गलगोटिया विश्वविद्यालय में निर्यात के लिए बासमती चावल पर प्रशिक्षण-सह-कार्यशाला

निर्यात के लिए बासमती चावल की उत्पादन तकनीक पर एक दिवसीय प्रशिक्षण-सह-कार्यशाला गलगोटिया विश्वविद्यालय, ग्रेटर नोएडा में आयोजित की गई। कार्यशाला में लगभग 300 किसानों, प्रसंस्करणकर्ताओं, व्यापारियों, कीटनाशक कंपनियों के प्रतिनिधियों, कृषि युवाओं और कृषि वैज्ञानिकों/विशेषज्ञों ने भाग लिया। कार्यशाला का आयोजन स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर और बासमती एक्सपोर्ट डेवलपमेंट फाउंडेशन, एपीडा द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। कार्यशाला के दौरान कृषि विशेषज्ञों ने इस बात पर जोर दिया कि बासमती चावल के निर्यात की अपार संभावनाएं हैं। वीरेनक्सिया और मल्टीप्लेक्स, दो कृषि कंपनियों ने किसानों के लाभ के लिए अपने स्टॉल प्रदर्शित किए। विशेषज्ञों ने बाजारों में बासमती चावल की गुणवत्तापूर्ण उपज का अच्छा मूल्य प्राप्त करने और निर्यात के माध्यम से अपनी आय बढ़ाने के लिए कीटनाशकों के सीमित उपयोग, एकीकृत कीट प्रबंधन प्रथाओं, अच्छी कृषि पद्धतियों, उत्पादन और प्रसंस्करण तकनीकों के लाभों के बारे में बताया। कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना व दीप प्रज्वलित कर की गई।

विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्री सुनील गलगोटिया ने इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम में भाग लेने के लिए सभी हितधारकों, विभिन्न आईसीएआर संस्थानों के प्रतिष्ठित वक्ताओं, उद्योग भागीदारों, कृषि विभाग, उत्तर प्रदेश के अधिकारियों, बासमती निर्यात विकास फाउंडेशन, किसानों और खेतिहर युवाओं का हार्दिक आभार व्यक्त किया।

विश्वविद्यालय के सीईओ, श्री ध्रुव गलगोटिया ने अतिथियों का स्वागत किया और कहा कि गलगोटिया विश्वविद्यालय छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने, उन्हें पेशेवर रूप से सक्षम और सामाजिक रूप से संवेदनशील बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि कृषि शिक्षा को अनुसंधान और विस्तार के लिए वैज्ञानिक आधार बनाने में सबसे आगे होना चाहिए। उन्होंने किसान भाइयों, कृषि विभाग, उत्तर प्रदेश और आईसीएआर के विभिन्न संस्थानों के प्रमुख गणमान्य व्यक्तियों का हार्दिक स्वागत किया।
सभा को संबोधित करते हुए, कुलपति, डॉ. के. मल्लिकार्जुन बाबू ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि यहां विचार-विमर्श से सहयोग के सामान्य क्षेत्रों की पहचान करने और विशेष रूप से निर्यात के लिए बासमती चावल के उत्पादन में भारतीय कृषि को और अधिक मजबूत बनाने के लिए तालमेल का उपयोग करने में मदद मिलेगी। प्रो वाइस चांसलर, डॉ. अवधेश कुमार ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उत्कृष्टता के साथ कृषि शिक्षा के सामंजस्य के लिए, हमें अपने कृषक समुदाय के लाभ के उद्देश्य से इस कार्यशाला जैसी पहल करनी चाहिए।

डॉ. आर.एन. पदारिया, संयुक्त निदेशक-विस्तार, आईसीएआर-आईएआरआई ने किसानों और छात्रों को सर्वोत्तम गुणवत्ता वाले बासमती चावल उगाने की तकनीक के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि बासमती की तीन किस्में पूसा बामती 1847, पूसा बासमती 1885 और पूसा बासमती 1886 हाल ही में आई ए आर आई द्वारा जारी की गई हैं जो बैक्टीरियल ब्लाइट और धान ब्लास्ट के लिए प्रतिरोधी हैं। इन तीनों किस्मों के बीजों का गुणन कीटनाशकों की खपत को कम कर सकता है जो यूरोपीय बाजार में हमारे निर्यात को बढ़ाने में सहायक होगा। डॉ. सुभाष चंदर, निदेशक, आईसीएआर-एनसीआईपीएम ने जैविक नियंत्रण और आईपीएम प्रौद्योगिकियों को अपनाने पर जोर दिया।
बीईडीएफ के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. रितेश शर्मा ने कहा कि रोग प्रतिरोधी किस्मों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने किसानों को अवगत कराया कि हमारे देश के 5 राज्यों और 95 जिलों की जलवायु धान की फसल के लिए अनुकूल है और इसमें अकेले उत्तर प्रदेश के 30 जिले शामिल हैं। डॉ. रितेश शर्मा ने बासमती चावल के निर्यात को बढ़ाने की उत्पादन तकनीकों, प्रसंस्करण और प्रक्रियाओं के बारे में विस्तार से बताया। उनके द्वारा इस बात पर भी जोर दिया गया कि किसान उत्पादक संगठनों को मजबूत करके और उनकी भागीदारी से निर्यात को और बढ़ाया जा सकता है।
डॉ. वाई.एस. शिवाय, प्रधान वैज्ञानिक, आईएआरआई ने बासमती चावल की फसल में खरपतवारों के प्रबंधन और भूमि के विखंडन के कारण अच्छी कृषि पद्धतियों को अपनाने की आवश्यकता के बारे में चर्चा की।
एनसीआईपीएम के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. मुकेश सहगल ने कहा कि बासमती की अच्छी फसल लेने के लिए नर्सरी लगाने, रोपाई पर विशेष ध्यान देने, धान की फसल में लगने वाले रोगों की सटीक जानकारी देने की जरूरत है. डॉ विनोद कुमार, कृषि जिला विकास अधिकारी, यूपी सरकार ने किसानों को किसी भी कृषि मुद्दे के बारे में हेल्पलाइन नंबर 9452247111 और 9452257111 पर अपने प्रश्न भेजने के लिए कहा। श्री राहुल यादव, मंडल विपणन अधिकारी, मेरठ भी कार्यक्रम में शामिल हुए और कृषि निर्यात और व्यापार से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की।
डॉ. सहदेव सिंह, डीन, कृषि स्कूल, प्रो. एच.एस. गौड़, प्रतिष्ठित प्रोफेसर ने कार्यक्रम के दौरान प्रतिभागियों को संक्षिप्त अवधि की किस्मों के विकास के लिए केंद्रित अनुसंधान प्रयासों के उद्देश्य से जानकारी दी और उत्पादकता बढ़ाने, पानी की आवश्यकता में कमी और उत्तरी भारत में बासमती चावल की टिकाऊ खेती के लिए अच्छी कृषि पद्धतियों की आवश्यकता है। डॉ. उजमा मंजूर, एसोसिएट डीन, स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा।

यह भी देखे:-

गलगोटियाज यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ हॉस्पिटैलिटी एंड टूरिज्म को ग्लोबल सर्टिफिकेशन और इंटरनेशनल अक्रेड...
जी डी गोयंका पब्लिक स्कूल स्वर्ण नगरी ग्रेटर नोएडा में कार्यशाला का आयोजन
जीएनआईओटी  में  ओरिएंटेशन प्रोग्राम "आरब्ध  -2021" के तीसरे दिन “न्यूरो लिंगविस्टिक  प्रोग्रामिंग वर...
शारदा विश्वविधालय के द्वारा कंक्रीट के शक्ति बढ़ाने के रिसर्च का पेटेंट प्राप्त कर जिले का नाम रोशन क...
यूनिजिफ ने आयोजित की ग्लोबल लीडर्स कांफ्रेंस, 21वीं सदी के कौशल और शिक्षा पर हुई चर्चा
पत्रकारिता में विचारधारा का संकट नहीं, प्रेरणा विमर्श 2020 का दूसरा दिन
उत्तर प्रदेश में सभी शिक्षण संस्थानों में छुट्टी ....पढ़ें पूरी खबर
Delhi cloverleaf: नोएडा-दिल्ली लिंक रोड पर जाम से मिली मुक्ति, एक साथ शुरू हुए 2 क्लोवरलीफ
सावित्री बाई फूले बालिका इंटर कॉलेज में मनाया गया हिंदी दिवस
एच.आई.एम.टी ग्रुप ऑफ़ इंस्टीटूशन्स, ग्रेटर नोएडा मे ओरिएंटेशन डे का आयोजन
67th National Film Awards: रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के और कंगना को बेस्ट एक्ट्रेस का नेशनल अवॉर्ड
कई और ट्रेड में स्थानीय युवा बन सकेंगे हुनरमंद, रोजगार के द्वार खुलेंगे
आईआईएमटी में स्टेट लार्जेस्ट क्लाइमेट क्लॉक असेंबल एण्ड डिस्प्ले इवेंट का आयोजन
मां की दर्द भरी पुकार: मेरे लाल का बदन तप रहा है, भर्ती कर लो डॉक्टर साहब... एक बेटा खोने के बाद दूस...
आई0 टी0 एस0 डेंटल काॅलेज के बी0 डी0 एस0 विद्यार्थियों का नया सत्र प्रारम्भ
जीबीयू और आईपीयूए के बीच समझौता ज्ञापन एमओयू पर हस्ताक्षर