Bad Bank: निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्फ्रेंस आज, बैड बैंक से जुड़ी बड़ी घोषणा संभव

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज शाम पांच बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगी। इस दौरान बैड बैंक प्रस्ताव से जुड़ी बड़ी घोषणा हो सकती है। बुधवार को केंद्रीय कैबिनेट ने बैड बैंक को सरकारी गारंटी के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। दरअसल अप्राप्य ऋण के समाधान के लिए बैड बैंक बनाने का प्रस्ताव दिया गया था। भारतीय बैंक संघ (IBA) को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई थी। उसका आकलन है कि सरकारी गारंटी करीब 31,000 करोड़ रुपये होनी चाहिए। बैड बैंक या राष्ट्रीय संपत्ति पुनर्निर्माण कंपनी (NRCL) स्वीकृत ऋण राशि का 15 फीसदी नकद देगा। शेष 85 फीसदी राशि सरकारी गारंटी वाली प्रतिभूति होगी।

 

क्या है बैड बैंक?
वित्त मंत्री ने बैंको को गैर निष्पादित आस्तियों (NPA) से उबारने के लिए ‘बैड बैंक’ बनाने का फैसला किया है। इस बैड बैंक को डेवलपमेंट फाइनेंस इंस्टिट्यूशन के नाम से जाना जाएगा। इस बैंक की स्थापना का मुख्य उद्देश्य बैंकों को डूबे कर्ज से बाहर निकालना है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में इसके लिए 20 हजार करोड़ रुपये की घोषणा की थी। बैड बैंक ऐसे वित्तीय संस्थान को कहते हैं, जो कर्जदाताओं यानी बैंकों की खराब या फंसी परिसंपत्ति को लेकर उनकी मदद करता है। यह बैंकों के एनपीए की वसूली का समाधान निकालता है। आइए जानते हैं इसे अनूठे बैंक के बारे में :

 

क्या होगा बैड बैंक से लाभ?
देश की बैंकों की बैलेंस शीट सुधर जाएगी और उन्हें नए कर्ज देने में सुविधा होगी।  सारे बैंकों का एनपीए इसमें समाहित हो जाएगा और वे फंसे कर्ज से मुक्त हो जाएंगे। इससे सरकार को भी फायदा होगा। यदि वह किसी सरकारी बैंक का निजीकरण करना चाहेगी तो उसमें आसानी होगी। वहीं बैड बैंक के जरिए एनपीए यानी डूबत कर्ज को वसूल किया जा सकेगा। इसका लक्ष्य कई जटिल मुद्दो को सुलझाकर बैंकों को बिजनेस पर फोकस करने के लिए स्वतंत्र रखना है।

1980 में अमेरिका से हुई इसकी शुरुआत
अमेरिका में बैड बैंक 1980 के दशक में चालू हो गया था। भारी एनपीए के कारण वहां के कई बैंक डूबने की कगार पर पहुंच गए थे। तब इस बैंक का विचार आया। बाद में इस विचार को फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, पुर्तगाल जैसे देशों ने भी अपनाया।

 

यह भी देखे:-

किसान एकता संघ हुई दो फाड़, इन पदाधिकारियों ने संगठन छोड़ा
जी.डी.गोयनका पब्लिक स्कूल में अन्तर्सदनीय टेनिस प्रतियोगिता, टैगोर हाउस बना विजेता
Tokyo Paralympics: गोल्ड से सिर्फ एक कदम दूर डीएम सुहास इंजीनियरिंग के बाद ऐसे रखा खेलों के रास्ते ...
सोशल मीडिया फर्म के प्रतिनिधियों से IT मंत्री अश्विनी वैष्णव कर सकते हैं मुलाकात
नोएडा: राहगीरी कार्यक्रम चुनावगिरी में बदला, टूटे सभी रिकॉर्ड
यूपी: स्कूलों में नहीं होगी परीक्षा, कक्षा एक से आठ तक के छात्र असेसमेंट से होंगे प्रमोट
ग्रेनो प्राधिकरण ने तुस्याना में जमीन अतिक्रमण पर चलाया बुल्डोजर
यूपी बोर्ड परीक्षा की तारीखों की घोषणा, 24 अप्रैल से 10वीं व 12वीं की परीक्षा शुरू होगी
बंगाल चुनाव: ममता बनर्जी ने विपक्षी नेताओं को लिखी चिट्ठी, भाजपा के खिलाफ एकजुट होने की अपील
कोरोना संक्रमण की दर में गिरावट के बाद अब स्थगित स्पेशल ट्रेनों की होगी पुनर्बहाली, मिलेगी राहत
कई सारी बीमारियों से दूर रखने के साथ ही चेहरे पर भी चमक लाती है लॉफ्टर थेरेपी, होते हैं और भी फायदे
जिला उपभोक्ता फोरम ने एयरटेल पर लगाया जुर्माना
उत्तराखंड सांस्कृतिक समिति ग्रेटर नोएडा ने जरूरतमंद बच्चों को बांटे स्वेटर
ईंट से भरा ट्रैक्टर ट्रॉली पलटा, दो की मौत, चार घायल
किशोर के साथ कुकर्म ,पांच के खिलाफ कुकर्म का मामला दर्ज
फीस वृद्धि एंव मनमानी रोकने के लिए अभिभावकों को स्वंय आगे आना होगा : धीरेन्द्र सिंह