गोरखपुर कांड: एफआइआर दर्ज होते ही थानेदार सहित छह पुलिस कर्मी फरार

गोरखपुर। Manish Murder Case: कानपुर के इडब्लूएस बर्रा-3 निवासी कारोबारी मनीष गुप्ता की हत्या के आरोपित निलंबित थानेदार जगत नारायण सिंह सहित छह पुलिस कर्मी रात में करीब डेढ़ बजे मुकदमा दर्ज होते ही भाग निकले। गोरखपुर पुलिस ने उन्हें पकड़ने पर विशेष ध्यान भी नहीं दिया, जबकि मंगलवार करीब 12 बजे ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को पता चल गया था कि थानेदार सहित कई पुलिस कर्मियों की भूमिका घटना में संदिग्ध है।

पूरे दिन मामले को मैनेज करने में जुटे रहे हत्यारोपित पुलिस कर्मी

मंगलवार की रात मनीष गुप्ता की हत्या के बाद निलंबित थानेदार ने एसएसपी डा.विपिन ताडा को झूठी कहानी सुना दी थी। उन्होंने उन्हें बताया था कि मंगलवार रात में मनीष व उसके दोस्त नशे में थे। नशे में वह अपने बेड से नीचे गिरा और उसकी नाक में गंभीर चोट लग गई थी। उसे इलाज के लिए निजी अस्पताल व बीआरडी मेडिकल कालेज ले जाया गया। वहां इलाज के दौरान मनीष की मौत हो गई थी, लेकिन दोपहर करीब 12 बजे मनीष की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता ने एसएसपी के पास एक रिकार्डिंग भेजी जिसमें मनीष ने अपने भांजे के दाेस्त दुर्गेश के पास कर बताया था कि पुलिस उसके साथ दुर्व्यवहार कर रही है। आडियो सुनने के बाद ही एसएसपी को पता चल गया था कि थानेदार उनसे झूठ बोल रहे थे। उन्होंने आडियो के आधार पर सभी छह पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया था।

मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी गई है। एसपी क्राइम को पर्यवेक्षण की जिम्मेदारी दी गई है। जब तक किसी के विरुद्ध मुकदमा न दर्ज हो, उसे हिरासत में नहीं लिया जा सकता है। थानेदार व अन्य पुलिस कर्मी तो निलंबित होते ही यहां से भाग गए थे। उन्हें लग गया था कि कहीं उनके विरुद्ध कोई बड़ी कार्रवाई न हो जाए, इसे लेकर वह भाग गए थे। घटना को लेकर पोस्टमार्टम की भी गंभीरता से जांच की गई है। बाहर से कहीं घातक चोट के निशान नहीं मिले हैं। माथे पर रगड़ के निशान है। दोहनी पर दो छोटे घांव हैं। पुलिस ने पीड़िता की भी पूरी मदद की है। उनकी मांग पर तत्काल पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया। पोस्टमार्टम होने में देरी हुई, इसके चलते मुकदमा दर्ज होने में वक्त लगा। मुख्यमंत्री जी ने भी बिना किसी मांग के 10 लाख रुपये का मुआवजा दिया है। – डा.विपिन कुमार ताडा, एसएसपी।

यह भी देखे:-

गाजियाबाद के छात्र अकुल यादव ने वर्चुअल योग प्रतियोगिता जीती
किसी भी वर्क पैलेस पर आंतरिक शिकायत प्रकोठ होना चाहिएः डॉ उपासना सिंह
Tokyo Olympics: दीपक पूनिया के हाथ से फिसला कांस्य पदक, नाजेम ने 2-4 से दी शिकस्त
महिलाओं के उत्थान और उनके सशक्तिकरण के लिए संवेदनशील हैं केन्द्र व प्रदेश सरकार : धीरेन्द्र सिंह
आदर्श रामलीला सूरजपुर : पुत्र वियोग में महाराजा दशरथ ने त्यागे प्राण, अयोध्या में शोक , दर्शक हुए भा...
दो दिन बैंक कर्मियों की हड़ताल से बढ़ सकती है परेशानी
सिख दंगा: 34 साल बाद मिला न्याय , आरोपी सज्जन कुमार दोषी करार
चीनी जासूसों को ग्रेटर नोएडा में पनाह देने वाला चीनी नागरिक गर्ल फ्रेंड समेत गिरफ्तार
बिभर्ते व विओम ने डीसीडीसी डायलिसिस सेंटर में खुशियों के रंग बांट कर मरीजों संग मनाई होली
एनटीपीसी दादरी में सड़क सुरक्षा जागरुकता माह का उदघाट्न
गत्ता फैक्ट्री में लगी भीषण आग, सारा सामान जल कर ख़ाक
अग्निशमन सेवा सप्ताह शुरू, डीएम-एसएसपी ने हरी झंडी दिखाकर अग्निशमन वाहन रैली को रवाना किया
चौधरी सुखबीर प्रधान शिक्षा समिति ने क्षेत्र की प्रतिभाओं का किया सम्मान
वैक्सीनेशन का कार्य हर गांव में शुरू किया जाए : रविन्द्र भाटी एडवोकेट , नोडल अधिकारी नरेंद्र भूषण को...
भाकियू शक्ति ने कृषि बिल की निकाली शव यात्रा
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल