पीएम मोदी का वाराणसी आगमन: परियोजनाओं की सूची तैयार करने में लगा प्रशासन, पीएमओ को भेजा जाएगा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 25 अक्तूबर को वाराणसी आगमन सूचना के बाद अब प्रशासन लोकार्पण और शिलान्यास होने वाली परियोजनाओं की सूची तैयार करने में जुट गया है। पूरी हुई परियोजनाओं के भौतिक सत्यापन के लिए जिलाधिकारी ने मजिस्ट्रेट की तैनाती की है। इसके बाद इस सूची को प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जाएगा। वहां से संस्तुति के बाद इस सूची को अंतिम रूप दिया जाएगा।

 

उधर, शिलान्यास होने वाली परियोजनाओं पर मंथन शुरू किया गया है। इसके अलावा शिलान्यास वाली परियोजनाओं को लेकर तैयारी शुरू की गई है। पीएम के संभावित कार्यक्रमों पर भी योजना बनाई जा रही है। इसमें भाजपा की ओर से भी पीएम मोदी के कार्यक्रम प्रस्तावित किए जा सकते हैं।

 

दीपावली से पहले  बनारस को करोड़ों की सौगात
माना जा रहा है कि पीएम मोदी दीपावली से पहले बनारस को करीब तीन हजार करोड़ रुपये के परियोजनाओं की सौगात देंगे। यहां बता दें कि इससे पहले 15 जुलाई को पीएम मोदी ने करीब 15 सौ करोड़ रुपये की परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया था।
इन प्रमुख परियोजनाओं का काम हो गया है पूरा
– राष्ट्रीय राजमार्ग 56 (सुल्तानपुर से वाराणसी खंड)
– राष्ट्रीय राजमार्ग 233 घाघरा ब्रिज से वाराणसी खंड
– राष्ट्रीय राजमार्ग 29 वाराणसी गोरखपुर
– रिंग रोड-2 का पैकेज -1
– बीएचयू में 160 आवासीय भवन
– सर्किट हाउस और बेनियाबाग में भूमिगत पार्किंग
– गोदौलिया से दशाश्वमेध घाट के बीच सड़क का सौंदर्यीकरण
– 10 एमएलडी क्षमता का रामनगर में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट
– गंगा गोमती के संगम तट पर स्थित कैथी घाट
इसी माह बनकर तैयार हो जाएगा बायोगैस प्लांट
वाराणसी  शहर से करीब 10 किलोमीटर दूर शहंशाहपुर में बन रहा बायोगैस प्लांट इसी माह बनकर तैयार हो जाएगा। इसके बाद लोगों को इसका लाभ मिलने लगेगा। बृहस्पतिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बायोगैस प्लांट का निरीक्षण कर निर्माण कार्य का जायजा लिया।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कमिश्नर दीपक अग्रवाल से यहां लगे संयंत्र से बायोगैस बनने और भविष्य में इसके प्रयोग आदि के बारे में जानकारी ली।  राजकीय कृषि एवं पशुधन प्रक्षेत्र के परिसर में करीब 30 करोड़ रुपये से बनने वाले बायोगैस प्लांट में 2500 किलोग्राम सीएनजी गैस का उत्पादन होगा।

गायों के गोबर और अन्य ऑर्गेनिक वेस्ट प्रोडक्ट से बायोगैस संयंत्र में गैस बनाने में सहायता होगी। प्लांट के माध्यम से मीथेन को सीएनजी में कंवर्ट किया जाएगा। इसके बाद कंप्रेस कास्केट में भरकर होटल, सीएनजी पंप और सीएनजी से चलने वाले वाहनों में प्रयोग किया जा सकता है।

 

यह भी देखे:-

उत्तर प्रदेश: जिस जेल में बंद है मुख्तार अंसारी वहां की सुरक्षा में भारी चूक, उठे सवाल
जी .डी. गोयंका स्कूल में मनाया गया ग्रेजुएशन डे
गेटर नोएडा में कांग्रेस की साझी रसोई का शुभारंभ
पति राज कुंद्रा के विवाद पर शिल्पा शेट्टी ने तोड़ी चुप्पी, एक्ट्रेस ने जारी किया बयान, जानिए क्या कह...
नववर्ष : जनशक्ति सेवा समिति ने निर्धन बच्चों में शिक्षण सामग्री का वितरण किया
केंद्र सरकार की सातवीं वर्षगांठ पर भाजपा शासित राज्यों में अनाथ बच्चों के लिए लागू होगी योजना
Diwali 2020: धनतेरस से दिवाली और भाई दूज तक की तारीख को लेकर न हों भ्रमित, जानिए यहां सही तिथि
गलगोटियाज  विश्वविद्यालय : कोविड-19  वर्चुअल समिट का शानदार ऑनलाईन आयोजन
जीएल बजाज संस्थान ने किया तृतीय वार्षिक एचआर कान्क्लेव का आयोजन, अग्रणी औद्योगिक संस्थानों के एच आर ...
बिसहड़ा : पूर्व प्रधान के बेटे की गोली लगने से मौत , इखलाक काण्ड से कोई सम्बन्ध नहीं - गौतमबुद्ध नगर ...
Asian Boxing Championships: 6 बार की वर्ल्ड चैंपियन मैरी कॉम फाइनल में, साक्षी ने गंवाया गोल्ड
कोरोना नियंत्रण: यूपी मॉडल कारगर, 24 घंटे में मिले सिर्फ 90 नए संक्रमित केस
अनिल अंबानी को नहीं मिला बड़े भाई का सहारा
फैम टूर : महाशिवरात्रि पर काशी आ रहे हैं देशभर के प्रमुख टूर ऑपरेटर्स, पर्यटन को मिलेगी संजीवनी
गृह कलेश के चलते लगाई फांसी
रामदेव पर देशद्रोह लगाने की मांग, IMA का पीएम मोदी को पत्र, कहा- बाबा ने वैक्सीन से 10,000 डॉक्टरों-...