जवानों के साथ दशहरा मनाएंगे राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द, लद्दाख और जम्मू-कश्मीर का करेंगे दौरा

नई दिल्ली, एजेंसियां। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द वर्षों से चली आ रही परंपरा को तोड़ते हुए इस साल लद्दाख के द्रास इलाके में जवानों के साथ दशहरा मनाएंगे। परंपरागत रूप से, राष्ट्रपति राष्ट्रीय राजधानी में दशहरा समारोह में भाग लेते रहे हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा। गौरतलब है कि देश में दशहरा शुक्रवार को मनाया जाएगा। राष्ट्रपति भवन की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति कोविन्द लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के  दो दिन के दौरे पर जाने वाले हैं।

राष्ट्रपति कोविन्द 14 और 15 अक्टूबर को लद्दाख और जम्मू-कश्मीर का दौरा करेंगे। इस दौरान 14 अक्टूबर को वह लेह के सिंधु घाट में सिंधु दर्शन पूजा करेंगे। इसी दिन शाम को वह उधमपुर में सैनिकों के साथ बातचीत करेंगे। इसके बाद 15 अक्टूबर को दशहरा के मौके पर वह द्रास में कारगिल युद्ध स्मारक पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देंगे। इस दौरान वह जवानों से बातचीत भी करेंगे।

यह भी देखे:-

गौतमबुद्धनगर: चेतन को बनाया गया महामंत्री, भाजयुमो के कार्यकारिणी का हुआ घोषणा
गलगोटियाज विश्वविद्यालय के एन.एस.एस स्वयं सेवकों और छात्रों के द्वारा चलाया गया सफाई अभियान
भारत का बदला रुख, तालिबान के साथ रिश्तों पर पुनर्विचार संभव, जानें क्‍या होगी रणनीति
लखन भाटी बने हिन्दू युवा वाहिनी के प्रदेश उपाध्यक्ष
बिस्कुट कंपनी में मजदूरों -मैनेजमेंट में मारपीट, कंपनी में तोड़ फोड़ , पुलिस पर हुआ पथराव, कई घायल
अब बिना मास्क नहीं मिलेंगे पेट्रोल-डीजल, दवाई और मिठाई, खांसी-जुकाम की दवा लेने वालों का तैयार होगा ...
गौताबुद्ध नगर में लगातार बढ़ रहा है कोरोना मरीजो का आंकड़ा
Telecom Sector के लिए राहत , कैबिनेट मीटिंग थोड़ी देर में
नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा,
विधायक के निर्देश पर प्राधिकरण अधिकारियों का चार गांवो में दौरा
 जेनेरिक दवा मुद्दे समेत 22 सूत्रीय मांगों पर अड़े डॉक्टर्स 
10 मई को भाकियू लोक शक्ति के कार्यकर्ता करेंगे अर्धनग्न प्रदर्शन
नोएडा : पीएम मोदी ने की जनसभा, भाषण में सीएम योगी आदित्यनाथ की तारीफ की
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा ने निर्धन बच्चों में स्वेटर, स्कूल ड्रेस व जूते वितरित किये
जब चलती टाटा सूमो में लगी आग 
फिर से लॉकडाउन लगने का डर, दिल्ली से लेकर पुणे तक घरों को लौटने लगे हजारों प्रवासी मजदूर