साम्प्रदायिक नारेबाजी मामले को लेकर एक्शन में दिल्ली पुलिस, अश्विनी उपाध्याय समेत 6 गिरफ्तार

राजधानी दिल्ली स्थित जंतर मंतर में भड़काऊ नारेबाजी के आरोप में दिल्ली पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। इस मामले में अश्विनी उपाध्याय समेत अन्य 6 को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इससे पहले दिल्ली पुलिस इनसे पूछताछ कर रही थी।

पुलिस के मुताबिक सभी छह लोगों- अश्विनी उपाध्याय, विनोद शर्मा, दीपक सिंह, विनीत क्रांति, प्रीत सिंह, दीपक को गिरफ्तार किया गया है। दिल्ली पुलिस ने कहा था  कि 8 अगस्त की घटना में शामिल अश्विनी उपाध्याय और अन्य को गिरफ्तार किया जाएगा। दिल्ली पुलिस ने कहा था कि वह कानून के अनुसार मामले को संभाल रही है और किसी भी तरह की सांप्रदायिक विद्वेष को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पुलिस ने सुबह जानकारी दी थी कि बताया कि रविवार को जंतर-मंतर के पास भड़काऊ नारेबाजी के मामले में अश्विनी उपाध्याय समेत 6 लोगों से पूछताछ चल रही है।

बता दें कि सोशल मीडिया में बीते दो दिनों से एक वीडियो काफी प्रसारित हो रहा है जिसमें जंतर-मंतर पर प्रदर्शन के दौरान मुस्लिम विरोधी नारेबाजी हो रही है। वीडियो में एक समूह जंतर मंतर पर प्रदर्शन के दौरान भड़काऊ नारेबाजी और मुस्लिमों को धमकी देते हुए नजर आ रहा है। वीडियो को लेकर  दिल्ली पुलिस ने सोमवार को मामला भी दर्ज किया। जंतर-मंतर पर रविवार को भारत जोड़ो आंदोलन द्वारा आयोजित प्रदर्शन में सैकड़ों लोग शामिल हुए थे। भारत जोड़ो आंदोलन की मीडिया प्रभारी शिप्रा श्रीवास्तव ने कहा कि वकील और पूर्व भाजपा प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय की अगुवाई में प्रदर्शन हुआ था। हालांकि उन्होंने मुसलमान विरोधी नारेबाजी करने वालों से उन्होंने किसी तरह के संबंध से इनकार किया है। श्रीवास्तव ने कहा, ‘यह प्रदर्शन औपनिवेशिक कानूनों के विरुद्ध हुआ था और इस दौरान 222 ब्रिटिश कानूनों को निरस्त करने की मांग की गई। हमने वीडियो देखा है, मगर कोई जानकारी नहीं है कि वे कौन थे। पुलिस को नारा लगाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।’

उपाध्याय ने भी मुस्लिम विरोधी नारेबाजी की घटना में किसी प्रकार की संलिप्तता से इनकार किया है। उन्होंने कहा, ‘मैंने वायरल हो रहे वीडियो की जांच के लिये दिल्ली पुलिस को एक शिकायत दी है। यदि वीडियो प्रमाणिक है तो इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे कोई जानकारी नहीं है कि वे कौन हैं। मैंने उन्हें पहले कभी नहीं देखा, कभी उनसे मिला नहीं हूं और न ही उन्हें वहां बुलाया था। जब तक मैं वहां था, वे वहां नहीं दिखे। यदि वीडियो फर्जी है, तो भारत जोड़ो आंदोलन को बदनाम करने के लिये झूठा प्रचार किया जा रहा है।’

यह भी देखे:-

हर दिन कोरोना के रिकॉर्ड नए मामले, सैकड़ों मौतें...आज महराष्ट्र में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान कर सकते ...
प्रभार संभालते ही ग्रेनो प्राधिकरण के सीईओ सुरेंद्र सिंह का तूफानी दौरा, दिए आवश्यक दिशा-निर्देश, प...
कोरोना महामारी के चलते संगीतकार श्रवण का हुआ निधन, फैंस ने जताया दुख
भाजपा बिसरख मण्डल ने बड़े स्तर पर चलाया स्वच्छता मिशन
कार बैक करते हुए बच्ची कुचली , दर्दनाक मौत
दरयाव आदर्श वन्स शिक्षा समिति द्वारा गर्म कपडे व पाठ्य सामग्री का वितरण  
India Covid Cases: पिछले 24 घंटे में 44 हजार से ज्यादा मामले हुए दर्ज, 555 मौतें भी हुई
सीएम योगी आदित्यानाथ ने लगवाई कोरोना वैक्सीन की पहली डोज
दिवाली के उपलक्ष्य में रोशनी से नहाया ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण का दफ्तर।
अयोध्या : पीएम मोदी ने की समीक्षा बैठक, श्रीराम की नगरी के विकास कार्यों में जन भागीदारी का किया आह्...
नवरत्न के प्रथम महिला प्रौढ़ नि:शुल्क शिक्षा केन्द्र हुआ प्रारम्भ
आत्मनिर्भर नारी शक्ति : PM मोदी आज करेंगे कृषि सखी चंपा सिंह से बात
बंगाल में आज तीसरे चरण का मतदान, 205 उम्मीदवारों की किस्मत का होगा फैसला
केक काटकर आर्ट ऑफ़ लिविंग संस्था ने मनाया पैराओलिम्पियन डीएम सुहास एल वाई के जीत का जश्न
दो दिन बैंक कर्मियों की हड़ताल से बढ़ सकती है परेशानी
नए अविष्कारों के प्रदर्शन के साथ LED EXPO 2018 का हुआ समापन