राजस्थान: क्यों विवाह पंजीकरण कानून संशोधन पर मचा है विवाद

राजस्थान में अनिवार्य विवाह पंजीकरण (संशोधन) विधेयक, 2021 को लेकर विवाद जारी है।  भाजपा ने  इसको काला कानून बताते हुए दावा किया कि इससे बाल विवाह वैध हो जाएंगे  हालांकि राजस्थान की कांग्रेस सरकार का कहना है कि कानून के तहत केवल पंजीकरण की अनुमति दी गई है, इसका अर्थ ये नहीं कि शादियां वैध हो जाएंगी। भाजपा के सदस्यों ने शुक्रवार को राजस्थान विधानसभा से बहिर्गमन भी किया था।

दरअसल, संशोधन विधेयक के बयान और उद्देश्य में कहा गया है कि यदि जोड़े ने शादी की कानूनी उम्र पूरी नहीं की है तो माता-पिता या अभिभावक निर्धारित अवधि के भीतर एक आवेदन जमा करने के लिए जिम्मेदार होंगे। विधेयक में बाल विवाह के मुद्दे को यह कहते हुए शामिल किया गया है कि यदि 21 वर्ष से कम उम्र के लड़के और 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की के बीच विवाह होता है, तो ऐसे में शादी के 30 दिनों के भीतर माता-पिता या निर्धारित अवधि के भीतर एक आवेदन जमा करने के लिए जिम्मेदार होंगे।

उधर, सदन में राजस्थान अनिवार्य विवाह पंजीकरण (संशोधन) विधेयक, 2021 का बचाव करते हुए संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि प्रस्तावित कानून विवाह के पंजीकरण की अनुमति देता है, मगर कहीं भी यह नहीं कहा गया है कि ऐसी शादियां अंततः वैध हो जाएंगी। मंत्री ने कहा कि अगर यह वास्तव में बाल विवाह है तो जिलाधिकारी और संबंधित अधिकारी परिवारों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई कर सकेंगे।

जबकि विपक्ष ने इसे ‘‘काला कानून’’ करार दिया और मांग की कि विधानसभा अध्यक्ष को मत विभाजन कराना चाहिए। विपक्षी सदस्य नारेबाजी करते हुए अध्यक्ष के आसन के लगभग पहुंच गए लेकिन ध्वनिमत से विधेयक पारित कर दिया गया। मत विभाजन की मांग स्वीकार नहीं किए जाने पर भाजपा सदस्यों ने बहिर्गमन किया।

भाजपा और विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने आरोप लगाया कि यह बाल विवाह के खिलाफ कानून का उल्लंघन है।

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह कानून पूरी तरह से गलत है। जिन विधायकों ने इसे पारित किया है, उन्होंने इसे नहीं देखा है। विधेयक की धारा 8 बाल विवाह के खिलाफ लागू मौजूदा कानून का उल्लंघन करती है।’

भाजपा नेता राम लाल शर्मा ने कहा, ‘यदि बाल विवाह पर प्रतिबंध है, तो वे इस विधेयक के तहत बाल विवाह को कैसे शामिल कर सकते हैं? यह सब कांग्रेस वोट बैंक की राजनीति के लिए कर रही है।’

यह भी देखे:-

ग्रामीणों के सहयोग से आजमपुर गढ़ी में लाइब्रेरी का उद्घाटन
ग्रेटर नोएडा : जिम्स अस्पताल  (GIMS) में 100 बेड बढ़ाये गए, 250 बेड की संख्या को बढ़ाकर किया 350
गांवों में  तेजी से पैर पसार रहा कोरोना, एडवोकेट रविंद्र भाटी सीईओ को पत्र  में लिखा "कुछ करिए"
इण्टरनेशनल टाइगर डे पर रंगोली प्रतियोगिता
गाँव की बच्चियों ने किया निर्मित सी सी मार्ग का उद्घाटन
व्यपारियों ने कहा लॉक डाउन पीरियड की पूरी तनख्वाह देने में असमर्थ ....
बीकेयू टिकैत ने की समीक्षा बैठक, किसानों की समस्या सुनीं 
International Yoga Day: हमें स्ट्रेस से स्ट्रेंथ और नेगेटिविटी से क्रिएटिविटी का रास्ता दिखाता है यो...
डीएम बी.एन. सिंह व एसएसपी लव कुमार ने क्राइम मीटिंग में दिए ये दिशा-निर्देश
उत्तर प्रदेश के स्कूलों में छोटे बच्चों का माथे पर टीका और चॉकलेट से होगा स्वागत, एक सितंबर से शुरू ...
रेरा बिल को मजबूत करे सरकार, बिल्डर नही मानते रेरा ऑर्डर - नेफोमा
दिल्ली में कोरोना के नए मामलों ने फिर तोड़ा रिकॉर्ड, सीएम केजरीवाल ने मांगी केंद्र से मदद
सम्पूर्ण समाधान दिवस पर डीएम बी.एन. सिंह ने सुनी जनता की शिकायत
हैवानियत की हदें पार: फेसबुक पर दोस्ती की, बर्थ डे के बहाने बुलाकर बंधक बना किया दुष्कर्म
टोक्यो ओलंपिक: आखिरी दम तक दौड़ी मेरठ की बेटी प्रियंका, पर हाथ लगी निराशा, भारत की झोली में नहीं आया ...
टीकाकरण में यूपी नंबर वन : मेगा वैक्सीनेशन में एक दिन 25 लाख लोगों का टीकाकरण, पांच करोड़ पार पहुंची...