वोटिंग में धांधली रोकने में मददगार बनेगा cVIGIL App, जानें आप कैसे कर पाएंगे शिकायत

चुनाव आयोग ने सी-विजिल ऐप को चुनावों में होने वाली गड़बड़ियों को रोकने के लिए तैयार किया है. इसकी मदद से आप चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी दे सकते हैं.

उत्तर प्रदेश, पंजाब और उत्तराखंड समेत देश के 5 राज्यों में चुनाव (Election) (Up Election 2022) की तारीखों का ऐलान हो चुका है. आगामी 10 फरवरी से 7 मार्च तक 7 चरणों में मतदान होगा. नतीजे 10 मार्च को घोषित किए जाएंगे. इस बीच किसी भी तरह की गड़बड़ियों पर चुनाव आयोग (Election Commission) एक्शन लेगा. चुनावों में अक्सर गड़बड़ियों की शिकायतें आती रही हैं. संज्ञान में आने पर आयोग की ओर से कार्रवाई भी की जाती है. आम नागरिक भी चुनाव में होने वाली गड़बड़ियों की शिकायत सीधे आयोग से कर सकता है. इसके लिए आयोग ने  सी विजिल ऐप (cVIGIL App) बनाया है.

चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन की भी शिकायत चुनाव आयोग से की जा सकती है. कई बार वोटिंग में होने वाली गड़बड़ियों के सबूत के अभाव में गड़बड़ी करने वाला कार्रवाई से बच जाता है. लेकिन सी-विजिल ऐप के जरिये फोटो और वीडियो को सबूत के तौर पर सुरक्षित रखा जा सकता है, जो कार्रवाई के लिए आधार बनता है.

क्या है सी-विजिल ऐप?

सी-विजिल एक एंड्रायड और आईफोन एप्लिकेशन है, जिसका उपयोग अधिसूचना की तारीख से आचार ​संहिता के उल्‍लंघनों की रिपोर्टिंग के लिए किया जाता है. चुनावों में होने वाली गड़बड़ियों को रोकने के लिए चुनाव आयोग ने इस ऐप को तैयार किया है. इस ऐप की मदद से चुनावी राज्यों में लोग आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी दे सकते हैं. इस ऐप को सभी एंड्रॉयड और iOS यूजर्स के लिए तैयार किया गया है. पिछले 3 साल से इस ऐप का इस्तेमाल लोकसभा और​ विधानसभा समेत सभी तरह के चुनावों में किया जा रहा है. इसे एंड्रॉयड यूजर प्ले स्टोर से और आईफोन यूजर एप्पल स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं.

कैसे कर सकते हैं शिकायत?

इस ऐप पर शिकायत करने के लिए यूजर के पास एंड्रॉयड स्मार्टफोन या आईफोन होना चाहिए. इसमें कैमरे, इंटरनेट कनेक्शन और GPS एक्सेस की जरूरत होती है. कोई भी नागरिक, आचार संहिता के उल्लंघन, मतदान की गड़बड़ियों की शिकायत या रिपोर्ट, घटना के कुछ ही मिनटों में कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें रिटर्निंग अधिकारी के पास जाने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी.

  1. ऐप इन्स्टॉल करने के बाद आपको नाम, पता, राज्य, जिला, विधानसभा और पिनकोड की जानकारी देते हुए रजिस्ट्रेशन करना होगा.
  2. शिकायत करने के लिए एक OTP की मदद से इसका वेरिफिकेशन किया जाएगा. वेरिफाई होने के बाद फोटो या कैमरे वाले विकल्प को सेलेक्ट करना होगा.
  3. आप कोई फोटो या फिर 2 मिनट तक की वीडियो ऐप पर अपलोड कर सकते हैं. फोटो या वीडियो से जुड़ी डिटेल्स को संबंधित कॉलम में भरना होगा.
  4. चुनाव आयोग को फोटो/वीडियो की लोकेशन भी पता चल जाती है. इसके बाद आपको एक यूनीक आईडी मिलेगी, जिसके जरिये आप अपनी शिकायत को ट्रैक कर सकते हैं.

100 मिनट में संज्ञान लेने का दावा

शिकायत करने के बाद जिला नियंत्रण कक्ष को सूचना जाती है, जहां इसे फील्ड यूनिट को सौंपा जाता है. सी-विजिल ऐप पर शिकायतकर्ता जो भी फोटो, वीडियो और डेटा अपलोड करेंगे वो 5 मिनट के अंदर स्थानीय चुनाव अधिकारी के पास चला जाएगा. आयोग का दावा है कि शिकायत सही पाए जाने पर 100 मिनट के अंदर ही उसपर संज्ञान लिया जाएगा और कार्रवाई होगी. बता दें कि इस ऐप पर रिकॉर्ड वीडियो या फोटो आपकी फोन गैलरी में सेव नहीं होते हैं. शिकायतकर्ता को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो, इसके लिए उनकी पहचान गोपनीय रखी जाती है.

यह भी देखे:-

Jitiya Vrat 2021 Muhurat: जितिया व्रत का क्या है पूजा मुहूर्त? जानें तिथि और समय
Triple Talaq Bill 2019: पढ़िए, तीन तलाक बिल से जुड़ी 10 बातें
भाजपा के जनविश्वास यात्रा में उमड़ी भीड़, नेताओं ने अपने-अपने क्षेत्रों में दिखाया दमखम
नारदा केस में  ममता सरकार के मंत्री को उठा ले गई सीबीआई
दिल्ली में आज से 24 घंटे होगा कोरोना का टीकाकरण, सरकार ने दिया आदेश
UP Budget 2021-22: आज यूपी मे होगा इतिहास का सबसे बड़ा बजट, युवाओं के लिए होगा कुछ ख़ास
आजमगढ़ के मुबारकपुर में छत पर सो रहे युवक की गला रेतकर हत्या,
आर-पार की लड़ाई के मूड में किसान, स्थानीय युवकों के रोजगार को लेकर 10 अक्टूबर को धरना
कोविड-19 महामारी के दौरान  एनटीपीसी दादरी प्रबंधन का सराहनीय सहयोग 
‘‘सांसद कोविड हेल्पलाईन’’ पर समस्या का किया जा रहा है समाधान   
बीजापुर हमले के बाद नक्सलियों को बख्शेगी नहीं सरकार, कश्मीर के आतंकियों जैसे होंगे ढेर, हिडमा पहला ट...
Coronavirus 3rd Wave: तीसरी लहर ने दी दस्तक, मुंबई में बच्‍चों में तेजी से फैल रहा है कोरोना
चुनावों के पहले बीजेपी उछालती है राम मंदिर का मुद्दा : चिदंबरम
बादलपुर पुलिस के हत्थे चढ़ा शातिर चोर गिरोह
वाराणसीः कोरोना ने वरिष्ठ पत्रकार रमेंद्र सिंह को भी छीन लिया
पंजाब कांग्रेस में सुलह की कोशिश, सीएम चरणजीत चन्नी से मिले नवजोत सिंह सिद्धू; जानें- अब क्या होगा