दिल्ली हाईकोर्ट ने पूछा : कम आयु के लोगों को शराब की होम डिलीवरी नहीं होगी, यह कैसे सुनिश्चित करेगी सरकार

उच्च न्यायालय ने दिल्ली सरकार को स्पष्ट करने का निर्देश दिया है कि वह यह कैसे सुनिश्चित करेगी कि नई आबकारी नीति के तहत कम उम्र के लोगों को होम डिलीवरी पर शराब उपलब्ध नहीं कराई जाएगी। सरकार की नई आबकारी नीति को लेकर कई याचिकाएं हाईकोर्ट में लंबित है।

मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने इस मुद्दे पर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली सरकार से यह भी पूछा कि शराब की होम डिलीवरी से ऑर्डर करने वाले व्यक्ति की उम्र सत्यापित करने की प्रक्रिया क्या है। अदालत ने सभी तथ्यों को रिकार्ड पर लाने का निर्देश देते हुए सुनवाई 18 नवंबर तय की है।

पीठ ने कहा आप शराब खरीदने वाले की आयु का सत्यापन कैसे करेंगे? आपको इस प्रश्न का उत्तर देना होगा। आप यह नहीं कह सकते कि आप इसका जवाब नहीं देंगे। दिल्ली सरकार के वरिष्ठ वकील राहुल मेहरा ने कहा कि यह केवल मौजूदा नियम में संशोधन है और यह अभी अस्तित्व में नहीं आया है।
उन्होंने कहा कि जब भी यह अस्तित्व में आएगा आधार संख्या या कोई अन्य आयु प्रमाण देने के प्रावधान होंगे। नई नीति के तहत दिल्ली में शराब पीने की कानूनी उम्र 21 साल है।

भाजपा सांसद ने दी है चुनौती
पीठ दिल्ली सरकार की नई आबकारी नीति के तहत शराब की होम डिलीवरी के प्रावधान को चुनौती देने वाली भाजपा सांसद परवेश साहिब सिंह वर्मा की याचिका पर सुनवाई कर रही है।

याची की ओर से पेश वकील ने कहा कि उन्होंने इस प्रावधान को चुनौती दी है क्योंकि उम्र की निगरानी की कोई प्रक्रिया नहीं है जिसके कारण कम उम्र के व्यक्ति और सार्वजनिक स्थान पर भी शराब सौंपी जा सकती है।

दिल्ली सरकार की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने याची के उस तर्क पर आपत्ति जताई कि शराब की होम डिलीवरी से घर के बच्चों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने कहा अगर कोई व्यक्ति किसी दुकान से शराब खरीदने जाता है, तो वह उसे लाएगा। घर में तो प्रभाव वही होगा और इसका मतलब यह नहीं है कि वे बच्चों को बिगाड़ रहे हैं।

सिंघवी ने कहा कि केवल तौर-तरीके बदल गए हैं और होम डिलीवरी की व्यवस्था पिछले 20-30 वर्षों से मौजूद है। उन्होंने कहा पहले शराब की होम डिलीवरी के लिए आवेदन करने का तरीका ईमेल या फैक्स के जरिये होता था। अब इसे किसी मोबाइल एप के जरिये करना होगा।
सरकार की नई आबकारी नीति को लेकर कई याचिकाएं हाईकोर्ट में लंबित है।

यह भी देखे:-

पंचशील ग्रीन्स नवरात्र सेवक दल द्वारा  आयोजित विशाल नवरात्रा महोत्सव सफलतापूर्वक सम्पन्न  
Covid-19 case update: देश में घट रहे कोरोना के मामले, बीते 24 घंटों में आए 2.38 लाख केस
जिला आबकारी विभाग ने पकड़ी अवैध शराब, एक गिरफ्तार
पहलवान हत्याकांड में सुशील कुमार के 4 साथी गिरफ्तार, देखें तस्वीरें
CORONA UPDATE: गौतमबुद्ध नगर के ये 21 हॉटस्पॉट ग्रीन जोन में तब्दील, 3 मई के बाद मिल सकती है रियायत
पति राज कुंद्रा के विवाद पर शिल्पा शेट्टी ने तोड़ी चुप्पी, एक्ट्रेस ने जारी किया बयान, जानिए क्या कह...
Weather Update: यूपी सहित इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी, कई राज्यों में NDRF तैनात, जानें- मौ...
कपड़ों और कागज पर कम देर तक जिंदा रहता है कोरोना वायरस, IIT के वैज्ञानिकों के अनुसार जानें-कहां कितन...
नर्सों के चार हजार पद खाली, मरीजों की देखभाल प्रभावित, अस्पतालों में सृजित पदों के अनुपात में नर्सों...
हिन्दी साहित्य को नया अमली जामा पहना रहा है वेब-चौपाल "तीखर"
37 वें दिन मकोड़ा के ग्रामीणों ने खेतों पर किया भागवत गीता पाठ, ग्रेनो प्राधिकरण के कब्जे की कार्यवाह...
Jammu Kashmir: घुसपैठ की फिराक में आतंकी, बड़े हमलों की साजिश
ग्रेटर नोएडा : आरडब्ल्यू महासचिव द्वारा सेक्टर के पार्क में खुली बैठक कर सेक्टर की समस्याओं को जाना ...
बाइडन ने 31 अगस्त को अफगानिस्तान से हटने पर जोर दिया, कहा- हर दिन बढ़ रहा सैनिकों पर हमले का खतरा
डॉक्टर मानवेन्द्र को मिला नेशनल एजुकेशन एक्सीलेंस अचीवर्स अवार्ड 
रोजगार की माँग को लेकर 10 अक्टूबर को सैमसंग पर विशाल धरना की चेतावनी