27 सितंबर को कैसे करना है भारत बंद, किसान संगठन ने जारी की गाइडलाइन

तीन नए कृषि कानूनों को पारित हुए़ एक साल पूरा हो गया है। किसान इन कानूनों के खिलाफ करीब एक साल से प्रदर्शन कर रहा है. दिल्ली की सीमाओं पर देशभर के किसानों ने ढेरा डाल रखा है। वहीं, अलग-अलग राज्यों में भी किसान जगह-जगह विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच संयुक्त किसान मोर्चा ने 27 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। संयुक्त किसान मोर्चा के अलावा कई और किसान संगठन भी इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक किसानों ने कहा कि यह प्रदर्शन शांतिपूर्ण होगा और किसान यह सुनिश्चित करेंगे कि लोगों को कोई असुविधा न हो। “एसकेएम ने संघटक संगठनों से कहा है कि वे समाज के सभी वर्गों से किसानों के साथ हाथ मिलाने और बंद का पहले से प्रचार करने की अपील करें ताकि जनता की असुविधा कम हो सके। बंद शांतिपूर्ण और स्वैच्छिक होगा और आपातकालीन सेवाओं को छूट देगा।”

एसकेएम ने एक बयान में कहा कि केंद्र और राज्य सरकार के कार्यालयों, बाजारों, दुकानों, कारखानों, स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों को किसानों द्वारा भारत बंद के दौरान काम करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। ये बंद सुबह 6 बजे शुरू होगा और शाम 4 बजे तक लागू रहेगा। सार्वजनिक और निजी परिवहन को सड़कों पर चलने की अनुमति नहीं होगी। बंद के दौरान किसी भी सार्वजनिक समारोह की अनुमति नहीं दी जाएगी और केवल एम्बुलेंस और दमकल सेवाओं सहित आपातकालीन सेवाएं ही काम कर सकती हैं।

एसकेएम ने कहा कि बंद को लेकर आगे की योजना बनाने के लिए 20 सितंबर को मुंबई में ‘राज्य स्तरीय तैयारी बैठक’ होगी। उसी दिन उत्तर प्रदेश के सीतापुर में ‘किसान मजदूर महापंचायत’ का आयोजन किया जाएगा और इसके बाद 22 सितंबर को उत्तराखंड के रुड़की में ‘किसान महापंचायत’ का आयोजन किया जाएगा।

यह भी देखे:-

आठ साल के बच्चे ने दिखाई बहादुरी , अपने दोस्त की बचाई जान, मिल रही है शाबासी
ग्रेटर नोएडा : एससी एसटी एक्ट के विरोध में सामाजिक संगठनों ने किया प्रदर्शन
संदिग्ध हालत में बंद कमरे में मिला छात्र का शव
डॉ. सर्वपल्ली राधा कृष्णन की पुण्यतिथि मनाई
डीयू ओपन बुक परीक्षा आज से : ईमेल और पोर्टल दोनों पर स्वीकार नहीं होगी कॉपी
यूपी विस चुनाव की तैयारी : अखिलेश आज लखनऊ में चलाएंगे साइकिल
पत्रकार पर जानलेवा हमला के आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी की मांग को लेकर पुलिस के आला अधिकारी से मिले...
रोडवेज बस व इको वैन में भिडंत दो महिलाओं की मौत
खतरे की घंटी : कोरोना 'निगल' रहा है बच्चों की सेहत, लंबे समय से घर में रहते हुए चिड़चिड़े
कोरोना महामारी की दूसरी लहर में बढ़ते संक्रमण के चलते इंडिया रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष के लिए विका...
ग्रेटर नोएडा के तीन लाख टन कूड़े के निस्तारण की बड़ी पहल
मौत को दावत दे रहा पुल विभाग कर रहा इंतजार
बच्चों की वैक्सीन: सितंबर तक आ रही है वैक्सीन, वैक्सीन के बारे मे पढें पूरी रिपोर्ट
ब्राम्हणों की हत्या पर प्रदर्शन करने वाले लोगों पर दर्ज मुकदमें तुरंत वापस हों: राघवेंद्र दुबे
उद्यमियों  की समस्या से रूबरू हुए नरेंद्र भूषण सीईओ ग्रेनो प्राधिकरण 
विधायक जेवर धीरेन्द्र सिंह ने प्रस्तुत की अपनी 09 माह की रिपोर्ट