17 नवंबर से शुरू छठ महापर्व पर नोएडा प्राधिकरण से छठ घाटों पर व्यवस्था करने की मांग

अखिल भारत हिन्दू महासभा एवं अखिल भारतीय प्रवासी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुन्ना कुमार शर्मा ने नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी लोकेश एम. से सूर्योपासना के महान पर्व छठ पूजा के लिए छठघाटों में स्वच्छ जल,प्रकाश,सफाई आदि की उत्तम व्यवस्था करने की मांग की है। उन्होंने प्राधिकरण सीईओ से कहा है कि छठ पूजा सूर्योपासना का महानतम पर्व है। नोएडा में रहने वाले बिहार-पूर्वांचल के लाखों लोग लोक आस्था के महापर्व छठ को धूमधाम से मनाते हैं।

उन्होंने कहा कि 19 एवं 20 नवंबर को हजारों छठव्रती छठघाटों में प्रवेश कर भगवान भास्कर को जल और दूध अर्पण करेंगे। इसलिये 19 एवं 20 नवंबर को छठघाटों में स्वच्छ जल, प्रकाश एवं सफाई की उत्तम व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि छठव्रतियों को अर्घ्य अर्पित करने में सहयोग मात्र से भगवान सूर्य का आशीर्वाद मिलेगा। अखिल भारतीय प्रवासी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुन्ना कुमार शर्मा ने बताया कि सूर्योपासना का महान छठ पर्व 19 नवंबर को नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया है। उस दिन छठव्रती प्रातः अपने-अपने घरों की सफाई करेंगे।चावल, चना दाल और लौकी की सब्जी का प्रसाद बनायेंगे। सर्वप्रथम भगवान सूर्य और षष्ठी देवी की पूजा कर छठव्रती स्वयं प्रसाद ग्रहण करेंगे और अपने परिवार के सदस्यों और पड़ोसियों को प्रसाद वितरित करेंगे। नहाय-खाय की पूजा छठव्रतियों की पूर्ण शुद्धता का प्रतीक है।

18 नवंबर को कार्तिक शुक्ल पंचमी के दिन छठव्रती खरना की पूजा करेंगी। 19 नवंबर को कार्तिक शुक्ल षष्ठी के सायंकाल अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को जल से अर्घ्य दिया जायेगा।20 नवंबर को कार्तिक शुक्ल सप्तमी के प्रातःकाल उदीयमान भगवान सूर्य को दूध एवं जल से अर्घ्य दिया जायेगा।अर्घ्य के उपरांत छठव्रती छठघाट के निकट बने सूर्य पिंडों के पास बैठकर भगवान भास्कर की पूजा करेंगी। फिर छठव्रती पारण करेंगी। अर्घ्य,पूजा और पारण के उपरांत छठव्रतियों के 36 घन्टे का निर्जला व्रत समाप्त हो जायेगा तथा चार दिवसीय छठ पूजा का समापन हो जायेगा।

यह भी देखे:-

हीट वेव/लू से बचाव के लिए "क्या करें, क्या न करें", के संबंध में जनहित में जारी की गयी एडवाइजरी
डिजिटल हेल्थ कार्ड: मात्र दो मिनट में मोबाइल से ऐसे बनाएं अपना कार्ड, इसके फायदे भी जानें
जलापूर्ति के रखरखाव कार्यों में लापरवाही पर दो फर्मों पर 4.80 लाख का जुर्माना
गौतमबुद्ध नगर की ज़िला रोल बॉल बालक व बालिका टीम का गठन
राजस्थान: क्यों विवाह पंजीकरण कानून संशोधन पर मचा है विवाद
कल का पंचांग, 14 दिसंबर 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहुर्त
आज का पंचांग, 9 फरवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहुर्त
सर्व मांगल्यकारी' वैदिक रक्षा सूत्र बनाने की विधि और इसका महत्व 
गुरुकुल में हुआ गीता महोत्सव का आयोजन
Chandra Grahan 2022 : जानिए आज आपके शहर में कितने बजे दिखेगा साल का आखिरी चंद्र ग्रहण, सूतक काल प्रा...
एकेटीयू की काउंसलिंग प्रक्रिया फिर से शुरू, संस्थानों की संबद्धता को लेकर कोर्ट की अनुमति मिलने के ब...
आज का पंचांग, 7 नवंबर 2020, जानिए शुभ व अशुभ मुहूर्त
एनजी रवि कुमार ने ग्रेनो प्राधिकरण के सीईओ का पदभार संभाला
कल का पंचांग, 29 जुलाई 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
नीट परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले मेधावी छात्रों को करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने किया सम्मानित
मत हों परेशान, हर समस्या का होगा समाधान : मुख्यमंत्री