपन्न हुआ। इस गोष्ठी का शुभारंभ मां शारदे की प्रतिमा को माल्यार्पण, दीप प्रज्ज्वलन और सरस्वती वंदना से हुआ. इस गोष्ठी की अध्यक्षता साहिबाबाद (ग़ाज़ियाबाद) के वरिष्ठ लघुकथाकार और नामचीन साहित्यकार तथा संपादक एवं दिल्ली-प्रशासित कॉलेज़ के प्रवक्त्ता श्री सुरेंद्र कुमार अरोडा ने गोष्ठी की।

गोष्ठी का आगाज़ करते हुए भारतीय संसद के पूर्व संयुक्त निदेशक डॉ. मनोज मोक्षेन्द्र ने डॉ. रेनू यादव को मंच संचालन के लिए आमंत्रित किया। सर्वप्रथम गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय की बी.ए. हिन्दी (ऑनर्स) की छात्राम सुश्री दीपिका ने दो कविताओं का पाठ किया । जिनमें भावों और विचारों की प्रौढता थी और सृजनशीलता की व्यग्रता थी। दीपिका की दूसरी कविता में मृत्यु से न आतंकित होने की निडरता का भाव हृदयस्पर्शी था. प्रकृति की सुरक्षार्थ दीपिका के आह्वान ने श्रोताओं को बखूबी आकर्षित किया तथा उपस्थित वरिष्ठ कवियों ने उसे अपने आशीर्वचनों से सराहा तथा उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। अपनी कविताओं का ओजपूर्ण पाठ किया मनोज द्विवेदी ने, जिन्होंने बीच-बीच में अपनी आशु रचनाओं से माहौल को आद्योपांत जीवंत बनाए रखा ।

उनकी रचनाओं में हास्य और मनोविनोद के संपुट ने श्रोताओं को पूरी तरह चमत्कृत किया और बांधे रखा. डॉ. भारती सिंह ने ‘कलम’, ‘हम क्यों कभी-कभी बर्बर हो जाते हैं’ और ‘मालिनी’ शीर्षक से कविताओं का सस्वर पाठ किया तथा इन कविताओं की पृष्ठभूमि पर भी प्रकाश डाला. ‘तुम्हें नहीं मालूम कलम में कितनी आग है’, ‘आओ, फिर से पडताल करें/हूणों का रक्त तो नहीं दौड रहा हममें’ तथा ‘मालिनी आओ/बैठो पास-पास’ जैसी उनकी कविताओं की पंक्तियां श्रोताओं के ज़ेहन में देर तक कौंधती रहीं.

वैभव वंदन ने नारी की मां समेत विभिन्न भूमिकाओं को रूपायित करते हुए अपनी गीति-रचनाओं का सुमधुर पाठ किया और श्रोताओं को सम्मोहिनी पाश से बांधे रखा. ‘धरा जब पीर पीती है तभी तो बीज हंसता है…मैं धरती हूँ मेरे कदमों में ये आकाश झुकता है’ जैसी पंक्तियों ने श्रोताओं को सरस भावनाओं से सराबोर कर दिया. तदुपरांत, मोक्षेन्द्र ने कुछ गज़लें सुनाईं. ‘सफर में मैं अभी हूँ ठोकरों की बात मत कर/ अंधेरे साथ देंगे रोशनी अफरात मत कर’ तथा ‘इन बियांबों ने हमे कितना छला है/इनके भीतर शोर का इक जलज़ला है’ जैसी पंक्तियों ने श्रोताओं की प्रशंसाएं बटोरीं. तत्पश्चात, डॉ. रेनू के कविता-पाठ में मां (‘मां ईश्वर नहीं होती’) की अस्मिता को ईश्वर से बिल्कुल अलग स्थापित किया गया और स्त्री के अस्तित्व को नए सिरे से परिभाषित करने की कोशिश की, जिससे श्रोता-दर्शक आश्चर्यचकित हुए. उनकी सुनाई गई अन्य कविताओं ‘स्क्रिजोफेनिया’ तथा ‘बिसुरना’ और ‘भूख भूख होती है’ को तहे-दिल से सराहा गया. ‘वह पत्थर नहीं होती/ईश्वर की तरह/माँ ईश्वर नहीं होती’ एवं ‘भूख की क़ीमत किसी मॉल में बिक/रहे सीलबंद चकमक कंपनी के/नाम से मत आँको/किसी तराजू में रखे बटखरे से भी नहीं’ जैसी पंक्तियों ने श्रोताओं को आत्ममंथन करने के लिए विवश कर दिया.

अपने अध्यक्षीय संबोधन में ख्यात साहित्यकार सुरेंद्र अरोडा ने कवियों की रचनाओं की सार्थक मीमांसा की तथा उनमें अंतर्भूत भावों और विचारों पर प्रकाश डाला. उन्होंने युवा कवयित्री दीपिका द्वारा सुनाई गई कविताओं के भाव और शिल्प पर शिद्दत से टिप्पणियां कीं. उन्होंने गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय, ग्रेटर नोएडा की छात्राओं-शिखा नागर, भारती भाटी और नेहा समेत दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा रुनक श्रीवास्तव को साहित्यिक परिप्रेक्ष्य में व्यक्तिगत और सामाजिक उन्नयन के लिए उपयोगी टिप्स भी दिए.

सुरेंद्र अरोडा ने राष्ट्रवादी और देशभक्ति से ओतप्रोत अपनी कविताएं सुनाकर श्रोताओं को वर्तमान अराजक स्थितियों से अवगत कराया. उनकी कविताएं ‘शर्मिंदगी अब भी जारी है’ तथा ‘राम, तुम फिर धरती पर आओ’ ने श्रोताओं को बेहद प्रभावित किया. ‘शर्मिदगी अब भी जारी है/‘बुझा देंगें खेतों की प्यास हम, कहते थे वो’, ‘मानवता पर छाया है संकट/दुष्टों ने तोड़ी हैं मर्यादाएं/मर्यादा जीवित हो फिर/ वापस आकर तुम संजीवन बन जाओ’ जैसी पंक्तियों ने नकारात्मक विचारों की कलुषित काली काई को भरसक हटाने का प्रयास किया. उन्होंने एक मार्मिक लघुकथा भी सुनाई.
तत्पश्चात, मंच पर उपस्थित सभी प्रबुद्धजनों ने इस कार्यक्रम के प्रबंधन में आद्योपांत दत्तचित्त निशि श्रीवास्तव के प्रति हियतल से आभार प्रकट किया. कार्यक्रम समापन करते हुए डॉ मनोज मोक्षेंद्र ने मंच पर उपस्थित अध्यक्ष सहित प्रतिभागी कवियों और श्रोता-दर्शकों धन्यवाद ज्ञापित किया. उन्होंने डॉ. रेनू के कुशल मंच-संचालन की सराहना भी की.

यह भी देखे:-

यूपी चुनाव: मायावती ने मुख्तार अंसारी का काटा टिकट, कहा- 'किसी बाहुबली-माफिया को बसपा नहीं लड़ाएगी च...
जीएल बजाज संस्थान में वार्षिक प्रबंधन एवं सांस्कृतिक महोत्सव ‘‘संकल्प-2022’’ का भव्य आयोजन
गलगोटियाज विश्वविद्यालय : रोड सेफ्टी अवेयरनेस कार्यक्रम का आयोजन
लॉयड कॉलेज के फार्मेसी प्रवेशकों के लिए ओरिएंटेशन प्रोग्राम 'प्रारम्भ-2022' का हुआ संपन्न
सेंट जोसफ विद्यालय में चल रहे खेल सप्ताह का दूसरा दिन, जानिए कौन रहा विजेता
गलगोटियाज विश्वविद्यालय में मनाये गये कला महोत्सव में दिखे भारत की महान संस्कृति के विविध रंग
शारदा विश्विद्यालय में मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन पर संगोष्ठी
जहांगीरपुर महाराजा अग्रसेन सरस्वती इंटर कॉलेज का परीक्षा परिणाम घोषित
25 जुलाई तक जारी किया जा सकता है,बीटेक प्रथम वर्ष का रिजल्ट: AKTU VC
कई और ट्रेड में स्थानीय युवा बन सकेंगे हुनरमंद, रोजगार के द्वार खुलेंगे
रोटरी क्लब ग्रेनो का इंस्टॉलेशन सेरेमनी व दीपावली सेलिब्रेशन का हुआ कार्यक्रम
जम्‍मू-कश्‍मीर से हटी भारतीय सेना तो आएगा 'तालिबान राज', ब्रिटिश सांसद ने दी चेतावनी
Encounter In Delhi : दिल्ली में सुबह-सुबह एनकाउंटर, 2 शातिर बदमाश ढेर और 2 पुलिसकर्मी हुए घायल
देखें Video, ग्रेटर नोएडा को मिला एमबीबीएस कॉलेज का नायब तोहफा, जानिए क्या होगा खास इस (GIMS) मेडि...
आईआईएमटी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट में लगा निःशुल्क दंत चिकित्सा शिविर
दिवाली के उपलक्ष्य में रोशनी से नहाया ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण का दफ्तर।