श्रीगणेश चतुर्थी महोत्सव , आइए जानते हैं गणेशजी की स्थापना से क्या क्या लाभ मिलता है

श्रीगणेश चतुर्थी महोत्सव पूरे देश में भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष चतुर्थी पर उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है। इस वर्ष श्री गणेशः चतुर्थी 10 सितम्बर 2021 शुक्रवार को मनाई जाएगी।

गणेश चतुर्थी 2021 की तिथि और मुहुर्त
10 सितंबर 2021 को गणेश चतुर्थी।
सुबह 11:03 से दोपहर 1:32 बजे तक मध्याह्न गणेश पूजा मुहूर्त।
10 सितंबर 2021 को दोपहर 12:18 बजे से चतुर्थी तिथि शुरू होगी।
10 सितंबर 2021 को रात 09:57 बजे चतुर्थी तिथि समाप्त होगी।
10 सितंबर 2021 को गणेश महोत्सव आरंभ होगा।
19 सितंबर 2021 को गणेश महोत्सव का समापन होगा।
19 सितंबर 2021 को गणेश विसर्जन किया जाएगा।

श्री गणेश विघ्न विनायक हैं। एक पल में सभी प्रकार की बाधाओं को दूर करता है। देवों के देव भगवान गणेश की पूजा पूरे भारत में हर घर में की जाती है। शायद ही कोई ऐसा घर हो जहाँ गणेश की मूर्ति स्थापित न हो! गणेश की नियमित पूजा घर और उसके सदस्यों को सुरक्षा प्रदान करती है। घर में व्याप्त अशुभ शक्तियों को नष्ट करके घर को धन और सुख से भर देता है। गणेश में लोगों की आस्था और विश्वास की प्रतिध्वनि वास्तु पर भी पड़ती है। गणेश की प्रतिमाओं और प्रतीकों का वास्तुदोष के निवारण में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। घर की पूजा और प्रसन्नता के उद्देश्य के अलावा, गणेश को घर में एक जगह स्थान दिया जाता हे । वास्तु दोष निवारन यंत्र के रूप में गणेश की स्थापना निश्चित रूप से अन्य वास्तु दोष निवारन यंत्रों की तुलना में अधिक लाभ देती है। आइए जानते हैं गणेशजी की स्थापना से क्या क्या लाभ मिलता है।*

*1. घर का मुख्य दरवाजा दक्षिण की ओर होना अशुभ माना जाता है। यदि दक्षिण मुखी द्वार में कोई दोष है, तो घर के मुख्य द्वार के अंदर और बाहर दोनों तरफ गणेश की मूर्ति रखकर इस दोष को दूर किया जाता है। सुनिश्चित करें कि मूर्ति बहुत बड़ी या बहुत छोटी नहीं है।*

*2. हम घर के मुख्य द्वार को मांगलिक अवसरों के सभी त्योहारों या समारोहों के दौरान तोरण लगाकर सजाते हैं। गणेश के साथ तोरण आजकल बाजार में उपलब्ध हैं। ऐसे तोरणों को स्थापित करने से घर का द्वार सजा होता है और साथ ही वस्तु के दोष भी समाप्त हो जाते हैं। जब घर का मुख्य द्वार साफ, सुथरा और सजा हुआ हो, तो उसमें प्रवेश करने वाली ऊर्जा भी शुभ और लाभकारी होती है। घर में खुशियां और सकारात्मकता लाती है।*

*3. यदि व्यापार में मंदी है, तो दुकान अच्छी तरह नहीं चल रही है या कारखाने में उत्पादन कम हो गया है, तो नियमित रूप से काम करने से पहले तांबे के पत्ते या पूजा की थाली पर प्रतिकृति स्वस्तिक के निशान को अंकित करके व्यापार की जगह पर गणेश की प्रतिकृति की पूजा करें। ऐसा करने से व्यापार में वृद्धि और समृद्धि आती है।*

*4. घर में गणेश जी की मूर्ति बेठी हुई अवस्था मे होनी चाहिए। वह सौभाग्य के दाता हैं। बरकत घर में बैठे गणेश की तस्वीर लगाने और आशीर्वाद देने से आती है। कार्यस्थल में खड़ी हुई गणेशजी की मूर्ति रखना। इससे कार्य में सक्रियता और उत्साह का माहौल बनता है। अन्य रूपों के चित्र कार्यस्थल में लगाए जा सकते हैं।*

*5. घर में गणेश जी के बाए हाथ की ओर मुड़ी हुई सूंड वाले गणेश की मूर्ति रखना अधिक शुभ होता है। ऐसी मूर्ति की पूजा करने से शीघ्र ही फल की प्राप्ति होती है। अपने दाहिने हाथ की ओर गणेशजी का फैला हुआ रूप विलंब से प्रसन्न होता है। उनकी साधना-आराधना भी कठिन है।*

*6. घर में स्थापित प्रतिमा 9 इंच से बड़ी नहीं होनी चाहिए। व्यावसायिक स्थान पर डेढ़ हाथ से बड़ी प्रतिमा नहीं लगानी चाहिए। किसी भी बड़ी मूर्ति को सार्वजनिक पूजा स्थल या मंदिर में रखा जा सकता है।*

*7. यदि घर में रोज जघड़ा या विवाद होता है, तो बांसुरी बजाते हुए गणेश जी की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए। बांसुरी बजाते हुए गणेश की पूजा करने से घर में सुख और शांति का वातावरण बनता है। हरे गणेश की पूजा से छात्रों को लाभ होता है। हाथी पर बैठे गणेश की पूजा करने से घर में धन आता है।*

*8. नए घर में जाते समय या एक लंबे श्वास के साथ बंद घर को खोलकर उसमें प्रवेश करते समय, मुख्य द्वार को खोलकर घर की ऊर्जा तरंगों को महसूस करने का प्रयास करें। यदि नकारात्मकता का अनुभव होता है, तो घर में दोष होने की संभावना है। ऐसे समय में गणेशजी हमारी सहायता के लिए आते हैं। घर के मुख्य द्वार के सामने लगभग 9 इंच की गणेश जी की मूर्ति स्थापित करें, मुख्य द्वार को देखते हुए। यह प्रतिमा आपको बुराई से बचाएगी।*

*9. नए घर में प्रवेश करते समय, घर की मुख्य लॉबी में लगभग 6 इंच ऊंची गणेश की मूर्ति को पूर्व की दीवार पर रखा जा सकता है। ऐसा करने से नए घर की ऊर्जा शुभ रहेगी और आपको किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना करने से गणेश जी बचा लेंगे। इस मूर्ति को पूजा के स्थान पर रखा जा सकता है यदि आप चाहते हैं कि घर की सभी चीजों को ठीक से व्यवस्थित किया जाए।*

*10. घर के ब्रह्मस्थान में, तुलसीजी के पौधे के साथ, गणेश की मूर्ति भी रखी जा सकती है। दोनों की पूजा करनी चाहिए । ऐसा करने से पूरे घर को सकारात्मक ऊर्जा मिलती है और घर में खुशियां भरती हैं। तुलसीजी का पौधा वास्तु दोष तो दूर करता ही है, बल्कि गणेश की प्रतिमा होने से इसका असर डबल हो जाता हे। एक वातावरण को शुद्ध करता है जबकि दूसरा घर में सकारात्मकता का विस्तार करता है।*

*11. वास्तु दोष निवारण यंत्र में स्वस्तिक का बहुत महत्व है। स्वस्तिक भगवान गणेश का प्रतीक है। स्वस्तिक भारत के अधिकांश घरों के मुख्य दरवाजों पर अंकित हैं। यह स्वस्तिक चिन्ह घर में शुभ ऊर्जा को आकर्षित करता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार, घर के मुख्य द्वार के दाईं और बाईं तरफ कांकू, हल्दी या लाल सिंदूर से स्वस्तिक का निशान बनाकर प्रवेश को और अधिक सकारात्मक बनाया जा सकता है।*

*12. निवास स्थान या व्यवसाय स्थल पर गणेश जी की एक से अधिक प्रतिमाओं को खड़ा करना वांछनीय नहीं है। वास्तु के अनुसार, घर या व्यवसाय के स्थान पर एक देवता की एक से अधिक मूर्तियां नहीं होनी चाहिए।*

*13. गणेश की मूर्ति या मूर्ति को प्रणाम करते समय पूजा करने वाले का चेहरा पूर्व या उत्तर की ओर रखना चाहिए। गणेश की प्रतिमा का मुख दक्षिण या पश्चिम की ओर होना चाहिए।*
*14. गणेश की मूर्ति को पूजाघर में रखते समय इस बात का ध्यान रखें कि मूर्ति को सीधे प्रवेश द्वार के सामने न रखें। यह भी ध्यान रखें कि मंदिर में रखी मूर्ति खंडित अवस्था में न हो। टूटी या खंडित मूर्ति को पानी में डुबो देना चाहिए। उसकी जगह एक नई मूर्ति स्थापित करना।*

*15. गणेश दक्षिणमुखी देवता हैं। दक्षिणमुखी देवता अशुभ शक्तियों के प्रतिनिधि हैं। इसलिए गणेश की पूजा करने से अशुभ शक्तियां घर छोड़कर चली जाती हैं।*

*16. लड्डू से भरी थाली, एक हाथी की आकृति, ओम आदि गणेश के प्रतीक हैं। हाथी की आकृति और ऊन का प्रतीक आमतौर पर हमारे घरों में उपयोग किया जाता है। इसमें अद्भुत शक्ति है। यह सनातन युवा और ऊर्जा का प्रतीक है। ओम् का उच्चारण वहाँ किया जा सकता है जहाँ कोई दोष उत्पन्न हुआ है। ऐसा करने से अपराधबोध दूर होता है और मन को शांति मिलती है।*

*17. घर में गणेश जी की मूर्ति या प्रतीक को परिवार के मृत सदस्यों के फोटो के साथ नहीं लगाना चाहिए।*

*18. घर के एक कमरे में गणेश जी की एक ही मूर्ति रखना। एक से अधिक प्रतिमा, चित्र, चित्र या प्रतीक का प्रयोग न करें। ऐसा करने से घर में अराजकता पैदा होती है। आमतौर पर पूजाघर में गणेश जी की मूर्ति को अध्ययन कक्ष में रखना शुभ होता है।*

*19. यदि आपका होटल व्यवसाय है और आप गणेश जी की मूर्ति स्थापित करना चाहते हैं, विश्राम करते हुए गणेश की मूर्ति लगानी चाहिए । इससे ग्राहकों में संतुष्टि का भाव मजबूत होता है। भोजन करने से ग्राहक संतुष्टि का अनुभव करता है।*

*20. यदि सिनेमा या मनोरंजन से जुड़ा कोई व्यवसाय है या संगीत या नृत्य कक्षाएं चलाने का व्यवसाय है, तो नृत्य मुद्रा में गणेश की मूर्ति स्थापित की जा सकती है। यह व्यवसाय को लाभ पहुंचाता है।*

*21. छोटे बच्चे जिनके पास खिलौनों या किताबों से संबंधित वस्तुओं का व्यवसाय है, वे गणेश की मूर्ति की तरह बच्चे बना सकते हैं। इस तरह से प्रत्येक व्यवसायी अपने व्यवसाय के अनुरूप छवि का चयन कर सकता है।*

*22. गणेश प्रतिमा, मूर्ति, चित्र या कैलेंडर को किसी भी घर, कार्यालय, दुकान या कारखाने में शौचालय के पास नहीं रखना चाहिए। एक दीवार जहा आगे पीछे शौचस्थान हे व्हा नहीं रखना हे। ऐसा करना गणेश जी का अपमान करना है।*

*23. घर की सीडीओ की दीवार पर गणेश प्रतिमा या चिन्ह नहीं लगाना चाहिए। जैसे ही हम सीढ़ियाँ चढ़ते हैं, गणेश नीचे चले जाते हैं। यह धार्मिक दृष्टि से अच्छी बात नहीं है।*

*24. गणेशजी को मोदक और उनका अपना वाहन मूषक बहुत पसंद है। गणेशजी के चित्र में मोदक या मूषक होना आवश्यक है।*

*25. घर, दफ्तर या शैक्षणिक स्थानों पर गणेश की मूर्ति रखने से न केवल वास्तु दोष दूर होता है, बल्कि यह हमारे चरित्र और व्यक्तित्व का निर्माण भी करता है। जैसे गणेश की छोटी आंखें हमें जीवन की हर चीज को विस्तार से देखना सिखाती हैं। इसलिए कभी भी विश्वासघात न करें। गणेश के कान बड़े हैं। बड़े कान अधिक सुनना सिखाते हैं। अगर कोई आपसे कुछ कहना चाहता है तो ध्यान से सुनें। गणेश के छिपे हुए मुख का अर्थ है संयम में बोलना। सब कुछ एक निश्चित सीमा के भीतर होना चाहिए। हद से ज्यादा नहीं। गणेश का लंबी सुढ़ दुश्मनों को दूर से सूँघकर सावधान रहना सिखाता है। बड़ा पेट हमें चीजों को पचाने के लिए सिखाता है और केवल वही बोलना चाहिए जो आवश्यक हो ।*

*गणेश जी को कभी भी विदा नहीं करना चाहिए क्योंकि विघ्न हरता ही अगर विदा हो गए तुम्हारे विघ्न कौन हरेगा।।*
*क्या कभी सोचा है गणेश प्रतिमा का विसर्जन क्यों? अधिकतर लोग एक दूसरे की देखा देखी गणेश जी की प्रतिमा स्थापित कर रहे हैं। और 3 या 5 या 7 या 11 दिन की पूजा के उपरांत उनका विसर्जन भी करेंगे।*
*आप सब से निवेदन है कि आप गणपति की स्थापना करें पर विसर्जन नही विसर्जन केवल महाराष्ट्र में ही होता हैं। क्योंकि गणपति वहाँ एक मेहमान बनकर गये थे। वहाँ लाल बाग के राजा कार्तिकेय ने अपने भाई गणेश जी को अपने यहाँ बुलाया और कुछ दिन वहाँ रहने का आग्रह किया था जितने दिन गणेश जी वहां रहे उतने दिन माता लक्ष्मी और उनकी पत्नी रिद्धि व सिद्धि वहीँ रही इनके रहने से लालबाग धन धान्य से परिपूर्ण हो गया। तो कार्तिकेय जी ने उतने दिन का गणेश जी को लालबाग का राजा मानकर सम्मान दिया यही पूजन गणपति उत्सव के रूप में मनाया जाने लगा।*
*अब रही बात देश की अन्य स्थानों की तो गणेश जी हमारे घर के मालिक हैं। और घर के मालिक को कभी विदा नही करते वहीँ अगर हम गणपति जी का विसर्जन करते हैं, तो उनके साथ लक्ष्मी जी व रिद्धि सिद्धि भी चली जायेगी तो जीवन मे बचा ही क्या। हम बड़े शौक से कहते हैं गणपति बाप्पा मोरया अगले बरस तू जल्दी आ इसका मतलब हमने एक वर्ष के लिए गणेश जी लक्ष्मी जी आदि को जबरदस्ती पानी मे बहा दिया। तो आप खुद सोचो कि आप किस प्रकार से नवरात्रि पूजा करोगे, किस प्रकार दीपावली पूजन करोगे और क्या किसी भी शुभ कार्य को करने का अधिकार रखते हो जब आपने उन्हें एक वर्ष के लिए भेज दिया।*
*इसलिए गणेश जी की स्थापना करें पर विसर्जन कभी न करे।*

*ऊँ एकदंताय नमो नमः।।*

 

☀ *।।जय माता दी ।।*☀
*।। ऊँ सर्वस्वरुपे सर्वेसे सर्व शक्ति समन्विते भवभ्यस्त्रहि नो देवी दुर्गेदेवी नमोस्तुते ।।*
🌹🍁🌀🌞🍁🌀🍁🌹 🏢 *कार्यालय* 🌻 *जगदम्बा ज्योतिष केन्द्र* 🌻 *पं.मूर्तिराम,आनन्द बर्द्धन नौटियाल ज्योतिषाचार्य* 🌻 *(देबी,नृसिंह उपासक गंगौत्रीधाम)* 🔰 *जन्मपत्री, वर्षफल, हस्तरेखा, वास्तुशास्त्र, नवग्रह रत्न, दुर्गापाठ,नवग्रहपाठ,महामृत्युंज्जंयपाठ,रुदाभिषेक,रामायण पाठ,भागवत कथा,सन्तान गोपालपाठ,कालसर्प दोष निवारण,गृह प्रवेश,सत्यनारायण कथा,जाप,पूजा,पाठ,कर्म काण्ड हेत्तु अवश्य सम्पर्क करें जी ।* 🏡 *पता – मकान नम्बर -C 38,प्रथ्म तल,ओमिक्रोन-3,EWS फ्लैट,ग्रेटर नोएडा,गौतम बुद्ध नगर,उत्तर प्रदेश* ☎ *+91 93 10 110 914* 🌐 *www.jagdambajyotish. in* *आप कार्यालय में आकर ज्योतिष परामर्श ले सकतें हैं जी समय प्रात: 9 से 1 बजे दिन एवं 4 से 7 बजे शांय तक,मिल सकतें हैं।कृपया आने से पहले अपना समय अवश्य निर्धारित कर लें जी।* 🦋💫 *आप से विन्रम निवेदन है की आप हमारे पेज को अवश्य Like @ Share अवश्य करें जी* 🌻🌻🌻🌻🌻🌻

 

 

ज्योतिषी और हस्तरेखाविद

नोट- अगर आप अपना भविष्य जानना चाहते हैं तो ऊपर दिए गए मोबाइल नंबर पर कॉल करके या व्हाट्स एप पर मैसेज भेजकर पहले शर्तें जान लेवें, इसी के बाद अपनी बर्थ डिटेल और हैंडप्रिंट्स भेजें।

यह भी देखे:-

Radhe को लेकर सलमान ख़ान का बड़ा एलान, Eid पर सिनेमाघरों के साथ इन प्लेटफॉर्म्स पर होगी रिलीज़
शारदा यूनिवर्सिटी मे छात्राओ को बाँटे गए हेलमेट
अश्लील फिल्मों से राज कुंद्रा हर रोज कमाते थे 6-8 लाख रुपये ?
बस-बे खत्म करेगा परी चौक पर ट्रैफिक जाम की समस्या
लखनऊ में कोरोना संग बढ़ा वायरल बुखार का प्रकोप, 200 नए मरीज, निजी अस्पतालों में बढ़ रही लगातार भीड़
पुलित्जर पुरस्कार विजेता भारतीय पत्रकार दानिश की तालिबान हमले मे मौत, कोरोना काल मे खींची थी सबसे दर...
लूट करने वाले शातिर इनामी बदमाश गिरफ्तार
भाजपा का जेवर मंडल में प्रशिशक्षण शिविर शुरू 
पंजाब में कोरोना: 31 मार्च तक स्कूल बंद, सिनेमाघरों-मॉल में भी पाबंदी, हर शनिवार रखेंगे एक घंटे मौन
पूर्व मंत्री रवि गौतम का निधन
अब 23 जुलाई को होगी किसानों की महापंचायत, आंदोलन को दिया जाएगा व्यापक रूप
जी.डी. गोयनका पब्लिक स्कूल में दीपोत्सव 
प्रधानमंत्री मोदी के परीक्षा पे चर्चा ' मे नही मिला जवाब, अपनी बारी की प्रतीक्षा मे रही "प्रतीक्षा"
ग्रेटर नोएडा : पुलिस एनकाउंटर में तीन डकैत घायल, लूट का माल बरामद
बरेली मंडल प्रभारी ने जिम का फीता काटकर किया उद्घाटन
कोरोना अपडेट: जानिए गौतमबुद्ध नगर का क्या है हाल