एशिया का सबसे बड़ा फार्मा एक्सपो CPhi & P-Mec India 2022 का आगाज़

सीपीएचआई और पीमेक इंडिया के 15वें संस्करण में फार्मा मशीनरी, उपकरण, सामग्री और तकनीक की प्रभावशाली श्रृंखला प्रदर्शित

 

• सीपीएचआई और पीमेक इंडिया 2022 आज इंडिया एक्सपो सेंटर, ग्रेटर नोएडा, दिल्ली-एनसीआर में शुरू हुआ
• दुनिया भर से 40,000 से अधिक आगंतुकों, 1500 से अधिक प्रदर्शकों और 80 से अधिक देशों के प्रतिनिधियों को एक साथ लाने वाला व्यापार मेला
• 9वें वार्षिक भारत फ़ार्मा पुरस्कार, सीईओ राउंडटेबल और वुमन इन फ़ार्मा राउंडटेबल जैसे शक्तिशाली सहायक कार्यक्रमों का एक साथ आयोजन

*देखें Video,*

नई दिल्ली, 29 नवंबर 2022: इन्फोर्मा मार्केट्स इन इंडिया द्वारा आयोजित सीपीएचआई और पीमेक इंडिया 2022, कोविड-पश्चात युग में फार्मास्युटिकल निर्माण के एक नए रूप तथा आकार को प्रदर्शित करने पर केंद्रित है। इंडिया एक्सपो सेंटर, ग्रेटर नोएडा, दिल्ली – एनसीआर में यह व्यापार मेला शुरू हुआ। दो जगह पर एक साथ आयोजित इस शो ने फार्मा मशीनरी, विश्लेषणात्मक उपकरणों, प्रयोगशाला प्रौद्योगिकियों और उपकरणों, सहायक, सामग्री और अधिक की पूरी श्रृंखला पर विस्तृत प्रारूप में चर्चा करने का सभी हितधारकों को एक अनूठा अवसर प्रदान किया है।

क्राउन प्लाजा, मयूर विहार, नई दिल्ली में सीपीएचआई प्री-कनेक्ट कांग्रेस के सफल समापन के बाद, #GetPharmore बेहतर अवसर, बेहतर मेल-मिलाफ! इस थीम पर सीपीएचआई और पीमेक इंडिया के 15वें संस्करण का आयोजन किया गया है। उद्योग के विशेषज्ञों, अग्रणी निर्माताओं, खरीदारों के समुदाय, नीति सलाहकारों और अन्य प्रमुख हितधारकों की सबसे बड़ी सभाओं में से एक आयोजन के रूप में इसे देखा जाएगा। भव्य उद्घाटन समारोह में श्री रवि उदय भास्कर, डायरेक्टर जनरल, फार्मेक्सिल, डॉ. वीरमणि एस.वी, वाइस-चेयरमैन, फार्मेक्सिल, एवीपीएस चक्रवर्ती, एंबेसडर- वर्ल्ड पैकेजिंग ऑर्गनाइजेशन और बोर्ड मेंबर फार्मेक्सिल, साहिल मुंजाल जैसे प्रमुख गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे। फार्मेक्सिल के अध्यक्ष, बोध राज सीकरी, अध्यक्ष, फार्मास्युटिकल एंटरप्रेन्योर्स फेडरेशन, मार्गरेट मा, प्रेसिडेंट और सीईओ इन्फोर्मा मार्केट्स एशिया, क्रिस ईव, वाइस प्रेसिडेंट, इन्फोर्मा मार्केट्स एशिया; श्री योगेश मुद्रास, प्रबंध निदेशक, इन्फोर्मा मार्केट्स इन इंडिया, श्री राहुल देशपांडे, वरिष्ठ समूह निदेशक, इन्फोर्मा मार्केट्स इन इंडिया और श्री रंजीथ पॉल, समूह निदेशक, इन्फोर्मा मार्केट्स इन इंडिया आदि प्रमुख गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति थी।

इस वर्ष के संस्करण में 40,000 से अधिक आगंतुकों और 1,500 से अधिक प्रदर्शकों की भागीदारी देखी गई, जिसमें 80 से अधिक देशों के प्रतिनिधित्व के साथ 100,000+ वर्ग मीटर के प्रदर्शनी स्थल में 5000+ उत्पादों का प्रदर्शित किया गया है। इन सभींने फार्मास्युटिकल क्षेत्र को बढ़ावा देने और सुविधा प्रदान करने के लिए एक उद्योग कार्यक्रम के रूप में सीपीएचआई और पीमेक इंडिया इंडिया 2022 की आवश्यकता और फोकस की फिर से पुष्टि की। प्रमुख प्रदर्शकों में हेटेरो, अरबिंदो, सिग्नेट, टेवा, ऑप्टिमस, लोन्ज़ा कैप्सूल, मर्क, आईएमसीडी, फेट कॉम्पैक्टिंग, एल्माच, एसीजी, बीडी फार्मा, आईएमए, कैडमैक, जीईए और कई अन्य शामिल हैं।

इस क्षेत्र में अवसरों को संबोधित करते हुए, श्री योगेश मुद्रास, प्रबंध निदेशक, इंफोर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने कहा, “भारत के फार्मास्युटिकल क्षेत्र ने विनिर्माण मात्रा के मामले में खुद को साबित करने से कहीं अधिक किया है और महामारी के बाद के क्रम में एक लाइफ सायन्स लीड़र के रूप में यह क्षेत्र उभरा है। भारत का फार्मास्युटिकल क्षेत्र 50 अरब अमेरिकी डॉलर का उद्योग है और एक दशक से भी कम समय में कम से कम 150 अरब अमेरिकी डॉलर तक बढ़ने का अनुमान है। सरकार इस क्षेत्र को मजबूत करने के लिए नई रणनीतियां भी विकसित कर रही है और इनोवेशन हब बनाने के लिए भारत को डिजिटल स्वास्थ्य में इनोवेशन के लिए एक आदर्श परीक्षण आधार बना रही है।

“हमारे शो सीपीएचआई और पीएमईसी इंडिया ने प्रौद्योगिकी समाधान, ज्ञान साझा करने, नेटवर्किंग के लिए अत्यधिक प्रभावी प्लेटफार्मों को क्यूरेट करके उद्योग को समर्थन देने में उत्कृष्टता का प्रदर्शन किया है। हमें विश्वास है कि शो का 15वां संस्करण और इससे जुड़े अन्य कार्यक्रम इस उद्योग के सभी प्रतिभागियों के लिए अभूतपूर्व सफलता प्रदान करेंगे। इसके अलावा, वे सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ के सिद्धांत को प्रोत्साहित करने में अपनी भूमिका निभाएंगे जिसका उद्देश्य निवेश को बढ़ावा देना, नवाचार को बढ़ावा देना, कौशल विकास को बढ़ाना, बौद्धिक संपदा की रक्षा करना और सर्वश्रेष्ठ निर्माण बुनियादी ढांचे का तैयार करना है।“

उद्योग के दृष्टिकोण की पेशकश करते हुए, डॉ. वीरामणि एस.वी, वाइस-चेयरमैन, फार्मेक्सिल ने कहा, “नवाचार के लिए एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाने की दिशा में सरकार की ओर से जोर दिया जा रहा है ताकि भारत दवाओं और चिकित्सा प्रौद्योगिकी की खोज में अग्रणी बन सके। वर्तमान में, वैश्विक दवा उद्योग 1.2 ट्रिलियन अमरीकी डालर का है और भारतीय दवा उद्योग 50 बिलियन अमरीकी डालर का है। करीब 25.6 अरब डॉलर का घरेलू बाजार है और 24.6 अरब डॉलर का निर्यात बाजार है। हमें उम्मीद है कि यह 2030 तक 130 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जाएगा और इसका 60% निर्यात बाजार होगा। सीपीएचआई और पीमेक इंडिया इंडिया 2022 ने एक निष्पक्ष और मुखर मंच प्रदान किया है जो सभी प्रमुख हितधारकों को एक टेबल पर लाता है और देश के लक्ष्य में योगदान देता है।

उद्योग पर कोविड का प्रभाव परिवर्तनकारी था और जिससे फार्मा क्षेत्र में विकास की गति और तेज हुई। अंतरराष्ट्रीय जेनेरिक बाजार अगले पांच वर्षों के लिए 6% सीएजीआर से बढ़ने का अनुमान है, जबकि भारतीय जेनेरिक निर्यात बाजार

वैश्विक जेनेरिक बाजार की तुलना में लगभग 2.5 गुना वृद्धि दर्ज कर रहा है। इस अर्थ में, भारतीय फार्मा उद्योग की वृद्धि को अगले पांच वर्षों के लिए 10% सीएजीआर तक बढ़ाया जा सकता है, निर्यात के साथ अगले पांच वर्षों में संभवत: 40 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जाएगा।

इसके अलावा, स्वास्थ्य सेवा में एआई या रोबोटिक्स जैसी नवीन तकनीकों को विकसित करने के साथ-साथ टेलीहेल्थ और डिजिटल स्वास्थ्य को महत्वपूर्ण स्थान मिल रहा है। उपलब्ध संसाधनों पर पूरी तरह से अनुकूलन करने और परिवर्तन को सक्षम करने की आवश्यकता के लिए, सीपीएचआई और पीएमईसी इंडिया एक गुणवत्ता परिप्रेक्ष्य प्रदान करता है, खिलाड़ियों को क्षेत्र की क्षमता का लाभ उठाने और उद्योग के हितधारकों के साथ सहयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

सीपीएचआई और पीएमईसी इंडिया की नवीनतम तकनीकों के प्रदर्शन के साथ, फार्मा क्षेत्र में नवाचारों को सामने लाने के लिए विशेषज्ञ रूप से क्यूरेट सीईओ राउंडटेबल की परिकल्पना की गई है। भारतीय फार्मा कंपनियां उत्पन्न होने वाले मूल्य में वैश्विक नेतृत्व कैसे और किस तरह हासिल कर सकती हैं, इस विषय पर चर्चा की गई। जिन अन्य विषयों पर चर्चा की गई, वे थे ‘विनिर्माण और आपूर्ति श्रृंखला का अनुकूलन करके विकसित देशों के साथ प्रतिस्पर्धा’ और ‘वैश्विक नवप्रवर्तकों के साथ मानचित्र पर रहने के लिए जटिल जेनरिक और नई रासायनिक संस्थाओं में अनुसंधान में तेजी लाना’। पहले दिन की शाम को 9वें वार्षिक इंडिया फार्मा अवार्ड्स का शानदार आयोजन किया गया। जिसका आयोजन फार्मास्युटिकल क्षेत्र में जबरदस्त नवाचारों और पहलों के साथ एक बड़ा बदलाव लाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे उद्योग जगत के खिलाड़ियों को आगे समर्थन और प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से किया गया। दूसरे दिन वुमन इन फ़ार्मा राउंडटेबल का आयोजन किया जाएगा, जिसका उद्देश्य बंद कमरे में होने वाली गोलमेज चर्चा में फ़ार्मास्युटिकल उद्योग में महिलाओं के महत्वपूर्ण और निरंतर योगदान को स्वीकार करना और उसका जश्न मनाना है।

तीन दिवसीय संगोष्ठी और सम्मेलन ने बड़ी संख्या में सरकारी अधिकारियों, विशेषज्ञों, उद्योग संघों और प्रचारकों, और फार्मा उद्योग के भविष्य को आकार देने वाले तकनीकी नेताओं की मेजबानी की। यह सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के विशेषज्ञों का एक संपूर्ण अभिसरण था।

यह भी देखे:-

क्वाड देशों की पहली बैठक आज: हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सहयोग पर पीएम मोदी करेंगे चर्चा
'आप व्यवस्था को बदले या व्यवस्था आपको, यह इरादों पर निर्भर', पुलिस की छवि सुधारना बड़ी चुनौती-नए IPS...
एक और झटका: महंगाई से जनता का बुरा हाल, अगले महीने से 11 फीसदी बढ़ सकती है CNG-PNG की कीमत
West Bengal Assembly Elections: 21 मार्च को गृहमंत्री अमित शाह जारी करेंगे BJP का घोषणापत्र
Realme : शानदार स्मार्टफोन आज बाजार में लेंगे एंट्री, जानिए संभावित कीमत और फीचर
लखीमपुर हिंसा: आशीष मिश्र की पुलिस कस्टडी पर बहस पूरी, कोर्ट ने सुरक्षित रखा फैसला
भाजपाइयों ने किया नवनिर्वाचित राज्यसभा सांसद  सुरेंद्र नागर का स्वागत
ग्रामीणों ने फूलपुर गाँव के मुख्य मार्ग पर लगाया सम्राट मिहिर भोज का बोर्ड
रोशनी सिंह किसान कामगार मोर्चा महिला विंग की राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को आईना दिखाती कवि ओम रायज़ादा की नज़्म
यूपी में वैक्सीन के कॉकटेल पर मचा बवाल: पहली डोज 'कोविडशील्ड' तो दूसरी 'को-वैक्सीन', दहशत में ग्रामी...
भारत और पाकिस्तान के बीच हो सकती है T20 सीरीज, रिपोर्ट्स में किया गया दावा
दर्दनाक : बिजली करेंट ने बरपाया कहर , पिता-पुत्र की मौत
जलभराव की समस्या के खिलाफ करप्शन फ्री इंडिया संगठन का ग्रेनो प्राधिकरण पर हल्ला बोल प्रदर्शन
Mega camp will organize on 2 Feb 2020 by ISPC
ग्रेटर नोएडा : प्रवासी मजदूरों को बसों द्वारा भेजा गया, जूस, बिस्कुट और मास्क वितरित