हुंकार भर रहे पंजशीर घाटी के शेर, चार दिन में उड़े तालिबान के होश

काबुल, एजेंसियां। अफगानिस्‍तान में प्रतिरोध का केंद्र बनी पंजशीर घाटी को तालिबान आतंकि‍यों से बचाने के लिए अहमद मसूद के नेतृत्‍व में नौ हजार विद्रोहियों ने मोर्चा संभाला हुआ है। पंजशीर में नॉर्दन अलाइंस और तालिबान के बीच अभी भी जबरदस्त लड़ाई जारी है। पंजशीर घाटी की पहाड़ी चोटि‍यों पर मसूद के जवानों ने हैवी मशीन गन तैनात कर दिए हैं, जिससे तालिबानियों का शिकार किया जा सके। इसके अलावा मोर्टार और निगरानी चौकी भी बनाई गई है। खबर ये है कि वहां सैकड़ों तालिबान लड़ाकों को मार गिराया गया है या उन्‍हें बंधक बना लिया गया है। तालिबान ने पंजशीर घाटी को तीन तरफ से घेरने का दावा किया है। उसका कहना है कि हमने पंजशीर की रसद और अन्‍य सामानों की सप्‍लाई लाइन काट दी है।

घाटी में घुसने का रास्‍ता बहुत ही संकरा

रणनीतिक रूप से बेहद अहम पंजशीर घाटी में मूल रूप से ताजिक मूल के लोग रहते हैं। अत्‍यधिक ऊंची ऊंची पहाड़ियों की वजह ये घाटी पंजशीर के जवानों को प्राकृतिक सुरक्षा मुहैया कराती है। साथ ही इस घाटी में घुसने का रास्‍ता बहुत ही संकरा है। अहमद मसूद ने पिछले हफ्ते वॉशिंगटन पोस्‍ट में लिखा था, ‘अगर तालिबान के लोग हम पर हमला करते हैं तो उन्‍हें हमारी ओर करारा जवाब मिलेगा।

पंजशीर के नेताओं ने दिया जवाब

पंजशीर के नेताओं का कहना है कि वो किसी कीमत पर तालिबान आतंकियों के सामने हथियार नहीं डालेंगे और ये जंग जारी रहेगी। पंजशीर की बर्फ से ढंकी चोटियों के बीच में ये जवान राजधानी काबुल से मात्र 80 किमी दूर तालिबान से मोर्चा ले रहे हैं। अहमद मसूद के पिता अहमद शाह मसूद की गिनती कभी पंजशीर के सबसे बड़े वार लड़ाके में होती थी, जिन्होंने अपने जीते जी कभी तालिबान और सोवियत संघ को पंजशीर के पास भी आने नहीं दिया। यहां तक कि जब पिछली बार तालिबान अफगानिस्तान पर काबिज था, तब भी वो पंजशीर को नहीं जीत सका।

हमले में हुई सैकड़ों तालिबानियों की मौत

असल में पंजशीर को कब्जे में लेने के लिए तालिबान के लड़ाके बगलान सूबे के अंद्राब घाटी से आगे बढ़ रहे थे, लेकिन पंजशीर के जवानों ने घात लगा कर इन तालिबानियों पर तेज तर्रार हमला बोला। इस हमले में तालिबानियों को संभलने का मौका नहीं मिला और सैकड़ों तालिबानियों की जान चली गई। नॉर्दन अलायंस के जवानों ने काफी तालिबानियों को बंधक भी बना लिया।

तालिबान ने पंजशीर पर कब्‍जे के लिए लड़ाकों को भेजा

पिछले दिनों तालिबान ने ऐलान किया था कि उसने पंजशीर पर कब्‍जे के लिए हजारों लड़ाकुओं को भेजा है। हालांकि अभी दोनों ही पक्षों के बीच बातचीत का दौर जारी है। मसूद ने कहा कि वो तालिबान से बातचीत के लिए तैयार हैं, लेकिन अगर तालिबान ने बंदूक के बल पर पंजशीर को झुकाने की कोशिश की तो उसे इस हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। पंजशीर के विद्रोहियों में नौ हजार जवान शामिल हैं, जो स्‍थानीय मिलि‍शिया और अफगान सेना के पूर्व जवान हैं।

यह भी देखे:-

54 हजार एलईडी रोशनी से जगमग होंगी ग्रेनो की सड़कें
बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, शिक्षा स्वास्थ्य आदि मुद्दों को लेकर माकपा ने किया नगर मजिस्ट्रेट कार्यालय ...
पीएम मोदी का काशी दौरा: बाबतपुर से रिंग रोड तक रहेगा उत्सव का माहौल, कल पहुंचेंगे सीएम योगी
मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले दो तस्कर गिरफ्तार, 42 किलो गांजा बरामद, पकड़े गए नशीले पदार्थ का मू...
पेंशन को रखा जाए Income Tax के दायरे से बाहर- भारतीय पेंशनर्स मंच
दिल्ली-चंडीगढ़ राजमार्ग बना देश का पहला इलेक्ट्रिक वाहन-फ्रेंडली हाईवे
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेनो ने जिला जेल में लगाया निशुल्क नेत्र जांच शिविर, बंदियों को नि: शुल्क वितरित ...
डूसू चुनाव में एबीवीपी ने लहराया परचम
एकेटीयू: बीटेक व अन्य कोर्सों की प्रवेश काउंसलिंग कल से, यूपीसीईटी की वेबसाइट पर कर सकेंगे रजिस्ट्रे...
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे : सीएम योगी बोले, अगले महीने कभी भी लोकार्पण, नवंबर से कानपुर और आगरा मेट्रो ...
रामविलास पासवान और तरुण गोगोई को मरणोपरांत मिला पद्म भूषण, सुमित्रा महाजन को भी किया गया सम्मानित
डेल्टा प्लस वैरिएंट: 24 घंटों में मिले 40,120 नए कोरोना संक्रमित, एक की मौत
सिटी हार्ट अकादमी स्कूल में मनाई गई गांधी -शास्त्री जयंती
मुंबई अभिनेता राजीव कपूर का हार्ट अटैक से निधन
Atal Pension Yojana: 3 करोड़ से अधिक हुई सब्सक्राइबर की संख्या, इस साल खुले 28 लाख से ज्यादा नए अकाउ...
अखिल भारतीय फार्मासिस्ट एसोसिएशन ने मनाया वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे ।