गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में हुआ उन्मुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के शिक्षा एवं प्रशिक्षण विभाग के अंतर्गत विभिन्न कोर्स जैसे परास्नातक शिक्षाशास्त्र, बी.पीएस , एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम में नव प्रवेशित छात्र-छात्राओं के लिए 4 और 5 अक्टूबर को दो दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

नए कोर्सेस के अंतर्गत विश्वविद्यालय में देश के विभिन्न राज्यों से विद्यार्थियों का पंजीकरण हुआ है। दो दिवसीय कार्यक्रम का उद्देश्य विद्यार्थियों को उनके सहपाठियों , प्रवक्ताओं तथा विश्वविद्यालय के साथ एक नई यात्रा हेतु परिचित कराना था। कार्यक्रम की अध्यक्षता कुलपति प्रो. रविंद्र कुमार सिन्हा ने की। कार्यक्रम का आरंभ सरस्वती वंदना तथा दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ।

नई शिक्षा नीति 2020 के अंतर्गत विश्वविद्यालय में एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम ( बीए-बीएड, बीएससी-बीएड, बीकॉम-बीएड ) का संचालन हो रहा है। यहां उल्लेखनीय है कि इस प्रोग्राम हेतु राष्ट्रीय शिक्षक प्रशिक्षण परिषद ने पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत देश के 42 विश्वविद्यालयों का चयन किया था। गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय तीनों स्ट्रीम्स में एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम को उपलब्ध कराने वाला उत्तर प्रदेश का एकमात्र विश्वविद्यालय है। आदरणीय कुलपति डॉ. रविंद्र कुमार सिन्हा ने विश्वविद्यालय की विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए विद्यार्थियों को संपूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि यह प्रोग्राम अपने आप में एक विशिष्ट प्रोग्राम है क्योंकि यह आपके विषय को शिक्षण प्रशिक्षण के साथ संबद्ध करता है। डीन एकेडमिक प्रो. एन.पी. मलकानिया ने विद्यार्थियों को उनकी शिक्षण अधिगम प्रकिया को प्रभावी बनाने हेतु पुस्तकालय के अधिकाधिक प्रयोग हेतु प्रेरित किया। स्कूल डीन प्रो. बंदना पांडे ने नव प्रवेशित विद्यार्थियों को सभी प्रकार के सहयोग हेतु आश्वसित किया। उन्होंने अपने वक्तव्य में ऐसे प्रोग्राम्स में छात्राओं की बढ़ती प्रतिभागिता पर भी प्रकाश डाला। विभाग के संस्थापक प्रमुख डॉ. विनोद कुमार शानवाल ने विभाग की यात्रा को याद करते हुए बताया कि कैसे मात्र दो विद्यार्थियों से प्रारंभ होने वाले विभाग ने आज सैकड़ों की तादाद में विद्यार्थियों का पंजीकरण हो रहा है। विभागाध्यक्ष डॉ. राकेश कुमार श्रीवास्तव ने प्रवेश प्रकिया, पाठ्यचर्या और पाठ्यक्रम के बारे में विस्तृत रूप से चर्चा की। अंत में डॉ. विनोद कुमार शानवाल के धन्यवाद ज्ञापन एवं राष्ट्र गान के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। कार्यक्रम में विभाग की प्रवक्ता डॉ. श्रुति कंवर, डॉ. माया मिश्रा, डॉ. प्रदीप यादव, डॉ. वैशाली एवम बी. एड. के समस्त विद्यार्थी उपस्थित रहे।

यह भी देखे:-

महाराजा अग्रसेन सरस्वती इंटर कॉलेज में धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस समारोह
UNESCO INDIA AFRICA HACKATHON का समापन, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने कहा - युवा हमें एक बेहतर दुनिया ...
ABVP ने DMK सरकार की विभाजनकारी नीतियों का किया विरोध
गलगोटियास विश्वविद्यालय पॉलिटेक्निक द्वारा आयोजित दो दिवसीय पॉलिटेक्निक चैम्पियनशिप -लीग का समापन
शारदा यूनिवर्सिटी: डिज़िटल मीडिया के दौर में मोबाइल जनर्लिज्म पर फोकस ज़रूरी
गलगोटिया विश्वविद्यालय में “इलैक्ट्रिक व्हीकल” टेक्नोलॉजी पर फैकल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का हुआ समाप...
फोर्ब्स इंडिया रिच लिस्ट 2021: मुकेश अंबानी लगातार 14वें साल भारत के सबसे बड़े अरबपति,
आईआईएमटी कॉलेज समूह में एचआर कॉन्क्लेव
जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल में वंडरलैंड क्रिसमस कार्निवल महोत्सव 17 दिसंबर को, आकर्षक उपहार पाने का सु...
एनआईईटी ग्रेटर नोएडा में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस एवं इंडस्ट्री समिट का उदघाटन
जीएल बजाज सेंटर फॉर रिसर्च एंड इनक्यूबेशन बना डीएसटी का प्रयास केंद्र, स्टार्टअप के लिए 3 करोड़ रुपये...
शिक्षा क्षेत्र के दिग्गजों से बी.एन सिंह ने की मुलाकात
फिल्म "पीएम नरेंद्र मोदी" का प्रमोशन करने शारदा यूनिवर्सिटी पहुंचे अभिनेता विवेक ओबेरॉय
इन होनहार बच्चों ने महज 3 मिनट में हल कर दिए 80 प्रश्न, मिली शाबासी, हुए सम्मानित
आईईसी कालेज में टेकफेस्ट “इनोविजन – 2023” का आगाज
माखनलाल चतुर्वेदी विश्विद्यालय में खेली गई फूलों की होली