गौतमबुद्ध नगर के दो गांवों के दो होनहारो ने मेहनत और संघर्ष से लिखी अपनी तकदीर   

सिविल सर्विसेज परीक्षा में सफल आदित्य भाटी ने साबित कर दिया कि मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती, किसान की बेटी हिमानी ने संघर्ष रंग लाया

संघ लोक सेवा आयोग जो यूपीएससी मेन रिजल्ट की घोषणा की है उसके  बाद  गौतमबुद्ध नगर के दो गांवों में जश्न का माहौल है यहां के दो होनहार लड़का और लड़की ने यूपीएससी क्लियर किया है आदित्य भाटी और हिमानी मीना ने जेवर क्षेत्र का नाम रौशन किया है. जेवर के देवटा गांव के आदित्य भाटी को सिविल सर्विसेज परीक्षा में 112वीं रैंक और गांव सिरसा माचीपुर की हिमानी मीणा ने भी 323 वीं रैंक हासिल की है. इन दोनों की कामयाबी से पूरे इलाके में खुशियों का माहौल है. परिवारजनों ने मिठाई खिलाकर खुशी जाहिर की है.

 

देवटा गांव के आदित्य भाटी को यूपीएससी मेन 112वीं रैंक मिली है। दिल्ली आइआइटी से 2015 में मैकेनिकल में बीटेक करने बाद आदित्य ने पढ़ाई के दौरान ही सिविल सेवा की तैयारी शुरू कर दी थी। 2018 में उनका भारतीय वन सेवा (आइएफएस) में चयन हो गया, आदित्य भाटी अभी आईएफएस हैं. वह अभी मध्य प्रदेश कैडर में हैं. लेकिन वह प्रशासनिक व पुलिस सेवा के जरिए देश की सेवा करना चाहते थे। देहरादून में आइएफएस की ट्रेनिग के दौरान फिर से तैयारी में जुट गए। आखिरकार अपने सपने को सच साबित किया। मां दिल्ली के कॉलेज में शिक्षिका थीं. माता-पिता दिल्ली में शिक्षक थे और रिटायर हो चुके हैं. आईएएस बनने के लिए 5 बार एग्जाम दिया है आदित्य भाटी के यूपीएससी की परीक्षा में इस बार अच्छी रैंक हासिल करने से परिवार और गांव के लोगों में खुशी का माहौल है.

 

हिमानी मीणा जेवर के  छोटे से गांव सिरसा मांचीपुर के किसान की बेटी है. हिमानी ने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा में 323वीं रैंक हासिल कर क्षेत्र का नाम रोशन किया है। हिमानी ने यह सफलता कड़े संघर्षों के बीच पाई है। प्राथमिक शिक्षा के बाद जेवर के प्रज्ञान पब्लिक स्कूल में छठी कक्षा में दाखिला कराया। जहां उनकी बेटी ने हमेशा स्कूल टॉप किया। हिमानी ने मास्टर्स जेएनयू से किया है. हिमानी के पिता इंद्रजीत ने बताया कि उनकी बेटी ने जेएनयू से पीएचडी और एमए की परीक्षा में टॉप की है, पिता किसान और मां गृहणी हैं. UPSC में मेंस परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद खुशी का माहौल है, हिमानी ने बताया कि परिवार के सामने बहुत सारी चुनौतियां थीं। इसके बावजूद परिजनों ने हमेशा मेरा साथ दिया। दिल्ली में रहते हुए परास्नातक के दौरान उन्होंने यूपीएससी के बारे में सोचा और तैयारी शुरू कर दी। उन्होंने बताया कि एकाग्रता के साथ 7-8 घंटे की पढ़ाई कर यह मुकाम हासिल किया है।

*

यह भी देखे:-

मामूली कहासुनी जारचा में दो पक्षों में चले लाठी डंडे , घायल
यूपी : अयोध्या में आयुर्वेदिक और वाराणसी में होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज खुलेगा
कोरोना के चलते रद्द हुआ भारत-इंग्लैंड के बीच 5वां टेस्ट मैच, ईसीबी ने की पुष्टि
एसएसपी वैभव कृष्ण ने 1 दरोगा दो कांस्टेबल को निलम्बित किया, जानिए क्या है वजह
जिला बार एसोसिएशन चुनाव : राजीव तोंगड़ बने अध्यक्ष
प्रवासी मजदूरों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, 31 जुलाई तक 'एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड योजना' लागू करन...
पंजाब के बाद अब राजस्थान की बारी, राहुल और पायलट की मैराथन बैठकों से मिल रहे संकेत
अब यूपी में तेज हुईं मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं, जल्द बढ़ सकता है योगी कैबिनेट का दायरा
डकैती केस में वांटेड बदमाश एनकाउंटर में घायल
"काशी" मूवी का प्रमोशन करने आईटीएस पहुंचे फ़िल्म स्टार , छात्र हुए उत्साहित
आईटीएस डेन्टल में एमडीएस के विद्यार्थियों का नया सत्र हुआ प्रारम्भ
AQUAQUEST 2019 was held at Ryan International School
शिक्षक कच्ची मिट्टी रूपी बच्चे को आकार देता है - डॉ. राहुल (महिला उन्नति प्रशिक्षण संस्थान)
डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन की पुण्यतिथि मनाई
शारदा यूनिवर्सिटी : नोबेल पुरुस्कार विजेता वैज्ञानिक चंद्रशेखर की महत्वपूर्ण भूमिका का वर्णन
कोरोना महामारी में दिखा योग का पावर: वाई के गुप्ता