विचार : क्या उत्तर प्रदेश में खिलाड़ियों का भविष्य सुरक्षित है !

क्या उत्तर प्रदेश में खिलाड़ियों का भविष्य सुरक्षित है ! मेरे हिसाब से उत्तर प्रदेश के खिलाड़ियों का भविष्य सुरक्षित नहीं क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार ने अब तक कोई खेल नीति नहीं बनाई,  उत्तर प्रदेश सरकार ने कोई ऐसी रणनीति नहीं बनाई जिससे खिलाड़ी लंबे समय तक खेल सके क्योंकि खेल में अक्सर गरीब तबके के लोग ही जाते हैं वह अपनी जी जान से मेहनत करते हैं , वह अपने दम पर राष्ट्रीय मेडल जीत लेते हैं अंतरराष्ट्रीय पार्टिसिपेट कर आते हैं लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से उन्हें कुछ नहीं मिलता है और यही वजह है , बड़े प्रदेश में ओलंपिक खेल में मात्र 10 लोग जाते हैं और वह 10 लोग भी उत्तर प्रदेश में पर्याप्त अभ्यास नहीं करते हैं उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं उसके अलावा  कोई ऑस्ट्रेलिया में अपना अभ्यास करता है कोई इटली में करता है कोई बैंगलोर में करता है उत्तर प्रदेश सरकार  खेल विभाग से बेफिक्र है क्योंकि उन्हें खिलाड़ियों और खेल से कोई लेना-देना नहीं हाल ही में उत्तर प्रदेश के 10 खिलाड़ियों ने ओलंपिक में प्रतिभाग किया था और हमारे मुख्यमंत्री जी ने पूरे देश के खिलाड़ियों को सम्मानित कर दिया और जब हमारे प्रदेश में खिलाड़ियों की सुविधाओं को बढ़ाने की बात होती है तो यह होता है कि हमारे पास बजट नहीं है लेकिन सरकार के पास बजट है ओलंपिक खेले हुए खिलाड़ियों का सम्मान करने के यह बहुत अच्छी पहल तब होती जब आप अपने प्रदेश उन खिलाड़ियों पर मेहनत कर रहे हो जो आने वाले समय में ओलंपिक में प्रतिभाग कर के मेडल जीत सकते हैं लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि प्रदेश में ऐसी कोई सुविधा नहीं ना ही कोई इस बारे में सोचना चाहता उत्तर प्रदेश खेल विभाग में सिर्फ जनता बसता है एक अधिकारी उस अधिकारी के ऊपर में लेख पर कभी लिखूंगा लेकिन पैसा ऐसे बहाने से बेहतर है पैसा उन खिलाड़ियों में लगाओ जो मेडल जीते हैं जीते हुए घोड़े पर हर कोई बाजी लगाता है उत्तर प्रदेश को ऐसे 100 खिलाड़ी तैयार करने चाहिए जो ओलंपिक एशियन गेम कॉमनवेल्थ जैसी प्रतियोगिताओं में मेडल जीतें कोई बड़ी बात नहीं है कि ऐसा हो नहीं सकता ऐसा बिल्कुल हो सकता है लेकिन उसके लिए एक सही रणनीति होनी चाहिए साफ नियत होनी चाहिए तभी यह संभव है उत्तर प्रदेश में ऐसे तमाम प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं जो मौके का इंतजार करते हैं उन्हें मौका देना है

शनीष मणि मिश्र, लक्ष्मण अवॉर्डी
अंतर्राष्ट्रीय सॉफ्ट टेनिस खिलाड़ी

(ये लेखक के निजी विचार है)

यह भी देखे:-

अपने गुरु तेंदुलकर को पछाड़कर रोहित शर्मा ने वन-डे मैच में रचा ये इतिहास
COVID-19:सदमे में जर्मनी के मंत्री ने की खुदकुशी
दर्दनाक : सड़क हादसे में धू-धू कर जली एम्बुलेंस, तीन की मौत
जहांगीरपुर में बंदरों से परेशान हैं,कस्बेवासी व व्यापारी
अग्निपथ योजना में हो सुधार,  सामाजिक कार्यकर्ता हरेन्द्र शर्मा ने कार्यकाल पांच वर्ष करने की मांग की
सुप्रीम कोर्ट : विधायिका कभी राजनीति से अपराधीकरण को मुक्त नहीं करेगी
लीज प्लान जारी करने में देरी पर सीईओ ने  लगाई फटकार
स्ट्रीट लाइट की शिकायत दूर करने ग्रेनो प्राधिकरण की टीम आएगी आपके द्वार
जानिए विराट और अनुष्का ने प्रधानमंत्री राहत कोष और महाराष्ट्र सरकार को दिया कितना राशि...
महागुन माईवुडस सोसाइटी के निवासियों ने क्रिसमस कार्निवाल फेयर लगा कर कि जरूरतमंद बच्चों की सहायता
डीएम के साथ ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में नेफोमा ने ग्रेटर नोएडा वेस्ट की समस्याओं को प्रमुखता से ...
65 परिवारों ने की एक छोटी सी कोशिश, बच्चों संग मनाई "खुशियों की दिवाली"
हिन्दू युवा वाहिनी ने दनकौर में शहीद भगत सिंह की जयंती मनाई 
इलेक्रामा 2023: 'वीमेन इन पावर' के दूसरा संस्करण का आयोजन शानदार रहा
जयकरण दादूपुर बने भारतीय किसान युनियन कृषक शक्ति  के जिला अध्यक्ष
2024 में फिर यूपी लौटेगा मोटो जीपी भारत