दिल्ली : पटाखे नहीं, मौसम है प्रदूषण के लिए अधिक जिम्मेदार: स्टडी

नई दिल्ली,। प्रदूषण की समस्या से देश भर में लोग परेशान है। मेट्रो शहरों में दिवाली के दौरान और सर्दियों में प्रदूषण की समस्या काफी गंभीर हो जाती है। जिसकी वजह से लोगों को स्वास्थ्य से जुड़ी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। प्रदूषण के लिए कई चीजों को उत्तरदाई माना जाता है। जिसमें बायोमास बर्निंग, निर्माण कार्य, इंडस्ट्री आदि प्रमुख कारक माने जाते हैं। दिवाली के दौरान पटाखों को भी प्रदूषण के लिए जिम्मेदार माना जाता है। पर हाल ही में मेट्रो शहरों में किए गए एक अध्ययन में सामने आया है कि दिवाली के दौरान होने वाले प्रदूषण के लिए पटाखे मुख्य कारक नहीं है बल्कि दिल्ली का मौसम इसके लिए अहम कारण है।

आभ्रा चंदा (पुरष कानपुर हरिदास नंदी महाविद्यालय), जयत्रा मंडल (स्कूल ऑफ ओशियानोग्राफिक स्टडीज, जाधवपुर यूनिवर्सिटी) और सौरव सामंत ने ‘एयर पॉल्यूशन इन थ्री मेगासिटीज ऑफ इंडिया ड्यूरिंग द दिवाली फेस्टिवल एमिस्ट कोविड-19 पेंडेमिक’ नाम से एक स्टडी रिपोर्ट तैयार की है। रिपोर्ट में दिवाली के दौरान दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में सात प्रदूषकों (पीएम 2.5, पीएम 10, NO2, NH3, SO2, CO और O3) का अध्ययन किया गया। स्टडी में 2019 में कोरोना आपदा के पहले की दिवाली और 2020 में कोरोना आपदा के बाद की दिवाली का अध्ययन किया गया।

मौसम ने बिगाड़ा दिल्ली का प्रदूषण स्तर

डा. आभ्रा चंदा के अनुसार मौसम की वजह से 2019 और 2020 के दौरान दिल्ली में प्रदूषण का स्तर अधिक बिगड़ गया। मुंबई और कोलकाता में मौसम की अनुकूलता ने प्रदूषण के स्तर को अधिक खराब नहीं होने दिया। 2019 और 2020 की दिवाली के दौरान दिल्ली में पीएम 2.5, पीएम 10 और CO के स्तर में काफी बढ़ोतरी हुई जबकि कोलकाता में O3 के स्तर में सबसे अधिक उछाल हुआ। कोलकाता में O3 का बढ़ना इस बात को दर्शाता है कि कोलकाता में बड़ी तादाद में पटाखे छोड़े गए। 2019 के मुकाबले 2020 में दिल्ली में CO के स्तर में निर्धारित सीमा के मुकाबले 47 फीसद, मुंबई में 39 फीसद और कोलकाता में 20 फीसद का ईजाफा हुआ।

यह भी देखे:-

ग्रेटर नोएडा : IGL को स्टेट आफ द आर्ट ट्रेनिंग सेन्टर के लिए भूखंड का आवंटन हुआ
एक्सप्रेसवे पर दो रोडवेज की बस आपस में भीड़ी
फसल ऋणमोचन योजना के अंतर्गत प्रभारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने किसानों को बांटे प्रमाण पत्र
महिलाओं की सुरक्षा के लिए नोएडा पुलिस का "ऑपरेशन पिंक" शुरू
यूपी: जानें कब होंगे जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के चुनाव, आयोग ने शुरू की तैयारियां
अमरनाथ श्रद्धालुओं पर हमला का विरोध, पाक पीएम नवाज शरीफ का पुतला फूंका
ह्यूमन टच फाउंडेशन ने निर्धन बच्चों के साथ मनाई दीपावली
किसान जागरूकता अभियान के तहत किसान एकता संघ की बैठक औरंगपुर गांव में हुई
गाजियाबाद: नौवीं मंजिल पर खेलते वक्त रेलिंग के जाल में फंसा डॉगी, निकालने गई बच्ची गिरी नीचे, दोनों ...
रक्तदान से कैंसर व अन्य बीमारियों का खतरा हो जाता है कम: डा.धीरज भार्गव
उत्तराखंड: तीरथ सिंह रावत बोले, संवैधानिक कारणों से दिया इस्तीफा
यूपी : निजी स्कूलों को भी दो पालियों में करानी होगी पढ़ाई, इस साल भी कम हो सकता है पाठ्यक्रम
कोरोना वायरस: क्या है बंगाल में मिलने वाला ट्रिपल म्यूटेंट वेरिएंट? जानिए कितना है खतरनाक
गुम या चोरी हो गया है Aadhaar, तो घर बैठे ऐसे बनवाएं दोबारा कार्ड, ये है पूरा प्रोसेस
कोरोना: 15 माह तक झुग्गी में बंद रहा परिवार... जानें कैसे हुआ खुलासा
विश्व सड़क सम्मेलन 14 नवंबर से इंडिया एक्सपो मार्ट में , सुरक्षित सड़क व मोबिलिटी पर होगी चर्चा