Guru Nanak Jayanti : देश मना रहा है नानक जी का जन्मोत्सव, जानें कौन थे सिख धर्म के पहले गुरु

आज गुरुनानक जयंती है, जिसे सिख धर्म के अनुयायी गुरुनानक जी के जन्मोत्सव के तौर मनाते हैं। इसी दिन को प्रकश पर्व या गुरुपर्व के नाम से भी जाना जाता है। यह दिन सिख धर्म में पवित्र दिन माना जाता है। इस दिन सिख भाई-बहन गुरुद्वारों में जाकर कीर्तन और गुरुग्रंथ साहिब का पाठ करते हैं। नानक जी सिख धर्म के पहले गुरु और संस्थापक थे। अभी तक सिख धर्म में कुल दस गुरु हुए और नानक देव जी पहले गुरु थे। इस वर्ष गुरुपर्व 27 नवंबर को मनाया जा रहा है। यह त्यौहार सिख समुदाय में बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है। इस साल नानक जी की यह 551वीं जयंती है। यह त्यौहार कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष कि पूर्णिमा तिथि पर मनाया जाता है।

गुरुनानक जी का जन्म पंजाब प्रा न्त के (पाकिस्तान) तलवंडी नामक जगह पर वर्ष 1469 ईस्वी में हुआ था। वर्तमान में इस जगह को ननकाना साहिब के नाम से भी जाना जाता है। गुरुनानक जी ने श्री करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की नींव रखी थी, जो अब पाकिस्तान में है। यह जगह सिखों के लिए किसी तीर्थस्थल से कम नहीं है। इस जगह पर विश्व के कोने-कोने से सिख समुदाय के लोग अपनी अरदास मांगने आते हैं।

नानक जी ने अपने पूरे जीवन में छुआ-छूत, ऊंच-नीच, पाखंड, कट्टरता जैसी कुरीतियों का सदा ही विरोध किया है। उन्होंने अपने उपदेशों में बंधुत्व, सेवा और अच्छे कर्मों पर विशेष बल दिया है। उनका कहना था कि व्यक्ति अपने कर्मो से ऊँचा और नीच होता है। सेवा उनके जीवन में सर्वोपरि थी। भूखे को खाना खिलाना, जरुरत मंद की सेवा करना, ही सच्चा धर्म था। नानक जी कहते थे कि सेवा ही सच्चे धर्म की और ले जाती है।

गुरुनानक जी अपने जीवन में संत,गुरु और समाजसुधारक तीनों की भूमिका को निभाया है। सांसारिक मोह- माया से परे नानक जी ने जो संदेश दिए हैं, वो अपने आप में शब्दशः अनुकरणीय है। छुआ-छूत, ऊंच-नीच, जाति-पाति को नानकजी ने निराधार बताते हुए सदैव समाज को एक सूत्र में बांधने का ही प्रयास किया। अपना पूरा जीवन मानव जीवन के कल्याण के लिए समर्पित किया था।

गुरुनानक जी ने अपने पूरे जीवन काल में जो शिक्षाएं दी हैं, वो मानव जाति को खुशहाली की तरफ ले जाती है। नानक जी ने मुख्य रूप से तीन शिक्षाएं दी हैं, जिनमें ” नाम जपो, कीरत करो, वंड छको” प्रमुख हैं। ये शिक्षाएं मानव को अपने कर्मो में श्रेष्ठता लाने के लिए प्रेरित करती हैं।

 

 

यह भी देखे:-

जीवित प्रमाण पत्र जमा न कराने पर रुक जाएगी पेंशन, कोषागार कार्यालय में करें संपर्क
पहली बार टॉप इंटरनेशनल बाइक रेसिंग मोटोजीपी ग्रिड 2023 - राइडर प्रोफाइल यहां देखें
सुदामा चरित्र सुन भाव विभोर हुए श्रोता, पुष्कर कृष्ण कर रहे हैं श्रीमद्भागवत कथा का वाचन
तीनों प्राधिकरणों की नीतियों में लाई जाएगी एकरूपता : मनोज सिंह
भूखंडों से मिट्टी खनन करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई , जन विश्वास दिवस में ग्रेनो प्राधिकरण के ...
यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह का महाराष्ट्र के किसानों ने नागपुर में किया जोरदार स्वागत
विशाल कलश यात्रा के साथ पांच दिनों तक चले धार्मिक आयोजन से माहौल हुआ चित्रगुप्तमयी
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेनो द्वारा रजिस्ट्रार ऑफिस में लगाये गये रक्तदान शिविर में कैम्पस के लोगों ने कि...
UP Assembly Election 2022: BJP व निषाद पार्टी के बीच सीटों का बंटवारा आज
कल का पंचांग, 7 जुलाई 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
कल का पंचांग, 1 जनवरी 2022, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
गीता पंडित ने दादरी नगरपालिका चैयरमैन निर्वाचित, जानिए कुल कितने वोट मिले
ग्रेटर नोएडा में आयोजित होगा पहला यूपी इंटरनेशनल ट्रेड शो
गौर सिटी में हुआ नवनिर्मित गुरूद्वारे का शुभारंभ, कीर्तन और अरदास का हुआ आयोजन
शमशमनगर एवं नीमका ग्रामों में पहुंची विकसित भारत संकल्प यात्रा उत्साह से भरा जनसमूह।
कंगना रनौत को मिल गया पार्टनर, शादी और बच्चों के प्लान पर खुद किया खुलासा