नवरात्रों में ये 13 काम किए तो माता रानी हो जाएंगी नाराज, जानिए शारदीय नवरात्र का मुहूर्त व महत्व

आप सभी को शारदीय नवरात्र की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं। भगवती आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें।
आश्विन शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक देवी के नौ रूपों का पूजन होता है। जिसे शारदीय नवरात्री के नाम से पुकारा जाता है। शास्त्रों में एक साल में चार नवरात्रि का वर्णन किया गया है।*

अतः नवरात्रि में देवी मां को प्रसन्न करना है तो इन १३ कामों से बचकर रहें भूलकर भी ना करें यह बड़ी गलतियां ।

⚜️नवरात्रों में है तेरा १३ काम किए तो माता रानी हो जाएंगी नाराज।
〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️
🚩१. नवरात्रि में अगर अखंड ज्योत जला रहे हैं तो इन दिनों घर खाली छोड़कर नहीं जाए।

🚩२. 9 दिन तक नाखून नहीं काटने चाहिए।

🚩३. व्रत रखने वालों को दाढ़ी मूंछ और बाल नहीं कटवाने चाहिए।

🚩४. खाने में प्याज लहसुन और नॉनवेज ना खाएं।

🚩५. 9 दिन का व्रत रखने वालों को गंदे और बिना धुले कपडों को भी नहीं पहनना चाहिए।

🚩६. व्रत रखने वाले लोगों को बेल्ट चप्पल जूते बैग जैसी चमड़े की चीजें का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

🚩७. उपवास रखने वालों को 9 दिन तक नींबू नहीं काटना चाहिए।

🚩८. व्रत में 9 दिनों तक खाने में अनाज नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।

🚩९. विष्णु पुराण के अनुसार नवरात्रि व्रत के समय दिन में सोना निषेध है।

🚩१०. फलाहार एक ही जगह पर बैठकर ग्रहण करें।

🚩११. चालीसा मंत्र या सप्तशती पढ़ रहे हैं तो पढ़ते हुए बीच में दूसरी बात बोलना या उठने की गलती कतई ना करें इससे पाठ का फल नकारात्मक शक्तियां ले जाती है।

🚩१२. शारीरिक संबंध बनाने से व्रत का फल नहीं मिलता है।

🚩१३. कई लोग भूख मिटाने के लिए तंबाकू चबाते हैं ये गलती व्रत के दौरान बिल्कुल ना करें।

 

⚜️🕉️शारदीय नवरात्रि का महत्व
शारदीय नवरात्रि का इन सभी में सबसे ज्यादा महत्व बताया गया है। इस बार शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 7 अक्टूबर से हो रही है। नवरात्रि के दिनों में माँ दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा करने से विशेष लाभ मिलता है। मान्यता है कि माँ दुर्गा अपने भक्तों के हर संकट को दूर करती है। चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ महीने माँ दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। जिसमें आषाढ़ एवं माघ को गुप्त नवरात्र के रूप में मनाया जाता है।

🌺घटस्थापना का शुभ मुहूर्त-

🔹🌻ज्योतिष के अनुसार नवरात्रि में घट स्थापना या कलश स्थापना का विशेष महत्व होता है। शारदीय नवरात्रि में घटस्थापना का शुभ समय
१👉सुबह 06 बजकर 17 मिनट से सुबह 07 बजकर 07 मिनट तक है।
२👉सुबह 9:33 से 11:31 तक
३👉अभिजित मुहूर्त- 11:46से 12:32 तक।
४👉दोपहर 3:33 से शाम 5:05 तक

कलश स्थापना नवरात्रि के पहले दिन यानी 07 अक्टूबर, गुरुवार को ही की जाएगी।

नवरात्र का, व्रत कर रहे हैं, तो यह, 13 काम, बिल्कुल ना करें……🚩🚩

शारदीय नवरात्रि ७ अक्टूबर २०२१ से है। इन दिनों अधिकतर लोग व्रत और उपवास करते हैं, लेकिन, क्या आप जानते हैं, कि मां दुर्गा ९ नवरात्रि व्रत संयम और अनुशासन की मांग करते हैं।

जय माता दी🙏🙏
शुभेच्छु
हिमांशु कौशिक
(ज्योतिष विसारद /मार्तण्ड)
+918864863300

यह भी देखे:-

मकर संक्रांति 2021 पर बना सुंदर शुभ ग्रह संयोग, पढें कैसे
आज का पंचांग, 11 जनवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
धूम धाम से मनाया गया शनि अमावस्या
Diwali 2021 Laxmi Puja Muhurat: कल दीपावली पर किस मुहूर्त में करें लक्ष्मी पूजा, जानें पूजा विधि
कल का पंचांग, 10 जुलाई 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
आज का पंचांग , 17 अक्टूबर 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
आज का पंचांग, 19  सितम्बर 2020 , जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 4 नवम्बर 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त
आज का पंचांग, 22  अगस्त 2020, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
आज का पंचांग, 21  सितम्बर, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहूर्त 
उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देने के साथ छठ महापर्व का समापन
कायस्थ समाज ने की भगवान श्री चित्रगुप्त व कलम दवात की पूजा, विशाल भंडारे का हुआ आयोजन
दनकौर में मोहर्रम पर निकाला गया मातमी जुलूस, हर तरफ गूंजा या हुसैन का नारा
आज का पंचांग, 22 सितम्बर 2020 , जानिए शुभ एवं  अशुभ मुहूर्त 
श्री दाऊजी मंदिर पर प्रिंस भारद्वाज  द्वारा 251 दीपक  जलाए गए 
आज का पंचांग, 21 जनवरी 2021, जानिए शुभ एवं अशुभ मुहुर्त