गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय : वियतनामी छात्रों ने मनाया  वू लैन महोत्सव 

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के वियतनामी छात्रों ने अपने छात्रावास में वू लैन महोत्सव मनाया। वू लैन फेस्टिवल या वांडरिंग सोल्स डे, वियतनाम में एक महत्वपूर्ण आध्यात्मिक त्योहार है जो आम तौर पर घोस्ट मंथ के मध्य में आयोजित किया जाता है, ऐसा कहा जाता है कि इस जादुई समय के दौरान आत्माओं की दुनिया मनुष्यों के लिए खुली है। यह बौद्ध जगत के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है और लोगों के लिए अपने माता-पिता और पूर्वजों के प्रति कृतज्ञता और प्रशंसा व्यक्त करने का एक विशेष अवसर है। इस त्योहार की उत्पत्ति बोधिसत्व मौद्गल्यायन की कथा से हुई, जिन्होंने अपनी मां को नरक में यातनाएं झेलने से बचाया। इसलिए हम कह सकते हैं कि इस त्योहार का भारत से सीधा संबंध है और इसे भारत में मनाना बहुत महत्वपूर्ण है। चंद्र नव वर्ष (टेट) त्योहार के बाद, यह वियतनाम का दूसरा सबसे बड़ा वार्षिक पारंपरिक त्योहार है, और विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों और मानवीय गतिविधियों में भाग लेने वाले वियतनामी लोगों द्वारा मनाया जाता है। वू लैन फेस्टिवल (या ट्रुंग गुयेन फेस्टिवल) बौद्ध त्योहार है जो बहुत पहले वियतनाम में उभरा था। हर साल, त्योहार सातवें चंद्र महीने के 15 वें दिन होता है, वर्ष में सातवीं पूर्णिमा मनाता है।

यह भी देखे:-

विप्र समाज ने पूजा- पाठ कर भगवान परशुराम की लगाई मूर्ति
आज का पंचांग, 5 फरवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहुर्त
कल का पंचांग, 6 जुलाई 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
एनटीपीसी दादरी में श्री विश्वकर्मा पूजा का आयोजन किया गया
आज का पंचांंग, 13 सितम्बर, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 18 जुलाई 2020, जानिए शुभ व अशुभ मूहुर्त
मांसाहार से बढ़ रहा है पृथ्वी पर असन्तुलन:आचार्य प्रशान्त
अध्यात्म, आस्था भक्ति योग व तत्वज्ञान के बगैर  देश अस्तित्वहीन : आचार्य प्रशांत 
गणेश उत्सव में सजी कवियों की महफिल, अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन
जहांगीरपुर कस्बे में निकाली मां काली की शोभयात्रा
होली के अचूक उपाय और टोटके, बता रहे हैं पं.मूर्तिराम आनन्दबर्द्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य             ...
दीपावली: रामलला के दरबार पहुंचे मुख्यमंत्री योगी, अयोध्या पहुंचकर सीएम ने दी दिवाली की बधाई
शरद पूर्णिमा पर विशेष, सुख समृद्धि के लिए राशि अनुसार करे ये उपाय
Deepotsav in Ayodhya: पुष्पक विमान से आएंगे बंगाल की सीता संग दिल्ली के राम
कल का पंचांग, 29 जून 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
धर्म के नाम पर जानवरों की हत्या : आचार्य प्रशांत