शांति का नोबेल: फिलीपींस की पत्रकार मारिया रेसा-रूस के दिमित्री मुरातोव पत्रकार को मिला सम्मान ,

2021 के शांति के नोबेल पुरस्कारों का एलान कर दिया गया है। नोबेल कमेटी ने इस बार इस सम्मान के लिए दो पत्रकारों को चुना है। इनमें एक पत्रकार रैप्लर मीडिया ग्रुप की संस्थापक अमेरिकी पत्रकार मारिया रेसा हैं और दूसरे रूस के पत्रकार दिमित्री मुरातोव हैं। नोबेल कमेटी ने कहा है कि इन दोनों को अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया जा रहा है, क्योंकि बोलने की आजादी ही लोकतंत्र और स्थायी शांति की पहली शर्त है।
कौन हैं नोबेल जीतने वाले दोनों पत्रकार?
1. मारिया रेसा
फिलीपींस से नाता रखने वाली अमेरिकी पत्रकार मारिया रेसा न्यूज साइट रैप्लर (Rappler) की सह-संस्थापक हैं। उन्हें फिलीपींस में सत्ता की ताकत के गलत इस्तेमाल, हिंसा और तानाशाही के बढ़ते खतरे पर खुलासों के लिए पहले भी सम्मानित किया जा चुका है। नोबेल कमेटी ने अभिव्यक्ति की आजादी में उनकी भूमिका की प्रशंसा करते हुए उन्हें इस सम्मान का हकदार बताया।

2. दिमित्री मुरातोव
इसके अलावा रूस के दिमित्री मुरातोव को भी नोबेल शांति पुरस्कार देने का एलान किया गया। वे रूस के स्वतंत्र अखबार नोवाजा गजेटा के सह-संस्थापक हैं और पिछले 24 साल से पेपर के मुख्य संपादक रहे हैं। रूस में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के तानाशाही राज के बावजूद मुरातोव को अपने अखबार के जरिए सरकार की योजनाओं की आलोचना के लिए जाना जाता रहा है। नोबेल कमेटी ने कहा कि मुरातोव कई दशकों से रूस में अभिव्यक्ति की आजादी की रक्षा कर रहे हैं।
नोबेल कमेटी ने कहा कि आजाद, स्वायत्त और तथ्य आधारित पत्रकारिता सत्ता की ताकत, झूठ और युद्ध के प्रोपेगंडा से रक्षा करने में अहम है। अभिव्यक्ति की आजादी और प्रेस की स्वतंत्रता के बिना देशों के बीच सौहार्द और विश्व व्यवस्था को सफल बनाना काफी मुश्किल हो जाएगा।

 

यह भी देखे:-

दुनिया का सबसे बड़ा हस्तशिल्प मेला ग्रेटर नोएडा में 23 फरवरी से
ऐरो मीडिया "फैशन शो" में दिखी विभिन्न राज्यों के पारम्परिक वेशभूषा की झलक
गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय में हुआ रक्तदान शिविर एवं नेत्रदान-अंगदान जागृति अभियान का आयोजन
जर्मन एजेंसियों के रडार पर था बर्लिन का हमलावर
निर्मित आवासीय समितियों को कार्यपूर्ति प्रमाण पत्र जारी करने को सशुल्क दो वर्ष का समय, कंपलीशन सर्टि...
श्री राम मंदिर के शिलान्यास  के उपलक्ष्य में हिन्दू युवा वाहिनी ने किया हवन पूजन 
एनटीपीसी दादरी को भारत सरकार का राजभाषा पुरस्कार
कल्याणकारी योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाए भाजपा कार्यकर्ता : जय प्रताप सिंह
मुख्यमंत्री केजरीवाल के घर हुए हमले का आप कार्यकर्ताओं ने किया विरोध
किसान आंदोलन : दिल्ली बॉर्डर पर पक्के मकान निर्माण के बाद अब खेती भी करेंगे किसान
समस्त जीवन सभी लोग छात्र बने रहते हैंः कपिल देव अग्रवाल
बीजापुर हमले में अगवा कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर सिंह मनहास को नक्सलियों ने रिहा किया
निखलेश तबाने के कैम्प में बच्चों ने सीखे स्केटिंग की नई तकनीक
अजब-गजब मंजर : दूल्हे का चेहरा देखते ही भागी दुल्हन बिना दुल्हन ही लौटी बारात फिर हुआ ये जानें पूरा ...
कोरोना: अखिलेश ने कराया टेस्ट, फिर योगी पर तंज कसते हुए पूछा- स्टार प्रचारक कहां हैं?
अमेरिका में कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज लगाने की मंजूरी