ग्रेटर नोएडा : फोर्टिस हॉस्पिटल ने दिया संदेश दिल का दौरा पड़ने पर मरीज को ‘गोल्डन ऑवर’ से बच सकता है जीवन

29 सितंबर, 2023 वर्ल्ड हार्ट डे के रूप में मनाया

फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा ने हृदय स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए वॉकथॉन का किया आयोजन

अस्पताल, आरडब्ल्यूए, कॉलेज और वरिष्ठ नागरिक के समूहों के सहयोग से लोगों को कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) की सही तकनीक सीखने के लिए बेसिक लाइफ सपोर्ट ट्रेनिंग (बीएलएस) प्रदान करेगा

ग्रेटर नोएडा: 29 सितंबर 2023, वर्ल्ड हार्ट डे के अवसर पर, फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा के डॉक्टरों ने लोगों को संदेश देकर जागरूक किया कि दिल का दौरा पड़ने के बाद पहले 60 मिनट के भीतर मरीज को अस्पताल पहुंचाने से उसकी जान बचाई जा सकती है। दिल का दौरा पड़ने के बाद के इन 60 मिनटों को ‘गोल्डन ऑवर’ कहा जाता है।

डॉक्टरों ने बताया कि गोल्डन ऑवर का पालन करना मरीज के परिवार और डॉक्टरों के लिए तेजी से इलाज शुरू करने के लिए महत्वपूर्ण है। दिल की मांसपेशियां 80-90 मिनट के भीतर रक्त न मिलने के कारण मृत होना शुरू हो जाती हैं। सही समय से इलाज न शुरू होने पर अगले छह घंटों के भीतर, दिल के सभी प्रभावित क्षेत्र क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। रक्त परिसंचरण जितनी तेज़ी से बहाल किया जाएगा, हृदय व अन्य अंगों को पहुंचने वाला नुकसान उतना कम होगा।

फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा में इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजी विभाग के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. विवेक टंडन ने बताया, “यह महत्वपूर्ण है कि दिल का दौरा पड़ने के बाद इलाज के लिए मरीज को अस्पताल ले जाया जाए, लेकिन यदि कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) की सही विधि के बारे में जागरूकता हो तो यह हार्ट अटैक के किसी भी मरीज के लिए जीवित रहने की संभावना को दोगुना कर देती है।”
उन्होंने कहा कि कोरोनरी आर्टरी डिजीज (सीएडी) सबसे आम हृदय रोगों (सीवीडी) में से हैं और विकसित और विकासशील दोनों देशों में मृत्यु और बीमारी का एक प्रमुख कारण हैं।

फोर्टिस हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा में कार्डियोलॉजी विभाग के एसोसिएट कंसल्टेंट डॉ. विवेक शर्मा कहते हैं, “मधुमेह के रोगियों को सीएडी विकसित होने का अधिक खतरा होता है। देश में किए गए कुछ अध्ययनों के अनुसार, भारत में प्रति एक लाख जनसंख्या पर 272 हृदय रोगी हैं। इससे भी अधिक चिंताजनक बात यह है कि कम उम्र में ही लोग हृदय रोग के शिकार हो रहे हैं। इसलिए, लोगों के लिए यह समझना बहुत जरूरी है कि वे फिट रहें, आहार का सही संतुलन रखने, हल्का व्यायाम करने और धूम्रपान- शराब से दूरी बनाने पर तनाव से बचने में मदद मिल सकती है।

शुक्रवार को इस कार्यक्रम के दौरान, डॉक्टरों ने यह भी बताया कि धूम्रपान करने वाले, शराब का सेवन करने वाले या गतिहीन जीवन शैली जीने वाले लोगों के अलावा, अस्थमा, क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी) और फेफड़ों के फाइब्रोसिस वाले लोगों में हृदय रोग व हृदय संबंधित अन्य परेशानियां विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

फोर्टिस हॉस्पिटल, ग्रेटर नोएडा में पल्मोनोलॉजी और क्रिटिकल केयर के एडिशनल डायरेक्टर डॉ. राजेश कुमार गुप्ता ने कहा, ”
“पल्मोनरी हाइपरटेंशन फेफड़ों को पर्याप्त रक्त पंप करने की हृदय की क्षमता को प्रभावित करता है। यह अन्य स्थितियों के साथ-साथ हृदय या फेफड़ों के लिए जटिलताएं पैदा कर सकता है। फेफड़ों की धमनियों को प्रभावित करने वाला शुरुआती विकार भी पल्मोनरी हाइपरटेंशन का कारण बन सकता है।”

विश्व हृदय दिवस पर, अस्पताल ने एक वॉकथॉन भी आयोजित की, जिसे अस्पताल के गेट नंबर 1 से रवाना किया गया, जो होंडा क्रॉसिंग और पी3 राउंडअबाउट के से होता हुआ 5 किमी से अधिक की दूरी तय कर, फोर्टिस हॉस्पिटल, ग्रेटर नोएडा के गेट नंबर 2 पर समाप्त हुई।
वॉकथॉन में 300 से अधिक रोजाना मॉर्निंग वॉक करने वाले, कॉलेज के छात्र और डॉक्टर शामिल थे। इस कार्यक्रम का उद्देश्य हृदय रोगों की बढ़ती व्यापकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना था।

फोर्टिस ग्रेटर नोएडा के फैसिलिटी डायरेक्टर श्री प्रमित मिश्रा ने कहा, “इस इलाके में एक प्रमुख स्वास्थ्य सेवा प्रदाता के रूप में, हमारे पास लोगों के स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले स्वास्थ्य मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने की जिम्मेदारी है। हम ग्रेटर नोएडा में रेजिडेंट वेलफेयर एसोशिएशन, कॉलेजों और वरिष्ठ नागरिक समूहों के सहयोग से लोगों को बेसिक लाइफ सपोर्ट तकनीकों में प्रशिक्षण देना शुरू करेंगे। हम उन्हें सीपीआर देने की सही तकनीक सिखाएंगे ताकि वे जरूरत पड़ने पर हार्ट अटैक से पीड़ित व्यक्ति की जान बचा सकें।

यह भी देखे:-

पीएम मोदी के साथ जम्मू-कश्मीर पर से सर्वदलीय बैठक, फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और गुलाम नबी आजाद...
दिल्ली: एलजी की शक्तियां बढ़ने से बेचैन क्यों हैं केजरीवाल, क्या बिखर जाएगा आम आदमी पार्टी का यह सपन...
एलनप्रो ने इंडिया इंटरनेशनल हॉस्पीटैलिटी एक्सपो 2019 (आईएचई 19) में अपने नए उत्पाद पेश किए
चिंता बढ़ी , 24 घंटे के अंदर दो बार कांपी दिल्ली की धरती
कोरोना वैक्‍सीन लगवाने से पहले जरा जान लें WHO की तरफ से दी गई सलाह, इस पर करें जरूर अमल
कोरोना की लहर बेकाबू : नौ माह तक नहीं बदला उपचार प्रोटोकॉल, बेपरवाह रहे अफसर
WHO बोला- 53 देशों में कोरोना वायरस की नई लहर का खतरा, यूरोप कोरोना महामारी का केंद्र
बुखार, सांस फूलना और सीने में दर्द...ममता की जांच में इन जगहों पर मिलीं गंभीर चोटें, डॉक्टरों ने बता...
पता लगाएं कहां से आया कोरोना, नहीं तो कोविड-26, कोविड-32 का सामना करने को रहें तैयार; अमेरिकी विशेषज...
डाक्टरों पर हमला रोकने को लेकर कल 18 जून को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन देशव्यापी विरोध का ऐलान
फैसला: यूपी में डीजे पर लगी रोक हटी, हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट ने पलटा
दिल्ली में आज से 24 घंटे होगा कोरोना का टीकाकरण, सरकार ने दिया आदेश
यूपी पंचायत चुनाव : लॉकडाउन में शहर से लौटे युवा पंचायत चुनाव के अखाड़े में ठोक रहे ताल
गाजियाबाद: नौवीं मंजिल पर खेलते वक्त रेलिंग के जाल में फंसा डॉगी, निकालने गई बच्ची गिरी नीचे, दोनों ...
यूपी चुनाव 2022: ओवैसी के साथ मुरादाबाद में होने वाली सभा में शामिल नहीं हुए राजभर
केंद्र सरकार के 48 लाख कर्मियों को डबल फायदा, डीए के बाद बढ़ेगा एचआरए, जानिए कितना इजाफा हो सकता है?