ग्रेटर नोएडा महापर्व छठ पूजा को लेकर उत्साह ,आज शाम दिया जाएगा अस्त होते सूर्य को पहला अर्घ्य, जानिये शुभ मुहूर्त और विधि

ग्रेटर नोएडा : छठ पूजा भगवान सूर्य की उपासना एकमात्र महापर्व है जिसमे उगते और डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। कल खरना के बाद व्रतियों का 36 घंटे तक निर्जला व्रत शुरू हो गया है। पहला अर्घ्य आज अस्त होते सूरज को दिया जाएगा। आज षष्ठी के दिन व्रती नदी तालाब पोखर के जल में उतरकर डूबते सूरज को अर्घ्य देंगे।

क्षेत्र में भी छठ पूजा की तैयारी जोरों पर है। जगह-जगह छठ पूजा के लिए घाट बनाये गए है। बता दें शहर में बड़ी तादात में पूर्वांचल और बिहार के लोग रहते है। छठ पूजा पूर्वांचल और बिहार कला प्रमुख योहार माना जाता है।

ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने ग्रेटर नोएडा में छठ पूजा पर विभिन्न जगहों पर घाट बनाकर उचित व्यवस्था की है। प्राधिकरण द्वारा आईईसी कॉलेज के सामने पार्क , ईटा – 1 पार्क , डेल्टा – 1 पाम पार्क , ओमीक्रोम 1, पी- 3 सेक्टर में व्यवस्था किया गया हैं। शिव मंदिर सेवा समिति ने सूरजपुर के बाराही देवी मंदिर परिसर में स्थित चमत्कारी तालाब में छठ पूजा घाट बनाया है। हजारों की संख्या में श्रद्धालु यहाँ जुटेंगे। इसके अलावा कुलेसरा और कासना में भी छठ घाट बनाये गए हैं।

आईईसी कालेज के पास छठ पूजा सेवा समिति द्वारा भोजपुरी कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। समिति के प्रवक्ता अलोक सिंह ने बताया आज शाम 5 बजे से बालचंद यादव और सुमन भारती द्वारा रंगारंग भोजपुरी कार्यक्रम प्रस्तुत किया जायेगा।

पूर्वांचल बिहार वेलफेयर सोसाइटी के संयोजक सुनील उपाध्याय ने बताया आईईसी कालेज और ईटा – 1 सेक्टर में घाट बनाये गए हैं। सभी के सहूलियत के लिए पदाधकारी मौजूद रहेंगे।

शिव मंदिर सेवा समिति के महासचिव ओमवीर बैंसला ने बताया बाराही सर्वर छठ पूजा के लिए सज कर तैयार है।

ग्रेटर नोएडा में पुर्वांचल और बिहार के लोग बड़ी सांख्य में रहते है और आस्था के इस पर्व छठ पूजा को बड़े ही धूम धाम से बनाते है। श्रद्धालु व्रत रख कर पानी में खड़े होकर सूर्य देवता को जल अर्पित करते है।

सायंकालीन अर्घ्य- 26 अक्टूबर (गुरुवार)

सायंकालीन अर्घ्य का समय :- सांय काल 05:40 बजे से शुरू

अर्घ्य कैसे दें

बांस के सूप में फल रखकर उसे पीले कपड़े से ढ़क दें और डूबते सूरज को तीन बार अर्घ्य दें. तांबे के बर्तन में जल भरें, इसमें लाल चंदन, कुमकुम और लाल रंग का फूल डालें. सूर्योदय के समय पूर्व की दिशा में मुंह करके अर्घ्य दें. अपने सिर की ऊंचाई के बराबर तांबे के पात्र को ले जाकर सूर्य मंत्र का जाप करें.

यह भी देखे:-

श्री दाऊजी मंदिर पर प्रिंस भारद्वाज  द्वारा 251 दीपक  जलाए गए 
जहाँगीरपुर प्राचीन शिव मंदिर पर राम मंदिर का निर्माण हेतु भूमि पूजन कर आधार शिला रखी गयी
श्री धार्मिक रामलीला कमेटी ने मनाया दीपोत्सव   
आज का पंचांग, 7 जनवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
एनटीपीसी दादरी में श्री विश्वकर्मा पूजा का आयोजन
आज का पंचांग , 4 अगस्त 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 9 फरवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहुर्त
श्री धार्मिक रामलीला कमेटी के पदाधिकारियों ने सीईओ ग्रेनो से की मुलाकात
मकर संक्रांति 2021 पर बना सुंदर शुभ ग्रह संयोग, पढें कैसे
विधि विधान के साथ हुई देव शिल्पी विश्वकर्मा की पूजा
नोएडा : पूर्वांचल मित्र मंडल छठ पूजा समिति ने शुरू की छठ महापर्व की तैयारी
करवा चौथ कल  4 नवंबर को, जानिए  महत्त्व , कैसे करें पूजा 
आज का पांचांग , 5  सितम्बर 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
ठाकुर द्वारा मंदिर : अमृत वर्षा मेमोरीयल गौशाला का उद्घाटन
आज सावन का पहला सोमवार, जानिए तिथी के अनुसार कब-कब पड़ेंगे सोमवार, क्या है पौराणिक कथा
मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का आवाहन करते हुए संकटमोचन महायज्ञ मेहंदीपुर श्री बालाजी महाराज को समर्पित...