न्यू दादरी से एमएमएलएच को जोड़ने के लिए रेलवे लाइन बोर्ड से मंजूर

  • करीब 3.5 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन बनाने में 814 करोड़ खर्च होने का अनुमानएमएमएलएच हेतु भूमि का अधिग्रहण पूरा होते ही जारी होगा टेंडर

ग्रेटर नोएडा। डी एम आई सी इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप ग्रेटर नोएडा लिमिटेड (आईआईटीजीएनएल) की मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब परियोजना को न्यू दादरी से जोड़ने के लिए 3.5 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन बनाई जाएगी। इस पर करीब 814 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। आईआईटीजीएनएल इसका खर्च खुद से वहन करेगा, जबकि इसका निर्माण डीएफसीसी करेगा। बृहस्पतिवार को आईआईटीजीएनएल की बोर्ड बैठक में इस पर सहमति बन गई है।
भारत सरकार की संस्था नेशनल इंडस्ट्रियल कॉरिडोर डेवलपमेंट एंड इंप्लीमेंटेशन ट्रस्ट (निकडिट) और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के संयुक्त उपक्रम डी एम आई सी इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप ग्रेटर नोएडा लिमिटेड की तरफ से दादरी, चिटेहरा, जुनपत, कटहेड़ा, पल्ला, पाली, बोड़ाकी व थापखेड़ा गांव की 478 हेक्टेयर जमीन पर मल्टीमॉडल ट्रांंसपोर्ट व लॉजिस्टिक हब परियोजना को अमलीजामा पहनाया जा रहा है। 333 हेक्टेयर एरिया पर मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब व 145 हेक्टेयर पर मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट हब विकसित किया जा रहा है। मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक हब परियोजना का जिक्र दो बार प्रधानमंत्री भी अपने भाषण में कर चुके हैं। लॉजिस्टिक हब के बनने से नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में स्थित उद्योगों के माल ढुलाई की राह बहुत आसान हो जाएगी। नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना प्राधिकरण स्थित उद्योगों के लिए यह परियोजना बेहद अहम है। वर्तमान समय में मुंबई, गुजरात, कोलकाता आदि जगहों पर जाने में चार से पांच दिन लगता है, इसके शुरू होने के बाद माल चौबीस घंटे से भी कम समय में पहुंच सकेगा। लॉजिस्टिक हब में वेयर हाउस, कोल्ड स्टोरेज, कस्टम ऑफिस आदि बनेंगे। इसकी डीपीआर तैयार हो गई है एवम केंद्र सरकार से दिसंबर 2020 में अप्रूव हो चुकी है। लॉजिस्टिक हब को न्यू दादरी रेलवे स्टेशन से गुजर रही ईस्टर्न एवम वेस्टर्न डीएफसीसी की रेलवे लाइन से जोड़ने के लिए करीब 3.5 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन का निर्माण किया जाना है । लॉजिस्टिक हब में 16 रेलवे प्लेटफॉर्म बनाए जाएंगे। रेलवे लाइन को छोड़कर शेष कार्य आईआईटीजीएनएल कराएगा। बृहस्पतिवार को ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के बोर्ड रूम में संपन्न आईआईटीजीएनएल की बोर्ड बैठक में इसकी अनुमति मिल गई है। आईआईटीजीएनएल के एमडी व ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेन्द्र सिंह की तरफ से यह प्रस्ताव रखा गया, जिस पर बोर्ड के सभी सदस्यों ने सहमति दे दी है। इस परियोजना को अगले तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य है। एमएमएलएच लॉजिस्टिक हब के साथ ही वाणिज्यिक गतिविधियों के केंद्र के रूप में भी विकसित होगा। एमएमएलएच को पीपीपी मॉडल पर विकसित करने के प्रस्ताव पर भी विचार किया जा रहा है । बोर्ड बैठक में सीईओ के अलावा एसीईओ दीप चंद्र व अमनदीप डुली, प्रभारी जीएम नियोजन सुधीर कुमार, आईआईटीजीएनएल के कंपनी सचिव पतंजलि दीक्षित आदि मौजूद रहे।
——————

यह भी देखे:-

लखनऊ : सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश सहित कई पर मुकदमा, आगजनी व पुलिस से खींचत...
ग्रेटर नोएडा : सपा कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित
ग्रेटर नोएडा: बिना अनुमति होर्डिंग व यूनिपोल लगाने पर लगेगा भारी जुर्माना
"पाकिस्तान ने ही तालिबान को पाला-पोसा है, वही है अफगानिस्तान का पड़ोसी, हर गतिविधि पर भारत-अमेरिका क...
चुनाव ड्यूटी में जा रहे होमगार्ड की हार्ट अटैक से मौत
कैराना उपचुनाव में मतदातओं ने दिखाया भाजपा को आईना
ग्रेटर नोएडा में आज भोजपुरी सांस्कृतिक कार्यक्रम, पूर्वांचल बिहार वेलफेयर सोसाइटी करा रहा है आयोजन
अन्ना आंदोलन में करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कई हजार कार्यकर्ता होंगे शामिल
ओला कैब ड्राइवर से कार लूट
यमुना एक्सप्रेसवे : तेज रफ्तार कार पलटी, एक की मौत
भाजपा ने चौधरी चरण सिंह जयंती किसान दिवस के रूप में मनाया 
डीएम सुहास एल वाई का निर्देश, कावड़ यात्रा मार्ग पर नहीं होगी शराब और मीट की बिक्री
10 वीं अन्तराज्यीय प्रतियोगिता कराटे में खिलाड़ियों ने दिखाया जौहर
महिला शक्ति सामाजिक समिति ने महिला बंदियों के साथ मनाई होली
ग्रेटर नोएडा में किसानों का प्रदर्शन, तीनों कृषि कानून निरस्त करने की मांग 
भारतीय नववर्ष स्वागत उत्सव, कवि सम्मेलन का लोगो ने उठाया लुफ्त