जी.बी.यू. में बुद्ध पूर्णिमा समारोह सम्पन्न

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय ग्रेटर नोएडा में स्थित महात्मा ज्योतिबा फूले ध्यान केन्द्र में 5 मई 2023 को बुद्ध पूर्णिमा का अयोजन किया गया।

कार्यक्रम की शुरुआत जी.बी.यू. के माननीय कुलपति प्रो. आर. के. सिन्हा ने बुद्धमूर्ति के समक्ष प्रदीप प्रज्ज्वलन एवं पुष्पार्पण के साथ की। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि माननीय कुलपति प्रो. सिन्हा ने बुद्ध पूर्णिमा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि संसार के इतिहास में गौतम बुद्ध ही एकमात्र ऐतिहासिक व्यक्ति हैं, जिनके जीवन की तीन महत्वपूर्ण घटनाएँ वैशाख पूर्णिमा के दिन घटित हुई। सिद्धार्थ गौतम का जन्म होना, बोधिसत्व गौतम को सम्यक् सम्बोधि की प्राप्ति होना एवं गौतम बुद्ध का महापरिनिर्वाण होना – ये तीनों महत्वपूर्ण घटनाएँ वैशाख पूर्णिमा के दिन ही घटित हुई थी, जिसके कारण ही इसे बौद्ध जगत् में त्रिविध पावनी बुद्ध पूर्णिमा के रूप में जाना जाता है। यह पर्व मैत्री एवं करुणा का सन्देश देता है तथा गौतम बुद्ध द्वारा देशित धम्म के सम्यक् अनुशीलन से ही समाज में सुख एवं शान्ति की स्थापना की जा सकती है। उनकी शिक्षाओं के पालन के
द्वारा ही सामाजिक सौहार्द को स्थापति किया जा सकता है।

बौद्ध अध्ययन एवं सभ्यता संकाय के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ज्ञानादित्य शाक्य ने गौतम बुद्ध के महापरिनिर्वाण एवं अन्तिम वचन पर विस्तार से प्रकाश डाला तथा सुखी मानव जीवन के लिए अप्रमाद के पालन को नितान्त
आवश्यक बताया।

कार्यक्रम के आयोजक एवं बोधि ध्यान साधना के समन्वयक डॉ. मनीष मेश्राम ने स्वागत भाषण दिया तथा उपस्थित जनसमूह को बुद्ध पूर्णिमा समारोह की रूपरेखा से अवगत कराया। इसके साथ ही, बौद्ध अध्ययन एवं सभ्यता संकाय के
असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. मेश्राम ने इस अवसर पर उपस्थित जनसमूह को बुद्धानुस्सति ध्यान भावना का अभ्यास भी करवाया।

कार्यक्रम की विधिवत् शुरुआत बुद्ध वन्दना से हुई, जिसमें भारतीय बौद्ध श्रद्धालुओं तथा बौद्ध अध्ययन एवं सभ्यता संकाय में अध्ययनरत् विदेशी बौद्ध भिक्षु एवं भिक्षुणियों ने भाग लिया।

बौद्ध अध्ययन एवं सभ्यता संकाय के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. चिंतल वेंकट सिवसाई ने धन्यवाद ज्ञापन दिया तथा जीबीयू में अध्ययनरत् छात्रा डोली ने इस कार्यक्रम का सफल संचालन किया।

इस कार्यक्रम में डॉ. पंकजदीप, डॉ. चन्द्रभानु भरास, डॉ. कमालिका बनर्जी, स्वपनिल तिवारी, डॉ. दिनेश कुमार शर्मा, श्री विक्रम सिंह यादव, डॉ. सुभोजित बनर्जी, डॉ. विमलेश कुमार, श्री कन्हीया, श्री अजय सहित लगभग 120 गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया, जिसमें विश्वविद्यालय के सदस्य, कर्मचारी, छात्र-छात्रों के साथ कासना गाँव से आये कई बौद्ध अनुयायियों
ने भी भाग लिया।

यह भी देखे:-

प्राचीन तपोभूमि ब्रम्हचारी कुटी  में भोलेनाथ का दुग्धारा से अभिषेक किया
देवशिल्पी भगवान विश्वकर्मा जी की जयंती धूमधाम से मनाई
अक्षय तृतीया के उपलक्ष्य में अरहं मंडल द्वारा जरूरतमंद बच्चों में बिस्कुट - पेय पदार्थ का वितरण 
कल का पंचांग, 19 नवंबर 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
Brahma Kumaris organize a special program on 7 Billion Acts of Goodness
गणेश चतुर्थी 2017 : जानिए पूजन मुहूर्त,सामग्री, विधी, आरती
 जानिए 2020 के छठ पूजा की तारीख, नहाय-खाय, खरना, व्रत नियम और पूजा विधि...
कल का पंचांग, 8 मार्च 2024, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
नवरात्र सेवक दल द्वारा खाटू श्याम जी की मूर्ति की स्थापना कल , आज हुआ चौथे दिन का पाठ : मनीष अवस्थी
ग्रेटर नोएडा में होगा भव्य उत्तराखंडी सांस्कृतिक कार्यक्रम, रामलीला का भी होगा मंचन
हनुमान जयंती महोत्सव : जागरण व सुंदरकांड का भव्य आयोजन
कल का पंचांग, 18 अप्रैल 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
आज का पंचांग, 2 जुलाई 2020, जानिए शुभ अशुभ मूहुर्त
कल का पंचांग, 23 दिसंबर 2022, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
देशभर के पर्यटकों को लेकर अयोध्या पहुंची रामायण एक्सप्रेस, भक्त हुए भाव विभोर
माँ वैष्णवी धाम मंदिर नवादा में संगीतमय श्रीमद भागवत महापुराण ज्ञान यज्ञ कथा का शुभारम्भ कल 5 जनवरी ...