ग्रेटर नोएडा में तीन दिवसीय जैविक कृषि विश्व कुम्भ 2017 का शुभारम्भ

ग्रेटर नोएडा : आज शहर के इण्डिया एक्सपो मार्ट में जैविक कृषि विश्व कुम्भ 2017 में केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, राधा मोहन सिंह ने कहा कि भारत परंपरागत रूप से दुनिया का सबसे बड़ा जैविक कृषि करने वाला देश हैI यहाँ तक कि मौजूदा भारत के बहुत बड़े भू – भाग में परंपरागत ज्ञान के आधार पर जैविक खेती की जाती है। इससे पहले उन्होंने कार्यक्रम का उद्घाटन किया।

बता दें इस आयोजन में विश्व के 110 देशों के 1400 प्रतिनिधि और 2000 भारतीय प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं। आयोजन को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ आर्गेनिक फार्मिक मूवमेंट्स (आईफोम) और ओएफआई ने मिलकर आयोजित किया है। कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि देश में वर्तमान में 22.5 लाख हेक्टेयर जमीन पर जैविक खेती हो रही है जिसमे परंपरागत कृषि विकास योजना से 3,60,400 किसान को लाभ पहुंचा है। इसी तरह पूर्वोत्तर राज्यों के क्षेत्रों में जैविक कृषि के अंतर्गत 50,000 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करने का लक्ष्य है। अब तक 45863 हेक्टेयर क्षेत्र को जैविक योग्य क्षेत्र में परिवर्तित किया जा चुका है और 2406 फार्मर इटेंरेस्ट ग्रुप (एफआईजी) का गठन कर लिया गया है, 2500 एफआईजी लक्ष्य के मुकाबले 44064 किसानों को योजना से जोड़ा जा चुका है।

केन्द्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में परंपरागत कृषि विकास योजना वर्ष 2015-16 से प्रारम्भ हुई और 28750 एकड़ मे 28750 किसान को लाभ पहुंचा है। किसानो के जैविक उत्पादो के विपणन के लिए राज्य सरकार 5 लाख रुपये प्रति जनपद को देकर बिक्री केंद्र खुलवा रही हैI श्री सिंह ने कहा कि दुनिया के कुछ वैज्ञानिक इसे ‘डिफाल्ट ऑर्गेनिक’ कहते हैं, लेकिन हमें यह समझने की जरूरत है कि जो किसान परंपरागत रूप से जैविक खेती कर रहे हैं, यह उनकी मजबूरी नहीं, उनकी पसंद है। बेहद गहरी समझ के साथ वो इस रास्ते पर सदियों से चल रहे हैं। आज, वो रासायनिक खाद का इस्तेमाल नहीं करते तो यह उनकी अज्ञानता नहीं है, बल्कि उन्होंने बहुत सोचसमझ कर ऐसा न करने का फैसला किया है। इसलिए उनकी इस खेती की विधि को ‘बाई डिफाल्ट’ नहीं कहा जा सकता । राधा मोहन सिंह ने कहा कि भारत सरकार इस बात को स्वीकार करती है कि पिछले कुछ दशकों में खेतों में रासायनिक खाद के अंधाधुंध उपयोग ने यह सवाल पैदा कर दिया है कि इस तरह हम कितने दिन खेती कर सकेंगे? रासायनिक खाद युक्त खेती से पर्यावरण के साथ सामाजिक-आर्थिक और उत्पादन से जुड़े मुद्दे भी हैं जो हमारा ध्यान अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं ।

यह भी देखे:-

ग्रेटर नोएडा : सामूहिक विवाह समारोह में सात जोड़ों ने लिए सात फेरे
सिलिंडर फटने से युवक की मौत, दो झुलसे
यमुना प्राधिकरण की 63वीं बोर्ड बैठक संपन्न
पार्कों में जल्द दिखेंगे प्लास्टिक वेस्ट से बने बेंच व ट्री गार्ड
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी की नोएडा वासियों के लिए 2821 करोड़ की मिली सौगात
ग्रेनो वेस्ट में लगाये गए अवैध होर्डिंग को हटाये गए
कायस्थ जाति को ओबीसी में शामिल करने की खबर पर कायस्थ समाज भड़का, जगह-जगह बैठक कर हो रहा है विरोध
बिल्डरों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही, बिना रजिस्ट्री करने वाले बिल्डर्स के खिलाफ दर्ज होगी एफआईआर : डीएम ...
दबिश देने गई पुलिस टीम के साथ मारपीट
विश्व पर्यावरण दिवस : ग्रेनो प्राधिकरण लगाएगा 1  लाख  पौधे, , आज से शुरू हुआ अभियान
एसडीएम और एएसपी ने अवैध खनन करते पकड़े
भाजयुमो के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष का जेवर में जोरदार स्वागत
मिशन शक्ति-3 कार्यक्रम के शुभारंभ के अवसर पर जनपद गौतमबुद्ध नगर में शुरू की गई महिला बीट प्रणाली
यमुना एक्सप्रेस वे पर तेज रफ्तार का कहर, एक ही परिवार के तीन घायल, एक की मौत
इन गुण्डों पर लगाया गया गैंगस्टर, पढ़ें पूरी खबर
सिग्मा - 1 आरडब्लूए पदाधिकारियों के समर्थन में उतरी गोल्डन फेडरेशन