सांसदों-विधायकों के खिलाफ मामला हाईकोर्ट की मंजूरी के बगैर वापस नहीं होगा – सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को राजनीतिक पार्टियों के उम्मीदवारों के अपराधीकरण से जुड़े एक मामले में बड़ा फैसला सुनाया है। इसके तहत अब सभी राजनीतिक पार्टियों को उम्मीदवारों के एलान के 48 घंटे के भीतर मुकदमों की जानकारी जारी करनी होगी। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया है कि सांसदों और विधायकों के खिलाफ कोई आपराधिक मामला संबंधित हाईकोर्ट की मंजूरी के बगैर वापस नहीं लिया जा सकता है। शीर्ष अदालत के इस फैसले का उद्देश्य राजनीति में अपराधीकरण को कम करना है। जस्टिस आरएफ नरीमन और बीआर गवई की पीठ ने इस संबंध में अपने 13 फरवरी, 2020 के फैसले में निर्देश को संशोधित किया है। बता दें कि पीठ बिहार विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास को प्रकाशित करने में विफलता का आरोप लगाते हुए दायर अवमानना याचिकाओं में अपना फैसला सुना रही थी।

गौरतलब है कि फरवरी 2020 के फैसले के पैरा 4.4 में, सुप्रीम कोर्ट ने सभी राजनीतिक पार्टियों को आदेश दिया था कि उम्मीदवारों के चयन के 48 घंटों के भीतर या नामांकन दाखिल करने की पहली तारीख से कम से कम दो सप्ताह पहले उनका विवरण प्रकाशित करना होगा। लेकिन आज के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया है कि राजनीतिक पार्टियों को उम्मीदवारों के एलान के 48 घंटे के भीतर मुकदमों की जानकारी देनी होगी।

चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से की सख्त कदम उठाने की मांग
सुनवाई के दौरान चुनाव आयोग ने सुप्रीम कोर्ट से अपील करते हुए कहा कि उम्मीदवारों के आपराधिक इतिहास का खुलासा नहीं करने वाली पार्टियों के चुनाव चिन्ह को फ्रीज या निलंबित रखा जाए। आयोग ने यह सुझाव सुप्रीम कोर्ट के पुराने आदेश का उल्लंघन के मामले में दिया है।

 

यह भी देखे:-

कोरोना संक्रमण के कारण भारत-नेपाल सीमा फ‍िर सील, बॉर्डर से वापस किए जा रहे लोग
दिल्ली-यूपी, हरियाणा और मुंबई में बढ़ रहा प्रदूषण, जानिए कहां है सबसे ज्यादा खराब हवा
18वां इंडिया फ़ैशन जूलरी और एक्सेसरीज मेला 24 जून से
CMAI के नॉर्थ इंडिया गारमेंट फेयर 2023 में 500 करोड़ रुपये का हुआ कारोबार, उत्तर भारत में एमएसएमई अप...
चुनौती: महाराष्ट्र में मिला वायरस का डेल्टा प्लस वैरिएंट, इम्युनिटी को दे सकता है धोखा
Arvind Kejriwal in Ayodhya: दिल्ली के सीएम ने हनुमानगढ़ी मंदिर में की पूजा-अर्चना, बोले- हर किसी को ...
भारत का झंडा दिल्ली में नहीं तो क्या इस्लामाबाद में लहराएगा? भड़के अरविंद केजरीवाल का सवाल
ग्रेटर नोएडा: सावित्री बाई फुले बालिका इंटर कॉलेज में ओयस्का इंटरनेशनल द्वारा विद्यालय का भ्रमण
जी. एल. बजाज संस्थान में पीजीडीएम छात्रों के दीक्षांत समारोह का सफल आयोजन, शैक्षणिक उत्कृष्टता के ...
7X वेलफेयर टीम का नॉन आईएसआई हेलमेट हटाओ और ट्रैफ़िक नियमों के प्रति जागरुकता अभियान
जातिगत आरक्षण के खिलाफ भारत बंद का दिखा आंशिक असर
रोटरी क्लब ग्रीन ग्रेटर नोएडा द्वारा दीपावली मिलन समारोह हुआ सम्पन्न
दहेज के खिलाफ जागरूकता अभियान शुरू ,अहमदाबाद की आयशा मामले ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है
ग्रेटर नोएडा : “वर्ल्ड ओरल हेल्थ डे” का आयोजन
गौतबुद्ध नगर जिले की Updated Containment Zones
दिल्ली में सोनिया गांधी, शरद पवार समेत कई नेताओं से मिलेंगी ममता बनर्जी, करेंगी 2024 पर मंथन