बाघ दिवस पर विशेष: कार्बेट पार्क में 250 हुई बाघों की संख्या, पढ़िए 48 सालों में कब-कब क्या हुआ

आज बाघ दिवस के मौके पर जहां इनकी बढ़ती संख्या मन को तसल्ली दे रही है, वहीं लगातार बढ़ते मौत और शिकार के मामले चिंता बढ़ाते हैं। संख्या के लिहाज से देखा जाए तो प्रकृति ने एक मौका दिया है, कार्बेट पार्क और अमानगढ़ वन रेंज में बाघों की संख्या 250 तक पहुंच गई है। बाघों को लेकर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही पहलुओं पर चर्चा करने और संरक्षण को कागजों से धरातल पर उतारने की जरूरत है। बिजनौर से रजनीश त्यागी और कालागढ़ से अथहर महमूद सिद्दीकी की रिपोर्ट।

 

बिजनौर के कालागढ़ में कार्बेट टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या 250 पर पहुंच गई। 48 साल पहले कार्बेट नेशनल पार्क में बाध परियोजना की शुरुआत की गई थी। बाघों के संरक्षण के लिए राष्ट्रीय बाघ प्राधिकरण की गाइडलाइन मील का पत्थर साबित हुई है।

 

1972 में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के बनने के बाद कार्बेट टाइगर रिजर्व में एक अप्रैल 1973 को बाघ परियोजना की शुरुआत की गई थी। सबसे पहले नेशनल पार्क के ढिकाला जोन में इसको लागू किया गया था। उस समय पूरे देश में मात्र 268 बाघ ही मौजूद थे। वर्तमान में अकेले कार्बेट टाइगर रिजर्व में 250 बाघ मौजूद होने का दावा वन विभाग के अधिकारी करते हैं। बाघों के संरक्षण के लिए चलाई जा रही बाघ परियोजना को गति राष्ट्रीय बाघ प्राधिकरण से मिले दिशा-निर्देशों से मिली। कार्बेट टाइगर रिजर्व में बाघों के संरक्षण के लिए हुए काम के कारण यहां समृद्ध वन एवं उनमें मौजूद शाकाहारी जीव बाघों के अस्तित्व के लिए खास हैं।

रामगंगा नदी है लाइफ लाइन
कार्बेट टाइगर रिजर्व के बीच से होकर गुजरती रामगंगा नदी वन्यजीवों के लिए लाइफ लाइन है। बाघ को कालागढ़ से ढिकाला तक पर्याप्त जल इस नदी से मिल जाता है। रामगंगा नदी की घाटी व शिवालिक की पहाड़ियों में बाघों का विचरण आम है। यहां कालागढ़ से रामगंगा बांध व कालागढ़ से सैंडिल बांध व नई कॉलोनी, केंद्रीय कॉलोनी तक बाघों का विचरण होता है। जिम कार्बेट टाइगर रिजर्व के वार्डन रमाकांत तिवारी का कहना है कि बाघ परियोजना से बाघों के संरक्षण को गति मिली है। यहां बाघों का संरक्षण बनाए रखना एक बड़ी चुनौती है। अब यहां 250 से अधिक बाघ मौजूद हैं। सुरक्षा व पर्यावरण उनके अनुकूल है। रायल बंगाल टाइगर को यहां का प्राकृतावास भा गया है।

सुरक्षा के सभी इंतजाम
कालागढ़ के उपखंड अधिकारी कुंदन सिंह खाती का कहना है कि जिम कार्बेट में सबसे अधिक बाघ कालागढ़ के जंगलों में हैं। इनकी सुरक्षा के लिए गश्ती दलों के अलावा उच्च स्तरीय तकनीक का भी सहारा लिया जा रहा है। वन ई-सर्विलांस पर हैं। कैमरों से वनों के रास्तों आदि पर निगाह रखी जा रही है। वहीं, वन्यजीव प्रेमी वीरेंद्र कुमार अग्रवाल, दीपक कुमार, सैदबिन सैफी आदि का कहना है कि बाघों के विचरण में सिकृड़ते प्राकृतावास समस्या बन सकते हैं। वनक्षेत्रों का संरक्षण आज बड़ी आवश्यकता है।
अमानगढ़ में भी 27 हो चुकी है बाघों की संख्या
बिजनौर। जिले के अमानगढ़ में बाघों की संख्या लगातार बढ़ रही है। अमानगढ़ में बाघों की संख्या में पिछले कुछ सालों में इजाफा हुआ है। एक दशक पहले तक अमानगढ़ में 15 बाघ ही थे। इस साल हुई गणना में इनकी संख्या बढ़कर 27 हो चुकी है। अमानगढ़ में शावकों को उनकी मां के साथ भी समय-समय पर देखा जा रहा है। बाघ प्रजनन करते हैं तो मां ही बच्चों को पालती है। सुरक्षित परिवेश मिलने और इंसानी दखल न होने से अमानगढ़ में बाघों की संख्या बढ़ी है।

2012 में दिसंबर में हुई थी दो बाघों की हत्या
अमानगढ़ वन रेंज में वर्ष 2012 में 13 दिसंबर की रात शिकारियों ने दो बाघों को खटके में फंसा लिया था। उनकी खाल आसानी से उतार ली जाए, इसके लिए इन बाघों को डंडे से पीटा गया। बाद में पुलिस और वन विभाग की टीम ने इन शिकारियों को पकड़ लिया। हालांकि इस घटनाक्रम में एक बाघिन शिकारियों के डर से अमानगढ़ छोड़कर मुरादाबाद के कांठ क्षेत्र तक पहुंच गई थी। जिसने वापस अमानगढ़ लौटते समय करीब 18 लोगों की जान ली थी। माना जाता है कि यह बाघिन उसी झुंड का हिस्सा थी, जिसके दो बाघों को शिकारियों ने मार दिया था।

बाघों के लिए श्राप संसारचंद का गैंग
ट्रैफिक इंडिया के डायरेक्टर साकेत बडोला कहते हैं कि संसारचंद नाम बाघों के लिए श्राप से कम नहीं है। हालांकि काफी समय पहले संसारचंद की मौत हो चुकी है, लेकिन उसकी पत्नी समेत उसका गैंग आज भी बाघों के शिकार में सक्रिय माना जाता है, जो वाइल्ड लाइफ क्राइम कंट्रोल ब्यूरो की मोस्ट वांटेड लिस्ट में भी शामिल है। माना जाता है कि सरिस्का सेंक्चुअरी से बाघों के विलुप्त होने के पीछे संसारचंद का गैंग ही था। एक समय में सरिस्का सेंक्चुअरी बाघ विहीन हो गई थी। बाद में वहां बाघ को पुनर्स्थापित किया गया। इसी तरह यह गैंग जिम कार्बेट पार्क, राजा जी पार्क, दुधवा समेत तमाम बाघ बाहुल्य क्षेत्रों में सक्रिय रहता है।

 

 

यह भी देखे:-

अच्छे दिन के खुवाब में लोगो को ट्रेन यात्रा भी नसीब नहीं
प्रदेश में अपराध नियंत्रण का काफी बुरा हाल -मायावती, बसपा अध्यक्ष, कानून व्यवस्था पर उठाए सवाल
कोवैक्‍सीन के मुकाबले कोवीशील्‍ड शरीर में बनाती है अधिक एंटीबॉडीज, शोध में हुआ खुलासा
IPPB मोबाइल एप से खोल सकते हैं पोस्ट ऑफिस डिजिटल बचत खाता, जानिए स्टेप बाय स्टेप प्रॉसेस
जानिए एनसीआर की कोराेना गाइडलाइन: दिल्ली के बाद अब नोएडा और गाजियाबाद में नाइट कर्फ्यू की तैयारी?
नोएडा/ गौतमबुद्ध नगर में COVID के कारण कोई मौत नहीं : सीएमओ
धमकी: '14 अगस्त तक मुजाहिदों को छोड़ दो, वरना ..............................अंजाम भुगतने के लिए तैया...
KBC 13: 1 करोड़ के सवाल पर पहुंचीं दृष्टिहीन महिला कंटेस्टेंट
उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का धरना , फेसबुक लाइव के जर...
किसान एकता संघ ने सौंपा यमुना प्राधिकरण के सीईओ को ज्ञापन
लाखों की अवैध शराब से लदा ट्रक पकड़ा
दो पुलिसकर्मी हुए लाइन हाज़िर , जानिए क्यों
नितिन गडकरी: देश में हाईवे निर्माण की गति रिकॉर्ड 37 किमी रोजाना हुई
Dilip Kumar के साथ अनिल कपूर ने कीं करियर की तीन आइकॉनिक फ़िल्में, भावुक नोट लिख किया याद
बड़ी कार्यवाही : लेबर सेस जमा नहीं कराने पर आम्रपाली ग्रुप दो अधिकारी अरेस्ट
ग्रेनो के स्केटर्स का हरियाणा में शानदार प्रदर्शन, कायम किया कीर्तिमान