जीवनशैली में बदलाव कर बचा सकते हैं पर्यावरण

  • एकेटीयू में पर्यावरण पर आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला का हुआ समापन
  •  विशेषज्ञों ने समस्या और उसके समाधान पर किया मंथन

 

जलवायु परिवर्तन का सीधा प्रभाव कृषि पर पड़ेगा। खाद्यान्न का उत्पादन कम हो जाएगा। साल 2050 तक हालत ये होगी कि यदि जनसंख्या अनुपात में खाद्यान्न का उत्पादन नहीं हुआ तो स्थिति भयावह हो जाएगी। इसलिए अभी से इस दिशा में सोचने और कदम उठाने की जरूरत है। पर्यावरण बचाने में हमारी जीवनशैली की महत्वपूर्ण भूमिका है, उसमें बदलाव कर हम बहुत कुछ बदल सकते हैं। उक्त बातें नॉर्थ इस्टर्न हिल विश्वविद्यालय शिलांग के कुलपति प्रो0 प्रभा शंकर शुक्ल ने डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय और शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला पर्यावरण के प्रति चेतना एवं वैज्ञानिक दृष्टिकोण के समापन पर बतौर मुख्य वक्ता कही।
इस दौरान उन्होंने जलवायु परिवर्तन एवं कृषि विषय पर बोलते हुए जलवायु परिवर्तन के दुष्परिणामों की चर्चा करने के साथ इसके समाधान के प्रयास की बात कही। कहा कि कृषि जलवायु परिवर्तन, खाद्य सुरक्षा और गरीबी का सीधा संबंध है। भारत ही नहीं पूरे विश्व की जनसंख्या लगातार बढ़ रही है। जबकि पृथ्वी से जंगल घटते जा रहे हैं। कलकारखाने से निकलने वाला प्रदूषण वायुमंडल को दूषित कर रहा है। परिणामस्वरूप ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन हो रहा है। कहीं जमकर बारिश हो रही है तो कहीं सूखा पड़ जा रहा है। जिसका असर कृषि पर पड़ रहा है। खाद्यान्न उत्पादन कम हो जा रहा है, जो कहीं न कहीं मनुष्य के लिए खतरनाक है। उन्होंने कहा कि जब तक हम अपना नजरिया नहीं बदलेंगे तब तक स्थिति में सुधार ला पाना संभव नहीं है। हमें कृषि उत्पादन में बदलाव की जरूरत है। जिससे कि भविष्य की चुनौतियों का सामना किया जा सके। बताया कि बिना पर्यावरण संतुलन के जलवायु परिवर्तन को नहीं रोका जा सकता। समाधान बताते हुए कहा कि इसके लिए जरूरी है कि हम अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं। पर्यावरण के अनुकूल रहें। साथ ही पर्यावरण संतुलन के लिए पौधरोपण को सबसे जरूरी बताया। कहा कि बिना पेड़ों के हम अपनी पृथ्वी को सुरक्षित नहीं रख सकते। अध्यक्षता प्रो0 सुरेंद्र सिंह ने की। अध्यक्षता करते हुए माननीय कुलपति प्रो0 प्रदीप कुमार मिश्र ने कहा कि पर्यावरण संकट से निपटने के लिए नजरिया बदलना होगा। कहा कि नई शिक्षा नीति से निश्चित ही पर्यावरण के प्रति चेतना आएगी। साथ ही कहा कि यदि भारत को विश्वगुरू बनना है तो पंचशील को अपनाना होगा। इसमें शिक्षा छात्र केंद्रित हो, परिवार स्त्री केंद्रित हो, ज्ञान आधारित समाज हो और नवाचार की सोच को अपनाना होगा।
वहीं, प्रो0 बीएन मिश्र ने जैव प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण पर विस्तार से जानकारी दी। कहा कि जब हम पर्यावरण की बात करते हैं तो सिर्फ जंगल, पहाड़, नदी तक ही रह जाते हैं, जबकि इसके संतुलन में सूक्ष्म जीवों को बड़ा योगदान है। बताया कि कोई भी पेड़ सूक्ष्म जीवों की सहायता से विकास करता है जिससे कि हमें ऑक्सीजन मिल पाता है। लेकिन पिछले कुछ सालों में हमने पश्चिमी जीवनशैली का ऐसा अनुकरण किया कि पृथ्वी की साइकल क्षमता को प्रभावित कर दिया। हमारी उपभोक्तावादी मानसिकता ने पर्यावरण को बहुत नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने न केवल पर्यावरण संकट पर बात की बल्कि उसके समाधान और विकल्पों को भी बताया। कहा कि पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने में लेदर उद्योग भी है। ऐसे में यदि जानवरों के चमड़े की जगह फल-फूल और सब्जियों से लेदर बनाया जा सकता है। इसी तरह उन्होंने थ्री डी फूड प्रिंटिंग और मांस के लिए जानवरों को काटने की बजाय स्टेम सेल से मांस बनाने का विकल्प सुझाया। कहा कि पर्यावरण को एक सीमित दायरे में न देखा जाए। क्योंकि ऐसा ताना बाना है कि इसके परिवर्तन का असर मानव जाति पर पड़ेगा। अध्यक्षता जेएनयू की डॉ उषा मीणा ने किया जबकि संचालन सुबोध जी ने किया। इसके पहले कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन से हुई। इस मौके पर दो दिन की कार्यशाला और आगामी कार्यक्रम पर न्यास के सचिव संजय स्वामी ने चर्चा की। इस मौके पर डॉ0 वृषभ प्रसाद जैन, प्रो0 एचके पालीवाल राजकुमार देवल, विजय कुमार गोस्वामी, डॉ0 इंदु चूड़न, गगन शर्मा सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

यह भी देखे:-

गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय अभिधम्म दिवस के विपासना आचार्य डॉ. सत्य नारायण गोयंका के जन्म शताब्दी वर्ष ...
द्रोणाचार्य ग्रुप आफ इन्स्टीट्शन्स में स्पोर्टस फेस्ट-2023-24 का आयोजन
चेतावनी: डब्ल्यूएचओ चीफ बोले- महामारी अभी गई नहीं, यह तब ही खत्म होगी जब दुनिया चाहेगी
आईआईएमटी कॉलेज में एफडीपी, चाणक्य की भांति हो शिक्षकों की कार्यशैली - जस्टिस आर.बी. मिश्र
द्रोणाचार्य ग्रुप आफ इन्स्टीट्शन्स में एकीटीयू स्पोर्ट्स फेस्ट : विजेता प्रतिभागियों को ट्राफी,मेडल...
कोरोना में अनाथ हुए बच्चों को निःशुल्क शिक्षा देगा पीआइआइटी संस्थान 
वर्ल्ड कैंसर डे पर फोर्टिस ग्रेटर नोएडा लगाएगा निःशुल्क कैंसर स्क्रीनिंग कैंप
एपीजे अंतरराष्ट्रीय विद्यालय में 'हर घर तिरंगा' कार्यक्रम का आयोजन
आईटीएस इन्जीनियरिंग काॅलेज ने राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण दिवस मनाया
रोजगार विद अंकित एजुकेशनल यूट्यूब चैनल ने एसएससी के चयनित अभ्यर्थियों का किया सम्मान
एक्यूरेट इंस्टीट्यूट्स में  कोविड इंपैक्ट के उपरांत फार्मा कंपनी के सामने चुनौतियाँ पर सेमिनार आयोजि...
जीएल बजाज संस्थान में लीडरशिप कान्क्लेव का आयोजन
Janmashtami 2021: जन्माष्टमी आज, इस शुभ मुहूर्त और विधि अनुसार करें श्रीकृष्ण की आराधना
बिजनेस स्टार्टअप में हर्षल और पारस ने मारी बाजी
देश में कोरोना के मामलों में आ रही कमी, 191 दिन बाद सबसे कम एक्टिव केस
गलगोटियास यूनिवर्सिटी की एनसीसी कैडेट खुशी कुमारी रूस में भारत का करेंगी प्रतिनिधित्व