डिजिटल हेल्थ कार्ड: मात्र दो मिनट में मोबाइल से ऐसे बनाएं अपना कार्ड, इसके फायदे भी जानें

देश की जनता को स्वास्थ्य अधिकार देने के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में की है। इस मिशन के तहत देश के नागरिकों को एक डिजिटल हेल्थ कार्ड बनेगा। दावा है कि इससे गरीब और मध्य वर्गीय परिवारों को बड़ी राहत मिलेगी।

क्या है डिजिटल हेल्थ कार्ड?
आपको सीधे शब्दों में बता दें कि डिजिटल हेल्थ कार्ड एक ऐसा कार्ड है जिसमें आपकी बीमारियों के इतिहास और पर्ची के बारे में पूरी जानकारी डिजिटल रूप से उपलब्ध होगी। जिस तरह से आधार कार्ड में आपके पहचान से जुड़ी पूरी जानकारी जैसे एड्रेस नाम, पिता का नाम आदि डिजटल रूप में उपलब्ध रहता है, उसी तरह डिजिटल हेल्थ कार्ड में भी आपके स्वास्थ्य से संबंधित पूरी जानकारी रहेगी। जिस तरीके से आप आधार कार्ड अपने पास रखते हैं, उसी तरीके से आप अपने डिजिटल हेल्थ कार्ड को भी साथ में रख सकेंगे।

 

डिजिटल हेल्थ कार्ड एक यूनीक आईडी कार्ड की तरह होगा जिसमें आपकी बीमारी, इलाज और मेडिकल टेस्ट से जुड़ी सभी जानकारियां होंगी। इस कार्ड पर आपको 14 अंकों का एक नंबर मिलेगा और इसी नंबर से किसी मरीज की मेडिकल हिस्ट्री का पता चल सकेगा। इस डिजिटल हेल्थ कार्ड में मरीज की मेडिकल हिस्ट्री रखने के लिए अस्पताल और डॉक्टर्स को एक सेंट्रल सर्वर से जोड़ा जाएगा। इसके लिए एक रजिस्ट्रेशन होगा। आप भी अपने डाटा को ‘एनडीएचएम हेल्थ रिकॉर्ड्स एप’ पर अपलोड कर सकेंगे। इस एप में सभी अस्तपताल और क्लीनिक की लिस्ट होगी।

 

कैसे बनेगा डिजिटल हेल्थ कार्ड?
डिजिटल हेल्थ कार्ड को आप मोबाइल नंबर या आधार कार्ड की मदद से खुद ही ऑनलाइन बना सकते हैं या फिर किसी कॉमन सर्विस सेंटर या साइबर कैफे में जाकर बनवा सकते हैं। यदि आप खुद ही बनाना चाहते हैं तो ये अपने मोबाइल के ब्राउजर में ndhm.gov.in टाइप करके ओके करें।

अब आपको इस वेबसाइट पर “हेल्थ आईडी” नाम से एक शीर्षक दिखेगा। इस पर क्लिक करके आप कार्ड की शर्तें पढ़ सकते हैं और कार्ड भी बनवा सकते हैं।

वेबसाइट पर जाने के बाद ‘क्रिएट हेल्थ आईडी’ विकल्प पर क्लिक करें।

कार्ड बनाने के लिए आधार या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनें।

आधार नंबर या फोन नंबर डालने पर एक ओटीपी मिलेगा।

ओटीपी भरकर आपको इसे वेरिफाई करना होगा।

अब आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा जिसमें आपको अपने प्रोफाइल के लिए एक फोटो, जन्म तिथि और पता समेत कुछ और जानकारियां देनी होंगी।

सभी जानकारियां देने के बाद आपका डिजिटल हेल्थ कार्ड बनकर तैयार हो जाएगा जिसे आप डाउनलोड कर सकेंगे। इस कार्ड में एक क्यूआर कोड भी होगा।

 

यह भी देखे:-

प्रभारी मंत्री ने की विकास एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा
आमात्रा होम्स सोसाइटी के निवासियों ने नेफोमा बेनर तले मूलभूत सुविधाओं के लिए किया प्रदर्शन, डीसीपी स...
गृह मंत्री अमित शाह ने ग्रेटर नोएडा सीआरपीएफ कैंप में रोपा 4 करोड़वां पौधा, सीआरपीएफ कैंप की विभिन्...
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान दिवस मनाया
कोरोना संकट काल में 18-19 घंटे काम कर रहे PM मोदी, सरकार कर रही दिन-रात काम- पीयूष गोयल
शारदा विश्विद्यालय: नर्सिंग के विद्यार्थियों ने ली सेवा की शपथ
ये कंपनियां ला रही हैं दमदार 7 सीटर एसयूवीज, नये स्टाइल के साथ मिलेंगे जबरदस्त फीचर्स
मुस्कान स्कूल ओरल हेल्थ प्रोग्राम में विशेषज्ञ डॉक्टरों ने छात्रों को बताये दांतों की देखभाल के महत्...
यूएसए में करोड़ों का स्कालरशिप पाने वाली सुदीक्षा भाटी को विधायक तेजपाल नागर ने दी बधाई
CM योगी आदित्यनाथ को धमकी, 15 को नहीं फहराने देंगे तिरंगा -खालिस्तान समर्थक गुरपतवंत सिंह
गलगोटिया कॉलेज : दो दिवसीय टेक्नोथाॅन का समापन 
ब्रिटेन में हिंदुओं पर हमले के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई के लिए विहिप ने प्रधानमंत्री लिज ट्रस को लिख...
ग्रेटर नोएडा की दो युवतियों ने भागकर शादी रचाई , फिर क्या हुआ ? जानिए
अनियंत्रित होकर कार पेड़ से टकराई,चार घायल
ग्रेटर नोएडा : महिला से पॉश सोसाइटी में गैंग रेप
पत्रकार व सामाजिक चिंतक नंद गोपाल वर्मा नेशनल एक्सीलेंसी अवार्ड 2020 से नवाजे गए