रेडियोलॉजी के नवीनतम उपचारों से रूबरू कराया ,शारदा अस्पताल में जुटे रेडियोलॉजी के दिग्गज, गंभीर बीमारी के उपचार में नई तकनीकी पर रखे विचार

शारदा अस्पताल की ओर से आयोजित सेमिनार में रेडियोलॉजी की नवीनतम जांच प्रणाली से रूबरू कराया। इस दौरान एक्सपर्ट डॉक्टरों ने बताया कि कैसे रेडियोलॉजी की तकनीकी ने मरीजों को मौत के मुंह से खींच लिया।
स्कूल ऑफ मेडिकल साइसं एंड रिसर्च में रेडियोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ विशाल गुप्ता ने बताया कि आज इलाज में रेडियोलॉजी की भूमिका का अपना महत्व है। अब मेडिकल का दायरा दिनोंदिन बढता जा रहा है। किसी भी बीमारी के सफल और सही इलाज के लिए पहले बीमारी की पहचान बेहद जरूरी है। बीमारी की पहचान के लिए कई बार मरीज के अंदरूनी हिस्सों की जांच की जाती है। रेडियोलॉजी को दो भागों में बांटा गया है। पहला डाइग्नोस्टिक रेडियोलॉजी और दूसरा थेराप्यूटिक रेडियोलॉजी। रेडियोलॉजी चिकित्सा विज्ञान की हाइटेक शाखा है, जो विभिन्न रोगों, शारीरिक गड़बडि़यों की पहचान और उपचार में मदद करती है। रेडियोलॉजी में निदान और उपचार दोनों तरह की विशेषज्ञता है। इस कारण अस्पताल सभी विभागों से इसका सीधा ताल्लुक है। विभिन्न प्रकार की तकनीकों के इस्तेमाल से मरीजों की स्थिति का पता लगाने में आसानी होती है।
रेडियोलॉजी विभाग की प्रोफेसर डॉ शबनम भंडारी ने बताया कि सम्मेलन में ब्रेन, चेस्ट, पेट और गर्भवती महिलाओं में होने वाली परेशानी को शुरू में ही जांच कर पता लगा लिया जाता है कि किस तरीके से इनका उपचार हो सकता है साथ ही बीमारी को बढने से रोकने में भी यह विधि काफी सहायक सिदृध होती है। रेडियोलॉजी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अलग.अलग टेस्ट के जरिए यह पता चल सकता है कि मरीज को क्या बीमारी है और उसे किस तरह का उपचार दिया जाना है। किसी किसी बीमारी में मरीज के पास बचने के चांस बहुत कम होते हैं, ऐसे में रेडियोलॉजी से ही उसका टेस्ट कर समय से उपचार शुरू किया जाता है।
कार्यक्रम के संयोजक वरिष्ठ रेडियोलॉजिस्ट डॉ अमित गुप्ता ने बताया कि इस सेमिनार दिल्ली और एनसीआर के डॉक्टरों ने आधुनिक चिकित्सा पदृधति के बारे में नवीनतम जानकारी साझा की। इसमें जो सबसे महत्वपूर्ण तथ्य या जानकारी सामने उभरकर आई वह है कैसे मरीजों को समय रहते हम जांच कर उपचार दे सकते हैं। कार्यक्रम की शुरूआत शारदा अस्पताल के सलाहकार और एर्म्स टॉमा सेंटर के पूर्व निदेशक डॉ एमसी मिश्रा, डॉ एस के भार्गव, डॉ अशोक खुराना और डॉ आर पी त्रिपाठी आदि वरिष्ठ चिकित्सकों ने अपने अनुभवों से की।

यह भी देखे:-

Samsung Galaxy M51 में मिल रहा भारी Discount, फोन में है 7000mAh की बैटरी
लखीमपुर में उपद्रव व हिंसा के बाद अब विपक्ष की सियासत तेज, राकेश टिकैत पहुंचे
यमुना प्राधिकरण आज करेगा भूखंड योजना लॉन्च
शारदा हॉस्पिटल के डाक्टरों को सलाम , किडनी की मरीज ने कोरोना को दी मात, डाक्टरों ने दिन -रात मरीज क...
PM मोदी के साथ कल मंच साझा कर सकते हैं मिथुन चक्रवर्ती, बंगाल की ब्रिगेड रैली में रहेंगे मौजूद
गैंगस्टर अनिल दुजाना ने कोर्ट में रचाई सगाई
वर्ष 2017 में खुले में शौच मुक्त होगा जिला: डा. महेश शर्मा
लखनऊ : सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश सहित कई पर मुकदमा, आगजनी व पुलिस से खींचत...
आरोग्य मित्र प्रशिक्षण योजना के तहत समाज को प्रशिक्षित कर रहा संघ
लूट के खुलासे की मांग को लेकर करप्शन फ्री इण्डिया संगठन ने किया दनकौर कोतवाली का घेराव
मुठभेड़ के बाद तीन शातिर लुटेरे गिरफ्तार
आर.जे. रौनक ने शारदा विश्वविद्यालय में नई मल्टीमीडिया प्रयोगशाला का किया उद्घाटन
टीकाकरण में यूपी नंबर वन : मेगा वैक्सीनेशन में एक दिन 25 लाख लोगों का टीकाकरण, पांच करोड़ पार पहुंची...
इसराइल के ख़िलाफ़ यूएन में अहम प्रस्ताव पास, जानिए- भारत, चीन, रूस रहे किसके साथ
CORONA UPDATE : जानिए गौतमबुद्ध नगर में क्या है हाल 
COVID-19 Vaccination: क्या पीएम मोदी ने चुनावी रण भी साधने की कोशिश की,पढें पूरी रिपोर्ट