सुप्रीम कोर्ट : 20 साल से अलग पति-पत्नी आए साथ, जानें क्‍या है पूरा मामला

नई दिल्ली, प्रेट्र। 20 साल चली कानूनी लड़ाई में फंसे पति-पत्नी को बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने वापस रिश्ते में बांधने की दिशा में बड़ी पहल की। आंध्र प्रदेश के इस जोड़े के बीच कानूनी लड़ाई 2001 में दहेज उत्पीड़न के मामले को लेकर शुरू हुई थी। पति को मिली एक साल के कारावास की सजा को बढ़वाने के लिए पत्नी शीर्ष न्यायालय में आई थी। लेकिन मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने खुद मामले में रुचि लेते हुए वह स्थितियां बना दीं कि अलग रह रहे पति-पत्नी साथ रहने के लिए तैयार हो गए। कोर्ट ने उन्हें दो हफ्ते में इस आशय के शपथ पत्र देने के लिए कहा है।

दहेज उत्पीड़न के मामले में पत्नी आई थी पति की सजा बढ़वाने

पति की सजा बढ़वाने के लिए सुप्रीम कोर्ट आई महिला की अर्जी पर बुधवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई हो रही थी। इस दौरान महिला कोर्ट की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी में अपनी बात कहने में सक्षम नहीं थी, इसलिए वह तेलुगु में अपनी बात कह रही थी। इस पर तेलुगु के जानकार मुख्य न्यायाधीश रमना ने महिला की मांग को समझते हुए उसके बारे में साथी जस्टिस सूर्यकांत को बताया। इसके बाद जस्टिस रमना ने महिला से कहा कि अगर उसका पति लंबे समय के लिए जेल चला गया तो वह अपनी नौकरी खो देगा। इससे उसे (महिला को) हर माह मिलने वाला गुजारा भत्ता भी नहीं मिल पाएगा।

बेटे के साथ पति के साथ फिर से रहने के लिए तैयार हो गई महिला

मुख्य न्यायाधीश की बात को ध्यान से सुनकर महिला ने समझा और वह अपने इकलौते बेटे के साथ पति के साथ फिर से रहने के लिए तैयार हो गई। पति भी पुरानी बातों को भुलाते हुए साथ रहने के लिए तैयार हो गया। पति गुंटूर जिले में सरकारी सेवा में है। इस जोड़े की शादी 1998 में हुई थी। कुछ दिन बाद ही दोनों के बीच विवाद शुरू हो गया। 2001 में महिला ने दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज करा दिया। मामले में पति को एक साल की सजा हुई, जिसे वह मुकदमा दर्ज होने के बाद काट चुका है। उल्लेखनीय है कि आंध्र प्रदेश में दहेज उत्पीड़न के मामले में पति-पत्नी के बीच समझौता संभव हैं।

यह भी देखे:-

पकिस्तान के नंबर से विधायक को मिली जान से मारने की धमकी , जांच में जुटी पुलिस 
GIMS ग्रेटर नोएडा के डाक्टरों के अथक प्रयास से एक और कोरोना मरीज स्वस्थ, जानिए कैसे किया उपचार
यूपी: मायावती बोलीं- सड़कों की खस्ताहाली पर ध्यान दे योगी सरकार, आम जनजीवन है बेहाल
उत्तर प्रदेश के इन शहरों में 50 फ़ीसदी लोगों के लिए वर्क फ्रॉम  होम लागू
कार ने बाइक सवार तीन युवकों को मारी टक्कर, एक की मौत
Corona update : घट रहे है कोविड के मरीज़, पढ़े पूरी रिपोर्ट
अवैध कॉलोनी बसाने वालों पर कसेगा शिकंजा, यूपी के बिल्डरों पर कार्रवाई की तैयारी में योगी सरकार
ऑक्‍सीजन की आपूर्ति दुरुस्‍त करने को पीएम मोदी ने खुद संभाली कमान, उपलब्धता बढ़ाने के लिए बताए तीन उ...
रोटरी क्लब ग्रेटर नोएडा के सदस्य रक्तदान कर जरुरतमंदों की कर रहे हैं मदद
एबीवीपी ने डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के पुण्यतिथि पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया
नाले में डूबकर दो सफाईकर्मियों की मौत
बेकाबू हुआ कोरोना: लगातार तीसरे दिन एक लाख से अधिक नए मरीज, बीते 24 घंटे में ही 1.31 लाख केस, 800 से...
सपा ने एक दीप शहीदों के नाम कार्यक्रम का आयोजन किया
यूपी सरकार के साथ हुआ नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का अनुबंध, अब ये सुविधाएं भी होंगी उपलब्ध
भारोत्तोलन में रजत पदक जीतने वाली पहली भारतीय ओलंपियन, इस ओलंपिक में देश का पहला मेडल
ग्रेनो वेस्ट के आठ सोसाईटी में बीजेपी की आधिकारिक टीमों की घोषणा