महाशिवरात्रि 2022: जग कल्याण को महादेव नीलकंठ कहलाए

लेख-परम शैव्य डॉ. एन. सी शर्मा: आदिदेव शिव जन के कल्याण को हलाहल का पान कर नीलकंठ कहलाए महाशिवरात्रि के ही दिन महादेव ने लिंग रूप में अपना प्रकटीकरण किया था महाशिवरात्रि के दिवस ही संसार के तारणहार महादेव शिव ने जगत जननी जगदंबा आदिशक्ति माता पार्वती से विवाह किया था जहां विश्व आज विश्व युद्ध के कगार पर खड़ा है इस समय महादेव का चिंतन मनन पूजन एवं उनके आदर्शों को आत्मसात करना विश्व के कल्याण के लिए शांति के लिए एक मार्गदर्शन सिद्ध होगा आज मैंने परिवार सहित बिसरख स्थित अष्टभुजी शिवलिंग के दर्शन प्राप्त कर जो कि रावण की जन्मस्थली भी है जाकर विश्व कल्याण की प्रार्थना की , एवं कामना है कि विश्व सुख शांति एवं समृद्धि के मार्ग पर प्रशस्त होता रहेगा ।

“जिनका दिया अमृत जग पीता काल कूट जिनका आहारन

मन उन्हें मेरा शत बारनी

लकंठ हैं ओ घड दानी

पशुपति हैं महाकाल भी भस्म रमैया , जय हो पार्वती पति”.
महाशिवरात्रि की बहुत-बहुत शुभकामना सहित -परम शैव्य

— डा. एन. सी.शर्मा

यह भी देखे:-

कायस्थ समाज ने की भगवान श्री  चित्रगुप्त व कलम दवात की पूजा, विशाल भंडारे का हुआ आयोजन 
दनकौर में मोहर्रम पर निकाला गया मातमी जुलूस, हर तरफ गूंजा या हुसैन का नारा
आज का पंचांग , 4 जुलाई 2020 , जानिए शुभ व अशुभ मुहूर्त
भगवान श्री जगन्नाथ की निकली भव्य शोभा यात्रा
आज का पंचांग , 23  जुलाई 2020 , जानिए शुभ व अशुभ मुहूर्त 
कल का पंचांग, 19 मार्च 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
श्री साईं अक्षरधाम मंदिर डेल्टा 3 : सामुहिक सुन्दरपाठ व भण्डारे का आयोजन
आज का पंचांग, 16 दिसंबर 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
कल का पंचांग, 23 फरवरी 2024, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
श्रीराम मित्र मंडल रामलीला: रामराज्याभिषेक और डांडिया उत्सव के साथ हुआ रामलीला का समापन
कल का पंचांग, 29 जून 2023, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
अल्फा 1 शिव मंदिर में गोवर्धन पूजा का आयोजन, अन्नकूट प्रसाद का किया गया वितरण 
कल का पंचांग, 11 अप्रैल 2024, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
श्रीधार्मिक रामलीला मंचन की तैयारी को लेकर हुई बैठक
आज का पंचांग, 30 अक्टूबर 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 2 जुलाई 2020, जानिए शुभ अशुभ मूहुर्त