गलगोटिया यूनिवर्सिटी में होगा पर्यावरण शिखर सम्मेलन , विश्व भर से जुटेंगे पर्यावरणविद, ईएसडीए इंडिया करा रहा है आयोजन

ग्रेटर नोएडा: जी-20 की भारत की अध्यक्षता के समर्थन में, गलगोटियास विश्वविद्यालय और पर्यावरण और सामाजिक विकास संघ (ईएसडीए इंडिया) दिल्ली संयुक्त रूप से चौथे विश्व पर्यावरण शिखर सम्मेलन 2023 (सम्मेलन | पुरस्कार | प्रदर्शनी) का आयोजन करने के लिये की गयी थी।

ईएसडीए इंडिया के चेयरमैन जितेंद्र नागर ने बताया इस विशाल अधिवेशन की की सबसे बडी विशेष बात ये है कि इसमें सीएसआईआर-एनईईआरआई, डॉ. भीम राव अंबेडकर कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय, भारतीय प्राणी सर्वेक्षण, कोलकाता, एमओईएफ एंड सीसी, भारत सरकार, जीआरसी इंडिया, एमएसएमईसीसीआईआई के साथ सहयोग और विला कॉलेज मालदीव, त्रिभुवन विश्वविद्यालय, और काठमांडू, नेपाल के साथ विदेशी साझेदारी में 4-6 नवंबर 2023 को (4 और 5 नवंबर को हाइब्रिड मोड द्वारा) और (6 नवंबर को ऑनलाइन मोड द्वारा) गलगोटियास यूनिवर्सिटी, यमुना एक्सप्रेसवे, ग्रेटर नोएडा, उत्तर प्रदेश (भारत) के साथ जूलॉजिकल सोसाइटी ऑफ बांग्लादेश भी शामिल हैं।

हम दुनियाभर से शिक्षाविद, वैज्ञानिक, चिकित्सक, नीति निर्माक, शोधकर्ता, पर्यावरणवादी, शिक्षाविद, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, सिविल सोसायटी, औद्योगिक जगत के प्रतिष्ठित व्यक्तियों और छात्रों के बड़ी संख्या में भागीदारी की उम्मीद हैं।

भारत की जी-20 की प्रेसिडेंसी वर्ष और आजादी का अमृत महोत्सव के अवसर पर, गलगोटियास यूनिवर्सिटी और ESDA इंडिया संगठन समिति की प्राधिकृत प्राधिकरण आपके आगमन की आपकी गलगोटिया यूनिवर्सिटी आपके आशीर्वाद की कामना करते हैं।

विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डा० के० मल्लिकार्जुन बाबू ने कहा कि वृद्धि, शहरीकरण, और औद्योगिकी से उत्पन्न वैशिष्ट्य ग्रोथ के परिपरिणामस्वरूप बढ़ती वैशिष्ट्य ग्रोथ, वातावरण प्रदूषण, और जलवायु परिवर्तन जैसी वैशिष्ट्य ग्रोथ से उत्पन्न होने वाली वैशिष्ट्य समस्याओं को तेजी से समाधान की आवश्यकता है। 2030 के लिए संवर्द्धनशील विकास और पैरिस समझौता ने उद्देश्यों को निर्धारित किया है, लेकिन प्रगति सीमित रह गई है। विश्व पर्यावरण सम्मेलन मिलन 2023 इन समस्याओं का समाधान करने के लिए हिस्सेदारों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने का लक्ष्य रखता है,

गलगोटियास विश्वविद्यालय के डायरेक्टर ऑपरेशन शुश्री आराधना गलगोटिया ने कहा कि चार महाद्वीपों के प्रतिनिधियों और 22 भारतीय राज्यों से सक्रिय प्रतिभागी जुटे हुए हैं। कुल प्रतिभागी गणना 600 से अधिक हो चुकी है, जिससे यह भारत के पर्यावरण संरक्षण पर ध्यान केंद्रित किए गए एक सबसे बड़े संगठन में से एक बन गया है। इस सम्मेलन ने अपने 20 विविध उपविषयों के साथ वैश्विक महत्व प्राप्त किया है।

यह भी देखे:-

श्री धार्मिक रामलीला मंचन का आगाज 26 सितंबर से, राजस्थान के कलाकार करेंगे मंचन
राष्ट्रीय लोक अदालत में 158404 वादों का हुआ निस्तारण- जिला जज
ग्रेटर नोएडा: सावित्री बाई फुले बालिका इंटर कॉलेज में ओयस्का इंटरनेशनल द्वारा विद्यालय का भ्रमण
अब ग्रेनोवासी भी जान सकेंगे हर प्रोजेक्ट का ब्योरा
आईआईएमटी कॉलेज ऑफ फार्मेसी में नेशनल कांफ्रेंस
दीवाली: इस समय करें महालक्ष्मी और भगवान गणेश की आराधना, ये है शुभ मुहूर्त
गलगोटिया विश्वविद्यालय में दो दिवसीय स्मार्ट इंडिया हैकथॉन का हुआ समापन
रामविलास पासवान की विरासत बंटी, लोजपा के हुए दो टुकड़े, आयोग ने चुनाव चिह्न और नाम भी बदले
Azam Khan News : सपा के राष्ट्रीय महासचिव के घर ईडी, आयकर विभाग का छापा, जौहर यूनिवर्सिटी से जुड़ा ह...
वेस्ट मैटेरियल की टाइल्स से ग्रेटर नोएडा में बनेंगे फुटपाथ
मिलिए एक राम भक्त से: श्री राज कुमार गुप्ता की असाधारण भक्ति की कहानी
गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय : राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के रोड मैप पर कार्यशाला का आयोजन  
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ने पहली बार 'नेक्स्टजेन डिफेंस टेक्नोलॉजी' वेबिनार का आयोजन किया
VARANASI : हापुड़ में वकीलों पर लाठीचार्ज का वाराणसी में भारी विरोध, सड़कों पर उतरे वकील
जीवनशैली में बदलाव कर बचा सकते हैं पर्यावरण
लगातार हो रही बारिश से हुए कई हादसे, कही दीवार ढह गई, तो कही गिरा मकान