अब ऑक्शन से होगा सभी तरह के भूखंडों का आवंटन

–ऑक्शन से संपत्तियों की आवंटन प्रक्रिया में और आएगी पारदर्शिता
—————————————————————————–
ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण बोर्ड ने अब सभी तरह के भूखंडों (औद्योगिक, संस्थागत, आईटी, बिल्डर, आवासीय भूखंड आदि ) का आवंटन ऑक्शन के जरिए करने का निर्णय लिया है। हालांकि धार्मिक स्थलों के भूखंडों को ऑक्शन से बाहर रखा गया है।
नोएडा एयरपोर्ट, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे, नोएडा-ग्रेटर नोएडा मेट्रो, आईआईटीजीएनएल की इंटीग्रेटेड इंडस्ट्रियल टाउनशिप, मल्टीमॉडल ट्रांसपोर्ट व लॉजिस्टिक हब जैसी परियोजनाओं के चलते विगत कुछ वर्षों में ग्रेटर नोएडा में निवेश की गति ने रफ्तार पकड़ी है। औद्योगिक भूखंडों की मांग बढ़ी है। प्राधिकरण की मंशा है कि औद्योगिक भूखंडों का आवंटन उन उद्यमियों को ही किया जाना चाहिए, जो सही मायने में उद्योग लगाना चाह रहे हैं, ताकि यहां के युवाओं को रोजगार मिल सके। इसलिए प्राधिकरण बोर्ड ने तय किया है कि अब धार्मिक स्थलों को छोड़कर शेष सभी तरह के भूखंडों का आवंटन ऑक्शन के जरिए ही होगा। गौरतलब है कि बिल्डर और वाणिज्यिक भूखंडों का आवंटन पहले से ही ऑक्शन के जरिए होता रहा है। अब औद्योगिक, संस्थागत व आईटी के भूखंड भी ऑक्शन के जरिए आवंटित किए जाएंगे। इससे पारदर्शिता भी आएगी। प्राधिकरण बोर्ड ने इस प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है।
—————————————–
ग्रेनो प्राधिकरण में लागू होगा पीडब्ल्यूडी का शेड्यूल ऑफ रेट
——————————————————-
ग्रेटर नोएडा। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के परियोजना विभाग के कार्यों के एस्टीमेट व टेंडर के लिए यूपी पीडब्ल्यूडी की प्रक्रिया को लागू करने का निर्णय लिया गया है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण में भी अब पीडब्ल्यूडी के शेड्यूल ऑफ रेट (एसओआर) लागू होगा। इस प्रस्ताव पर प्राधिकरण बोर्ड ने मुहर लगा दी है। इसके चलते प्राधिकरण एरिया में विकास कार्यों, खासकर रोड व अन्य कार्यों की गुणवत्ता और बेहतर होगी। दरअसल, दिल्ली में सीपीडब्ल्यूडी के डीएसआर के आधार पर विकास कार्य होते हैं। एक बार डीएसआर तय होने के बाद कई साल तक चलता रहता है, जबकि निर्माण सामग्री व अन्य आइटम के रेट लोकल फैक्टर की वजह से बदलते रहते हैं। पीडब्ल्यूडी एसओआर रेट में निर्माण सामग्री, टैक्स, लोकल फैक्टर आदि को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर बदलाव होता रहता है। इसके लागू होने के बाद प्रोजेक्ट का और सटीक आकलन निकल सकेगा। सटीक एस्टीमेट होने से टेंडर निकलने पर पहले से अधिक कॉन्ट्रैक्टर हिस्सा ले सकेंगे। अच्छे कॉन्ट्रैक्टरों के चयन से कार्यों की गुणवत्ता भी बढ़ेगी।
———————————————————

यह भी देखे:-

"एक शाम देश के नाम " में बच्चों से लेकर बड़ों तक ने किया कला का प्रदर्शन
शीत लहर/ठंड के समय "क्या करें व क्या ना करें" को लेकर जिला प्रशासन की ओर से एडवाइजरी की गई जारी
पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित महान विभूतियों का जी.पी गोस्वामी, पूर्व सहायक आयुक्त उद्योग ने किया स्...
डीएम मनीष कुमार वर्मा की अध्यक्षता में विद्युत विभाग के कार्यों की समीक्षा बैठक संपन्न
सपा को बड़ा झटका: मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव भाजपा में शामिल
निर्भया के दोषियों को जल्द फांसी देने की अपील
खंभा लगाते समय करंट लगने से हुई कर्मचारी की मौत, असिस्टेंट मैनजर सस्पेंड, डीजीएम समेत दो को नोटिस, ...
पिछले सात महीने से पल्ला गांव में धरने पर बैठे किसानों को जबरन उठाने की खबर, किसान नेता सुनील फौजी ग...
चुनाव के दौरान लोगों से किये गए वादे पूरे किये जाएंगे - लता सिंह नव निर्वाचित चैयरमैन
जहांगीरपुर में "ब्राह्मण चेतना संगठन " का हुआ विस्तार
जापानी और कोरियाई औद्योगिक सिटी का डीपीआर तैयार
जेवर विधायक धीरेन्द्र सिंह की प्रेरणा से बच्ची ने असहाय लोगों में बांटा कम्बल
यमुना प्राधिकरण की ओटीएस योजना समाप्त, 1000 बकायेदारों ने किया आवेदन
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा ने रक्तदान शिविर का आयोजन किया
रोटरी क्लब ग्रेनो ने लगाया मिंडा सिल्का में ब्लड डोनेशन कैंप
स्काईलाइन कॉलेज में होगा 8 नवंबर से मैनेजमेंट और तकनीकी फेस्ट 2019 का आगाज