बाबा साहब अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे: प्रो आर. के. सिन्हा, कुलपति, जीबीयू

बाबा साहब अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे यह बातें प्रो आर. के. सिन्हा, कुलपति, जीबीयू ने कहीं।

उल्लेखनिय है कि आज का दिन भारतीय इतिहास में बहुत महत्व रखता है, इसलिए इसे भारतीय लोगों द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए देश भर में मनाया जाता है। इसी महत्व को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष १४ अप्रिल २०२३, जो कि बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर का जन्म दिवस है, को भारत सरकार ने सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है जो दर्शाता है कि वो आज भी कितने पूजनीय हैं।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर के जन्म दिवस पर उन्हें विश्वविद्यालय परिवार की ओर से श्रधांजलि अर्पित करने हेतु एक कार्यक्रम का आयोजन विश्वविद्यालय में स्थित बाबा साहब दीक्षा स्थल, जहां बाबा साहब और उन्हें दीक्षा देते हुए भिक्षु चन्द्रमणि और उनके तीन शिष्यों की अष्ट धातु से बनी आदम क़द की प्रतिमा है, पर आयोजित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान कुलपति प्रो आर. के. सिन्हा, कुल सचिव डॉ विश्वास त्रिपाठी, के अलावा बड़ी संख्या में विशवव्विदयलय के पदाधिकारी, शिक्षकगण एवं कर्मचारीयों ने पुष्पित अर्पित कर श्रधांजलि दी।

कार्यक्रम में बाबासाहेब अंबेडकर उपलब्धियों पर चर्चा की गयी और उस क्रम जो मुख्य बातें चर्चा रही वो थे कि बाबा साहब की प्रतिष्ठा एक महान विद्वान और कानूनविद की थी। और यही कारण था कि आजादी के बाद उन्हें देश का पहला कानून मंत्री बनाया गया। उन्हें भारतीय संविधान निर्माण की सबसे अहम जिम्मेदारी देते हुए संविधान मसौदा समिति का अध्यक्ष भी बनाया गया। संविधान निर्माण के लिए उन्होंने कई देशों के संविधान का अध्ययन किया। उन्हें संविधान का जनक व संविधान निर्माता भी कहा जाता है। इसके अलावा वह एक महान अर्थशास्त्री थे। आरबीआई की परिकल्पना उनके विचारों पर ही आधारित थी।

अंत में कुलपति जीबीयू ने कहा कि अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे। साथ ही यह भी कहा कि बाबा साहब अंबेडकर सिर्फ दलित वर्ग के लिए नहीं बल्कि महिलाओं व श्रमिकों के अधिकारों के लिए भी लड़े थे। वह चाहते थे कि महिलाओं को समाज में बराबरी का हक मिले। वे कहते थे कि मैं किसी समाज की प्रगति का आकलन यह देखकर करूंगा कि वहां की महिलाओं की स्थिति कैसी है।

कार्यक्रम में प्रो एन. पी. मलकनिया, प्रो बंदना पांडेय, प्रो संजय शर्मा, डॉ कीर्ति पाल, डॉ मनमोहन सिंह, डॉ विवेक मिश्रा, डॉ प्रदीप तोमर, डॉ ओम् प्रकाश, डॉ चंद्रशेखर पासवान, डॉ जेपी मुयाल, डॉ शुभोजीत बैनर्जी, इत्यादि बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।

यह भी देखे:-

Uphaar Fire Tragedy Case: कोर्ट ने अंसल बंधुओं पर लगाया 2.25 करोड़ का जुर्माना, सुनाई 7-7 साल की सजा
जी डी गोयंका स्वर्ण नगरी, ग्रेटर नोएडा में क्रिसमस कार्निवल की धूम
एनआईआरएफ रैंकिंग-2023 में एनआईईटी ग्रेटर नोएडा उत्तर प्रदेश में एकेटीयू का नंबर 1 इंस्टीट्यूट
इंटरनेशनल ट्रेड शो में प्रतिभाग कर रहा है इनोवेशन हब एकेटीयू , प्रदेश के चुनिंदा स्टार्टअप्स को देगा...
दीपों के उत्सव पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द, PM मोदी ने दी शुभकामनाएं
गलगोटियाज विश्वविद्यालय में माई स्टोरी - मोटिवेशनल सेशन बाय सक्सेसफुल इनोवेटर्स कार्यक्रम सम्पन्न
आईआईएमटी कॉलेज आफ लॉ में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस का उद्घाटन
शारदा विश्विद्यालय : स्वामी मुकुदानंदा ने बताया खुशी, सफलता और पूर्ति के सात मन्त्र
समस्त जीवन सभी लोग छात्र बने रहते हैंः कपिल देव अग्रवाल
लखनऊ: मोहन भागवत से मिले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राम मंदिर सहित कई मुद्दों पर हुई बात
आईआईएमटी ने बारहवीं के प्रतिभाशाली छात्रों को किया सम्‍मानित
Ryan Greater Noida Won Udaan 2022 Badminton Championship 
एक क्लिक में जानें क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन , कैसे मिलेगा इसका फायदा
यूपी कैबिनेट के फैसले : दूसरे विभागों में भी मिल सकेगी मृतक आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति
गलगोटियास विश्वविद्यालय में छात्राओं ने जाना, कैसे चटाएं मनचलों को धूल, सीखे आत्मरक्षा के गुर
गलगोटिया विश्विद्यालय ने सफलता के नए आयामों की संरचना की है