बाबा साहब अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे: प्रो आर. के. सिन्हा, कुलपति, जीबीयू

बाबा साहब अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे यह बातें प्रो आर. के. सिन्हा, कुलपति, जीबीयू ने कहीं।

उल्लेखनिय है कि आज का दिन भारतीय इतिहास में बहुत महत्व रखता है, इसलिए इसे भारतीय लोगों द्वारा उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए देश भर में मनाया जाता है। इसी महत्व को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष १४ अप्रिल २०२३, जो कि बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर का जन्म दिवस है, को भारत सरकार ने सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है जो दर्शाता है कि वो आज भी कितने पूजनीय हैं।

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में बाबा साहब डॉ भीम राव अम्बेडकर के जन्म दिवस पर उन्हें विश्वविद्यालय परिवार की ओर से श्रधांजलि अर्पित करने हेतु एक कार्यक्रम का आयोजन विश्वविद्यालय में स्थित बाबा साहब दीक्षा स्थल, जहां बाबा साहब और उन्हें दीक्षा देते हुए भिक्षु चन्द्रमणि और उनके तीन शिष्यों की अष्ट धातु से बनी आदम क़द की प्रतिमा है, पर आयोजित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान कुलपति प्रो आर. के. सिन्हा, कुल सचिव डॉ विश्वास त्रिपाठी, के अलावा बड़ी संख्या में विशवव्विदयलय के पदाधिकारी, शिक्षकगण एवं कर्मचारीयों ने पुष्पित अर्पित कर श्रधांजलि दी।

कार्यक्रम में बाबासाहेब अंबेडकर उपलब्धियों पर चर्चा की गयी और उस क्रम जो मुख्य बातें चर्चा रही वो थे कि बाबा साहब की प्रतिष्ठा एक महान विद्वान और कानूनविद की थी। और यही कारण था कि आजादी के बाद उन्हें देश का पहला कानून मंत्री बनाया गया। उन्हें भारतीय संविधान निर्माण की सबसे अहम जिम्मेदारी देते हुए संविधान मसौदा समिति का अध्यक्ष भी बनाया गया। संविधान निर्माण के लिए उन्होंने कई देशों के संविधान का अध्ययन किया। उन्हें संविधान का जनक व संविधान निर्माता भी कहा जाता है। इसके अलावा वह एक महान अर्थशास्त्री थे। आरबीआई की परिकल्पना उनके विचारों पर ही आधारित थी।

अंत में कुलपति जीबीयू ने कहा कि अम्बेडकर उच्चतम ज्ञान और दलित आध्यात्मिकता और समानता के अग्रदूत थे। साथ ही यह भी कहा कि बाबा साहब अंबेडकर सिर्फ दलित वर्ग के लिए नहीं बल्कि महिलाओं व श्रमिकों के अधिकारों के लिए भी लड़े थे। वह चाहते थे कि महिलाओं को समाज में बराबरी का हक मिले। वे कहते थे कि मैं किसी समाज की प्रगति का आकलन यह देखकर करूंगा कि वहां की महिलाओं की स्थिति कैसी है।

कार्यक्रम में प्रो एन. पी. मलकनिया, प्रो बंदना पांडेय, प्रो संजय शर्मा, डॉ कीर्ति पाल, डॉ मनमोहन सिंह, डॉ विवेक मिश्रा, डॉ प्रदीप तोमर, डॉ ओम् प्रकाश, डॉ चंद्रशेखर पासवान, डॉ जेपी मुयाल, डॉ शुभोजीत बैनर्जी, इत्यादि बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।

यह भी देखे:-

गायत्री देवी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा बाल दिवस का आयोजन
एमिटी यूनिवर्सिटी ग्रेटर नोएडा कैंपस में मनाया गया आईईईई डे
गलगोटिया विश्विद्यालय में एनसीसी थल सेना प्रिपरेशन कैंप का शुभारम्भ 
गलगोटियास विश्वविद्यालय में स्कूल शिक्षकों के लिए नवाचार, डिजाइन और उद्यमिता (आईडीई) बूटकैंप के आयोज...
ग्रेटर नोएडा के स्कूलों में धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस, देखें झलकियाँ
जीडी गोयनका में मनाई गई गाँधी व शास्त्री जयंती
ईएमसीटी की ज्ञान शाला धूमधाम से मनाया गया शिक्षक दिवस
ग्लोबल इंस्टिट्यूट में जापानी भाषा प्रशिक्षण केंद्र ARMS का उद्घाटन
कीर्तिमान : गलगोटियाज यूनिवर्सिटी  में अब तक का सबसे अधिक प्लेसमेंट ऑफर 
Padma Awards: पं. छन्नूलाल मिश्र को मिला पद्म विभूषण सम्मान, बनारस घराने के सम्मान में हुई बढ़ोतरी
प्रेरणा विमर्श 2023: डिपार्टमेंट ऑफ़ मीडिया स्टडीज, क्वांटम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने GBU में चित्रक...
जी.एल. बजाज में इन्टरप्रिन्योरशिप, इन्यूवेशन एण्ड इनोवेशन विषय पर फैकल्टी डेवलोपमेंट प्रोग्राम की शु...
ईशान इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ, ग्रेटर नोएडा द्वारा अतिथि व्याख्यान का किया गया आयोजन
आईईसी कॉलेज में हुनर से रोजगार कार्यक्रम का आयोजन
गलगोटिया विश्वविद्यालय में नवीन पुस्तकालय और सूचना सेवाओं पर एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आय...
एकेटीयू : बीटेक के छात्र ले सकेंगे माइनर डिग्री