यूपी: सुभासपा की नई रणनीति; क्या राजभर के इस कदम का समर्थन करेंगे अखिलेश?

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने गुरुवार को कहा कि सपा के साथ उनका गठबंधन आगामी 2022 उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में जेल में बंद बसपा विधायक मुख्तार अंसारी का समर्थन करेगा।

राजभर, जिन्होंने हाल ही में यूपी विधानसभा चुनावों के लिए समाजवादी पार्टी के साथ गठजोड़ किया था उन्होंने अंसारी से बांदा जेल में मुलाकात की, जिसके बाद सत्तारूढ़ भाजपा ने उन पर “तुष्टिकरण की राजनीति” करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, “मैं मुख्तार से दो दिन पहले बांदा जेल में मिला हूं। बैठक के दौरान उनके बेटे अब्बास अंसारी भी मौजूद थे। विधानसभा चुनाव में सपा और एसबीएसपी गठबंधन उनका समर्थन करेंगे।” उन्होंने कहा, “यह मुख्तार पर निर्भर करता है कि वह सपा और एसबीएसपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ते हैं या एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में।”

यह पूछे जाने पर कि क्या समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव उनका समर्थन करने के लिए तैयार होंगे, राजभर ने कहा, “अगर उन्हें सरकार बनानी है, तो उन्हें समर्थन देने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। जब वह मायावती के साथ गठबंधन कर सकते हैं, तब होगा मुख्तार का समर्थन करने में कोई समस्या नहीं है।”

राजभर ने पहले मुख्तार को ‘पुराना दोस्त’ करार दिया था। उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार में मंत्री रहते हुए भी वह पंजाब जेल में उनसे मिलने जाया करते थे। राजभर ने कहा था, “मुख्तार एक पुराने दोस्त हैं जिन्हें मैं पिछले 19 सालों से जानता हूं।”

राजभर की अंसारी के साथ बैठक पर एक बयान में उत्तर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बुधवार को कहा, “यह सिर्फ राजभर और माफिया मुख्तार अंसारी के बीच एक बैठक नहीं थी, बल्कि तुष्टिकरण की राजनीति का एक सबूत था जिसके बारे में भाजपा अक्सर बात करती है।”

एसबीएसपी ने 27 अक्टूबर को मऊ में एक रैली की थी, जिसमें सपा अध्यक्ष यादव ने भी भाग लिया था और राजभर की पार्टी के साथ चुनावी गठबंधन की घोषणा की थी, जिसके बारे में कहा जाता है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश में उनके समुदाय के मतदाताओं पर इसका काफी प्रभाव है। एसबीएसपी, जिसने 2017 का विधानसभा चुनाव भाजपा के साथ गठबंधन में लड़ा था, उनके पास वर्तमान में चार विधायक हैं। राजभर को आदित्यनाथ सरकार में कैबिनेट मंत्री भी बनाया गया था लेकिन मुख्यमंत्री से मतभेदों के चलते उन्होंने सरकार छोड़ दी..

इस साल सितंबर में, बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा था कि उनकी पार्टी अगले साल के उत्तर प्रदेश चुनावों में ‘बाहुबली’ (मजबूत) या माफिया उम्मीदवारों को मैदान में नहीं उतारने का प्रयास करेगी और घोषणा की कि जेल में बंद गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी को फिर मऊ से पार्टी का टिकट नहीं दिया जाएगा।

यह भी देखे:-

गांव में भाजपा नेताओं की एंट्री पर रोक के लिए लगाया बोर्ड
सीएम योगी का तीन दिवसीय दौरा: आज सिद्धार्थनगर और बस्ती जिले का दौरा करेंगे मुख्यमंत्री, यहां देखें प...
दो दिन बैंक कर्मियों की हड़ताल से बढ़ सकती है परेशानी
ठेली पटरी वालों को रजिस्टेशन अनिवार्य : कु. प्रीति यादव
एक ही चैनल पे देखें दोनों कार्यवाही, लोकसभा और राज्यसभा चैनल हुए मर्जर
ममता की हुंकार: भाजपा को सत्ता से बेदखल करने तक 'खेला होबे', तानाशाही पर आमादा है केंद्र सरकार
दहेज प्रताड़ना से तंग आकर साबरमती में कूदी थी आयशा ,पुलिस ने पति को किया गिरफ्तार
कोरोना: पीएम मोदी आज 'कोविन ग्लोबल कॉन्क्लेव' को करेंगे संबोधित, साझा करेंगे अपने विचार
इंडिया एक्सपो सेंटर और मार्ट राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार 2018-19" से सम्मानित
PM का काशी दौरा : आगमन से पहले तैयारी परखने अाज आएंगे सीएम योगी, कार्यक्रम स्थलों का करेंगे निरीक्ष...
दादरी : लवकुश धार्मिक रामलीला, दशरथ ने की राम के राजतिलक की तैयारी, मंथरा ने भरे कैकयी के कान
भारत में कोरोना हुआ बेकाबू, दिल्ली- यूपी में नई गाइडलाइंस जारी
ह्युमन टच फाउंडेशन द्वारा एनीमिया रोग का नि:शुल्क शिविर का आयोजन
असम: राहुल गांधी ने आरएसएस पर साधा निशाना, बोले- मैं नरेंद्र मोदी नहीं, मैं झूठ नहीं बोलता
रामविलास पासवान के बंगले से बेदखल होंगे चिराग पासवान, खाली करने का मिला आदेश
जातियों में बंटे सम्राट पृथ्वी राज चौहान, सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग