श्री धार्मिक रामलीला मंचन सेक्टर पाई: सीता से मिले हनुमान, उजड़ी अशोक वाटिका, रोमांचित हुए दर्शक

ग्रेटर नोएडा: श्री धार्मिक रामलीला कमेटी के तत्वाधान में गोस्वामी सुशील जी महाराज के दिशा निर्देशन में रामलीला का मंचन राजस्थान के सर्वश्रेष्ठ कलाकारों द्वारा किया जा रहा है ।

आज जब लंका की अशोक वाटिका को बजरंगबली तहस-नहस करने लगते हैं तथा रावण के पुत्र अक्षय कुमार का वध कर देते हैं तब मेघनाथ बजरंगबली पर ब्रह्मास्त्र का प्रहार कर देता है।बजरंगबली ब्रह्मास्त्र का सम्मान करते हैं और उसके बंधन में अपने आप को बधने देते हैं और रावण के सामने प्रस्तुत हो जाते हैं। विभीषण के कहने पर रावण बजरंगबली को मृत्यु दण न देकर के उनकी पूछ में आग लगाने का आदेश देता है बजरंगबली अपनी पूंछ इतनी बड़ी करने लगते हैं कि पूरे लंका के वस्त्र उनकी पूंछ में लपेट दिये जाते हैं और उसमें आग लगा दी जाती है बजरंगबली अपनी पूछ के माध्यम से पूरी लंका में इधर-उधर घूमते रहते हैं विभीषण का निवास छोड़कर के बाकी पूरी लंका को जलाकर भस्म कर देते हैं। इस लीला के माध्यम से बजरंगबली रावण को भगवान श्री राम की ताकत से परिचय कराते हैं। और इस लीला से भगवान श्री राम बजरंगबली के माध्यम से यह शिक्षा देना चाहते हैं कि अगर आप अपने अभिमान में आकर पाप करने से भी नहीं डरेंगे, स्त्री का अपमान करेंगे तो आपके जीवन में कमाया हुआ सारा ऐश्वर्य और धन संपदा एक तिनके की सामान जलकर भस्म हो जाएगा। बजरंगबली के वापस आने पर भगवान श्री राम नल नील के साथ अपनी पूरी सेना के साथ पूरे समुद्र पर पुल बनाते हैं। पुरी सेना लेकर लंका पहुंच जाते हैं लेकिन एक मौका सभी लोग चाहते हैं कि रावण को और देना चाहिए और अंगद दूत बनकर जाते हैं। कहते हैं ना “कि विनाश काले विपरीत बुद्धि” लाख समझाने पर जब रावण समझने के लिए तैयार नहीं होता है तो एक बार और भगवान की ताकत का परिचय करने के लिए अंगद अपना पैर जमीन पर रखकर कहते हैं कि अगर कोई भी मेरा पैर इस पृथ्वी से उठा दिया तो भगवान श्री राम अपनी पूरी सेवा लेकर वापस लौट जाएंगे पूरी लंका के बड़े-बड़े शूरवीर अंगद के पैर को हिला तक नहीं पाते हैं रावण के आने पर अंगद कहते हैं कि रावण तुम्हें मेरा पैर पकड़ने की जगह स्वयं भगवान श्री राम का पैर पकड़ चाहिए। बातचीत की सारी संभावनाएं समाप्त हो जाती है और दोनों सेनाएं एक दूसरे के सामने युद्ध के लिए तत्पर होती हैं। फिर दुनिया के सबसे बड़े ज्ञानियों में से एक महा ज्ञानी परंतु महा अभिमानी और महा पापी रावण के अंत का प्रारंभ होता है असत्य पर सत्य की विजय का प्रारंभ होता है।

सभी भक्तों ने आज की सभी कथाओं का भरपूर आनंद लिया और सब ने भगवान श्री राम का पूरे परिसर में जयकारा लगाकर पूरे परिषद को श्री राम मय कर धन्य कर दिया। जय श्री राम।

इस अवसर पर संस्था के संस्थापक गोश्वामी सुशील जी महाराज राजकुमार नागर, शेर सिंह भाटी, संरक्षक हरवीर मावी, प्रदीप शर्मा,बालकिशन सफ़ीपुर,सुशील नागर,अध्यक्ष आनन्द भाटी,महासचिव ममता तिवारी,कोषाध्यक्ष अजय नागर, मिडिया प्रभारी धीरेंद्र भाटी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष उमेश गोतम,महेश शर्मा, पवन नागर,श्रीमती रोशनी सिंह, सत्यवीर मुखिया,रक़म सिंह भाटी,मनोज गुप्ता,चैनपाल प्रधान,नवनीत गुप्ता, फिरे प्रधान,बीरपाल मावी,श्रीमती विमलेश रावल, मयंक,भगवत्,पवन भाटी, ज्योति सिंह आदि पदाधिकारी मौजूद रहे।

यह भी देखे:-

दुनिया की कोई भी ताकत कश्मीर को हमसे अलग नहीं कर सकती: राजनाथ सिंह
नए अविष्कारों के प्रदर्शन के साथ LED EXPO 2018 का हुआ समापन
खड़ी गाड़ियों से करते थे डीजल चोरी, दादरी पुलिस ने दबोचा
ग्रेनो प्राधिकरण की बड़ी कार्यवाही, इंपीरिया स्ट्रक्चर सोसाइटी पर 10,500 रुपये का जुर्माना
यमुना और अन्य नदियों का पानी आचमन लायक नहीं, छठ महापर्व नजदीक
चौरासी लाख योनियां भोगने के बाद मनुष्य जन्म बड़े भाग्य से मिलता है- आचार्य विष्णुकांत पराशर
दिल्ली- हावड़ा रूट पर ट्रेन हादसा होने से टला
कल का पंचांग, 8 अक्टूबर 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय  में "आपदा की स्थिति में मीडिया की भूमिका और कोविड-19 महामारी" पर वेबिनार क...
आज का पंचांग, 4 दिसंबर 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
जनप्रतिनिधियों ने जनसंवाद कार्यक्रम आयोजित कर सुनी लोगों की समस्या
गौतमबुद्ध नगर कैंटोनमेंट जोन की सूची जारी, देखें
भू माफियाओं पर चला ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण का बुल्डोजर
बालिकाओं की सुरक्षा के लिए  मिशन शक्ति की शुरुआत, शारदा विश्विधायल में कार्यशाला  का आयोजन  
जानिए एनसीआर की कोराेना गाइडलाइन: दिल्ली के बाद अब नोएडा और गाजियाबाद में नाइट कर्फ्यू की तैयारी?