54 हजार एलईडी रोशनी से जगमग होंगी ग्रेनो की सड़कें

——————————-
-करीब 48 करोड़ रुपये में सूर्या रोशनी लिमिटेड को मिला जिम्मा

-एक साल में सोडियम की जगह लगेंगी नई एलईडी लाइटें का लक्ष्य
———————————–
ग्रेटर नोएडा। अब ग्रेटर नोएडा की सड़कें भी एलईडी की दुधिया रोशनी से जगमग हों सकेंगी। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने इस एलईडी स्ट्रीट लाइट परियोजना को अंतिम रूप दे दिया है। टेंडर के जरिए सूर्या रोशनी कंपनी को एलईडी लाइट लगाने का जिम्मा मिला है। कंपनी दिवाली के आसपास इस पर काम शुरू कर देगा। एक साल में 54 हजार स्ट्रीट लाइटें लगा दी जाएंगी।
ग्रेटर नोएडा के सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर एलईडी स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए प्राधिकरण ने टेंडर निकाला था। इसमें ज्वाइंट वेंचर के तहत तीन आवेदन आए थे। एक आवेदन यूपीआरएनएन और फिल्प्सि ने किया था। दूसरा आवेदन जेप्टेक व पॉलीकैब और तीसरा आवेदन सूर्या रोशनी लिमिटेड ने किया था। सूर्या ने सबसे कम कीमत पर काम करने के लिए बिड डाली, जिसके आधार पर सूर्या को टेंडर मिला। उसे प्राधिकरण से बहुत जल्द वर्क अवार्ड हो जाएगा। सूर्या कंपनी दिवाली के आसपास इस परियोजना पर काम शुरू कर देगी। दरअसल, ग्रेटर नोएडा में करीब 54 हजार स्ट्रीट लाइटें लगी हुई हैं। इनमें सोडियम लाइटें भी हैं। इन सभी को बदलकर एलईडी में कनवर्ट किया जाएगा। एक साल में सभी स्ट्रीट लाइटें बदल दी जाएंगी। इसके साथ ही सात साल तक इन एलईडी लाइटों के रखरखाव का जिम्मा भी कंपनी पर होगा।
—————–
स्ट्रीट लाइटें खराब हुईं तो जल्द रिपेयर हो सकेंगी
—————————————————-
एलईडी लाइटों के लग जाने से सड़कों पर रोशनी तो बेहतर होगी ही, लोगों के लिए भी सुविधाजनक हो जाएगी। एलईडी स्ट्रीट लाइटें ऑटोमेशन सिस्टम पर लगेंगी। स्ट्रीट लाइटों को सुबह-शाम समय से जलाने-बुझाने के लिए एक नियंत्रण कक्ष होगा। स्ट्रीट लाइटें ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के जीआईएस से जुड़ी होंगी, जिससे स्ट्रीट लाइट न जलने की सूचना ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण तक पहुंच जाएगी। सीनियर अफसर भी इस पर नजर रखेंगे। ऐसे में अगर कहीं पर स्ट्रीट लाइट नहीं जल रही है तो सूचना मिलते ही कंपनी उसे रिपेयर करा देगी। प्राधिकरण ने रिपेयर करने के लिए समयसीमा भी तय कर दी है। अगर रिपेयर करने में देरी हुई तो पेनल्टी का भी प्रावधान है। ऐसे में शहरवासियों को बेहतर सर्विस भी मिल सकेगी।
—————–
ऊर्जा भी बचेगी, बिल भी कम आएगा
-एलईडी स्ट्रीट लाइट लगने से देश की ऊर्जा भी बचेगी और बिजली का बिल भी आएगा। वर्तमान में लगी स्ट्रीट लाइटों से साल भर में करीब 30 मिलियन यूनिट बिजली खर्च होती है। एलईडी लग जाने से 15 मिलियन यूनिट ही खर्च होने का आकलन है। इस तरह पहले के मुकाबले आधी बिजली में ही ग्रेटर नोएडा की सड़कें रोशन रहेंगी। दूसरे, साल भर में करीब 30 करोड़ रुपये बिजली का बिल आता है। उसकी भी बचत होगी, क्योंकि बिजली की खपत कम होने से बिल भी कम आएगा। करीब 15 करोड़ रुपये ही बिल आने का आकलन है। इस तरह करीब 15 करोड़ रुपये की बचत भी होगी। इसके अलावा रखरखाव पर भी कम खर्च आएगा।
—————
सीईओ का बयान
——————–
-एलईडी लाइटों के लगने से सड़कों पर रोशनी भी बढ़ेगी और ऊर्जा व पैसे की बचत भी होगी। इस पर दिवाली के आसपास काम शुरू हो जाएगा। एक साल में पूरा करने के निर्देश कंपनी को दिए गए हैं।

नरेंद्र भूषण, सीईओ, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण

यह भी देखे:-

कोरोना संकट, पीएम मोदी हालात की समीक्षा के लिए कल करेंगे ताबड़तोड़ बैठकें, रद किया बंगाल का दौरा
यूपी: जनसंख्या विधेयक 2021 का ड्राफ्ट तैयार, दो से ज्यादा बच्चे होने पर नहीं मिलेगा इन सुविधाओं का ल...
किसान एकता संघ ने किया संगठन का विस्तार
स्वतंत्रता के उपलक्ष्य पर जी. डी. गोयनका पब्लिक स्कूल में स्पेशल अंसेबली 
कविता: वक़्त अब बदल गया,बचपन कहि पीछे छूट गया
ग्रेनो में इंडिया इंटरनेशनल हॉस्पिटैलिटी एक्सपो (आईएचई) 3 अगस्त से    
गाँधी-शास्त्री जयंती पर एसएसपी डॉ. अजयपाल शर्मा ने पुलिसकर्मियों को कर्तव्य एवं स्वच्छता की शपथ दिला...
UP BEd JEE 2021: उत्तर प्रदेश बीएड प्रवेश परीक्षा स्थगित, कोविड-19 को देखते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय न...
विकास भवन में बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर नुक्कड़ नाटक
केरल में बकरीद पर छूट: आईएमए ने दी चेतावनी, सिंघवी बोले-अगर कांवड़ यात्रा गलत है, तो यहां ढील क्यों?
जिला प्रभारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने की विकास की समीक्षा, शराब के अंकित मूल्य से ज्यादा वसूलने पर ...
अजीत सिंह की हत्या की साजिश रचने के आरोपित पूर्व सांसद बाहुबली धनंजय सिंह ने प्रयागराज में आत्मसमर्प...
कोरोना की दूसरी लहर ने कितने लोगों को किया बेरोजगार, जानिए हैरान कर देने वाला ये आंकड़ा
सुन्दर भाटी  के भतीजे ने किया सरेंडर , पढ़ें पूरी खबर 
यूएफओ रिपोर्ट: अंतरिक्ष में दिखने वाली 144 वस्तुओं में से सिर्फ एक की हो सकी पहचान, अमेरिका का बड़ा ...
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण कर्मचारीयों के विभाग बदले गए